Hindi News »Rajasthan »Nagar» अवाम का दम : ‘दस का दम’ की शूटिंग जारी

अवाम का दम : ‘दस का दम’ की शूटिंग जारी

मुंबई के दादा साहब फालके नगर में रिलायंस स्टूडियो में सलमान खान के ‘दस का दम’ कार्यक्रम की शूटिंग जारी है और दो माह...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 19, 2018, 05:50 AM IST

अवाम का दम : ‘दस का दम’ की शूटिंग जारी
मुंबई के दादा साहब फालके नगर में रिलायंस स्टूडियो में सलमान खान के ‘दस का दम’ कार्यक्रम की शूटिंग जारी है और दो माह में खत्म होगी। इसके बाद उसी स्टूडियो में यह सेट तोड़ा जाएगा और ‘कौन बनेगा करोड़पति’ का सेट लगाया जाएगा। यह दुख की बात है कि इन दोनों का फॉर्मेट विदेश में बना है और भारतीय निर्माता इसके इस्तेमाल के लिए मोटी रकम बतौर रॉयल्टी देते हैं। हमने इतने दशकों में अपना कोई फॉर्मेट विकसित नहीं किया। इसके तकनीकी इंतजाम के लिए आधा दर्जन विदेशी विशेषज्ञ अपना तामझाम लेकर आए हैं। शून्य की महान खोज के बाद हम शून्य से बाहर ही नहीं निकल पाए। इस कार्यक्रम के दो दौर पहले प्रदर्शित हो चुके हैं। यह तीसरा दौर है। सिनर्जी कंपनी के सिद्धार्थ बासू ने ही इसका आयात किया था। अपनी कम्पनी वे रिलायंस एन्टरटेन्मेंट कम्पनी को बेच चुके हैं परन्तु परामर्शदाता के रूप में इससे जुड़े हैं। इस बार एक कदम यह उठाया गया है कि हर भाग लेने वाले व्यक्ति को कम से कम बीस हजार रुपए से लेकर अधिकतम दस लाख रुपए तक मिलने वाले हैं अर्थात प्रतियोगिता में विफल रहने वाला भी कुछ न कुछ पाएगा ही। एक तरह से यह ‘सर्वोदय आदर्श’ को निभाने का प्रयास है कि कतार में खड़े आखरी व्यक्ति को भी कुछ धन प्राप्त होगा।

एक बोनस यह है कि हर प्रतियोगी सलमान खान के साथ अपने मोबाइल पर एक ‘सेल्फी’ लेगा और यह तस्वीर उसके लिए यादगार होगी। इस बार प्रतियोगी को पांच प्रश्नों के उत्तर देने हंै और किसी एक प्रश्न के उत्तर देने के लिए वह अपने परिवार से मशविरा भी कर सकता है। प्रतियोगिता में भाग लेने वालों का चयन ऑनलाइन टेस्ट द्वारा किया गया जिसमें तीन माह का समय लगा। यह सब बहुत योजनाबद्ध तरीके से रिलायंस एन्टरटेन्मेंट कम्पनी ने किया। यह अनिल अम्बानी की कम्पनी है।

सारा कार्यक्रम इस तरह से रचा गया है कि उसके साथ ही सलमान खान अपनी आगामी फिल्म ‘रेस-3’ का काम भी करते रहे हैं। यह फिल्म ईद पर प्रदर्शित होगी। प्रश्न की बानगी देखिए कि कितने प्रतिशत युवा भारतीय विवाह का उत्तरदायित्व लेना ही नहीं चाहते या कितने प्रतिशत भारतीय आस्तिक हैं? प्रश्न बनाते समय जानकारी देने के साथ उसे मनोरंजक भी बनाने का प्रयास किया गया है। सारी जानकारियां ऑनलाइन ली गई हैं जिसका अर्थ है कि मोबाइल और अन्य गैजेट्स का इस्तेमाल जानने वालों के विचार ही प्राप्त किए गए हैं। इसलिए भारत आज क्या सोचता है की जानकारी इससे प्राप्त नहीं होती। सच तो यह है कि गणतंत्र व्यवस्था के आधार स्तंभ चुनाव से भी सब कुछ सही नहीं हो पा रहा है। आज हालात ये हैं कि हकीम लुकमान या महान नाड़ी वैद्य भी अवाम के मर्ज की थाह नहीं पा सकता। दुबके हुए आधे-अधूरों के विचार तर्कसम्मत नहीं हैं। इस तरह हम सभी वैकल्पिक विश्व के निवासी बन रहे हैं। विचारहीनता की ऐसी चादर बुनी जा रही है जिसे ओढ़कर हम मुतमइन महसूस करें।

बहरहाल ‘दस का दम’ कार्यक्रम की शूटिंग जारी है और इस बार उसमें कौन बनेगा करोड़पति का अंश भी शामिल है। इस दौर में रुपए की कीमत इस कदर घटी है कि एक डॉलर खरीदने के लिए करीब सत्तर रुपए देने होते हैं। एक डॉलर से अमेरिका में भोजन का जितना सामान खरीदा जा सकता है, उतना सामान हम सत्तर रुपए देकर भी नहीं जुटा पा रहे हैं। आर्थिक संसार में मुद्राओं का मूल्य घटता-बढ़ता रहता है परन्तु किस मुद्रा से कितना खरीदा जा सकता है और खरीदे हुए सामान की पौष्टिकता क्या है, इसका आकलन नहीं किया जाता है। अवाम इतना मजबूत है कि किसी भी तरह का भोजन करके बने रहता है क्योंकि सदियों से हमें ‘भूख ने बड़े प्यार से पाला है’। यही अवाम का दम सबसे बड़ा है।

जयप्रकाश चौकसे

फिल्म समीक्षक

jpchoukse@dbcorp.in

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×