Hindi News »Rajasthan »Nagar» मिलीभगत से सप्लाई आंगनबाड़ी केन्द्रों पर घटिया माल सप्लाई, दो गिरफ्तार

मिलीभगत से सप्लाई आंगनबाड़ी केन्द्रों पर घटिया माल सप्लाई, दो गिरफ्तार

जयपुर। समेकित बाल विकास सेवाएं कार्यालय व आंगनबाड़ी केन्द्रों में 18 करोड़ के घटिया क्वालिटी की अलमारी, टेबल व...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 11, 2018, 05:45 AM IST

  • मिलीभगत से सप्लाई आंगनबाड़ी केन्द्रों पर घटिया माल सप्लाई, दो गिरफ्तार
    +2और स्लाइड देखें
    जयपुर। समेकित बाल विकास सेवाएं कार्यालय व आंगनबाड़ी केन्द्रों में 18 करोड़ के घटिया क्वालिटी की अलमारी, टेबल व स्टील फर्नीचर सप्लाई के मामले में एसीबी ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही चार अफसरों सहित फर्म संचालकों व तीन मध्यस्थों के खिलाफ मामला दर्ज कर कर लिया। जांच में सामने आया है कि पकड़े गए दोनों आरोपी कुछ अफसरों के लिए लाइजनिंग का काम भी करते हैं। काम के बदल मोटी रकम लेकर अफसरों तक पहुंचाते है। दोनों के मोबाइल को एसीबी ने काफी दिनों से सर्विलांस पर ले रखा था।

    गिरफ्तार आरोपी सीके जोशी वैशाली नगर का एवं कमलजीत राणावत स्टेच्यू सर्किल के पास स्थित रॉयल एन-साइन में रहता है। मामले में समेकित बाल विकास सेवाएं के सहायक निदेशक सोमेश्वर देवड़ा, उद्योग विभाग में संयुक्त निदेशक पीआर शर्मा उर्फ पांचू राम शर्मा,आईसीडीएस के वित्तीय सलाहकार स्मिता सरीन ,श्रम विभाग में पीएस भगवान दास, सीके जोशी,फर्म टेक्नो-क्राफ्ट एसोसिएट के प्रोपराइटर विष्णु बनवानी, कमलजीत चारण व भवानी पालावत के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इस संबंध में एसीबी में पाली निवासी भोमेश्वर थानवी ने शिकायत की थी।

    एसीबी की जांच में सामने आया कि सहायक निदेशक सोमेश्वर देवड़ा ने प्राइवेट लोगों से मिलकर विष्णु बनवानी की फर्म को टेंडर दिला दिया। जिसमें सभी का एक एक प्रतिशत कमीशन तय कर दिया। मामले में आयुक्त से लेकर मंत्री से तक को गुमराह किया गया। मंत्री ने सैंपल के साथ चर्चा करने के निर्देश दिए मगर देवड़ा ने गलत तरीके से सैंपल लेकर मंत्री से चर्चा करने व अनुमोदन करने की बात नोटशीट पर लिखी। पत्रावली में बताया नहीं कि सैंपल कहां से व किसके द्वारा लाया गया।

    भास्कर ने करोड़ों रुपए के घटिया स्टील फर्नीचर सप्लाई करने का मामला उजागर किया था। जिस पर एसीबी ने पाली के भोमेश्वर की रिपोर्ट पर परिवाद दर्ज कर जांच की। जांच में सामने आया कि फर्म द्वारा टेंडर के लिए दिए गए दस्तावेजों के अनुरूप स्टील फर्नीचर बनाने की सुविधा ही नहीं है।

    एसीबी ने आठ मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लिए , 20 से ज्यादा आईएएस व आरएएस से संपर्क होना आया

    एसीबी ने मामले में कमलजीत सिंह राणावत के मोबाइल नंबर 7350155555,9960697935,7891714381,9649643936, सीके जोशी के मोबाइल नंबर 7597070500,9166133222, कपिल शर्मा के मोबाइल नंबर 9929129000 तथा 6375897611 को सर्विलांस पर रखा। इस दौरान इन तीनों लोगों की सचिवालय में 20 से ज्यादा आईएएस व आरएएस अफसरों से बातचीत हुई। इनमें कुछ अफसरों की संदिग्ध बातें भी है। एसीबी अब इनकी बातों को रिकार्ड पर ले रही है। तीनों लोग अधिकतर समय सचिवालय में ही रहते है।

  • मिलीभगत से सप्लाई आंगनबाड़ी केन्द्रों पर घटिया माल सप्लाई, दो गिरफ्तार
    +2और स्लाइड देखें
  • मिलीभगत से सप्लाई आंगनबाड़ी केन्द्रों पर घटिया माल सप्लाई, दो गिरफ्तार
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×