• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagour
  • कृषक प्रशिक्षण कार्यशाला में बताए अधिक फसल पैदावार करने के तरीके
--Advertisement--

कृषक प्रशिक्षण कार्यशाला में बताए अधिक फसल पैदावार करने के तरीके

ग्राम पंचायत गोटन के अटल सेवा केंद्र पर गुरुवार को कृषकों की आत्मा व कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन योजना के तहत कृषक...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 05:35 AM IST
कृषक प्रशिक्षण कार्यशाला में बताए अधिक फसल पैदावार करने के तरीके
ग्राम पंचायत गोटन के अटल सेवा केंद्र पर गुरुवार को कृषकों की आत्मा व कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन योजना के तहत कृषक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें सेवा निवृत कृषि अनुसंधान अधिकारी अजमेर डॉ.. अनिल चौधरी तथा सहायक कृषि अधिकारी सत्यनारायण जोशी ने योजनाओं की जानकारी दी।

कार्यक्रम के दौरान कृषि तकनीकी, जैविक खेती, मसाला विकास जीरा, मैथी, सौंफ के अधिक उत्पादन लेने की जानकारी दी तथा जल हौज, फव्वारा सिचाई पद्धति, फलों में बूंद-बूंद सिंचाई करना, कृषि अनुदान जानकारी, कृषि यंत्र ,पौधरोपण जानकारी आदि के बारे में विस्तारपूर्वक बताया।

किसानों का प्रश्नोतरी प्रशिक्षण भी लिया गया। जिसमें प्रथम व द्वितीय स्थान पर रहे किसानों को पुरस्कार प्रदान किया। इस अवसर पर पंचायत प्रसार अधिकारी बाबूलाल तालेपा, आत्मा योजना के कमलेश कुमार, सहायक कृषि अधिकारी सहदेव वैष्णव ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर जागरूक किसान उपस्थित थे।

किसानों को दी रोग निस्तारण की जानकारी

मींडा |
कृषि पर्यवेक्षक क्षेत्र मींडा ग्राम पंचायत के राजस्व गांव तकिया, भींवपुरा एवं ठिकरियां में कृषि सहायक अधिकारी मारोठ डाॅ. प्रमोद कुमावत एवं कृषि पर्यवेक्षक मींडा ओमप्रकाश रेगर ने क्षेत्र का भ्रमण कर कृषकों को फसल में कीट रोग नियंत्रण सहित विभिन्न जानकारियां दी।

कुमावत ने जौ, गेहूं,अलसी, पालक आदि फसलों में एफिड नियंत्रण के लिए डाईमिथोएट 30 ईसी अथवा मोनोक्रोटोफॉस 36 एसएल दवा का एक लीटर प्रति हैक्टेयर की दर से छिड़काव की सलाह दी।

एफिड के नियंत्रण के लिए अजेडिरेक्टिन 0.3 ईसी 1.5 लीटर प्रति हेक्टेयर अथवा सूर्य की रोशनी में किण्वित गोमुत्र का 10 प्रतिशत का छिड़काव भी प्रभावी है। दीमक नियंत्रण के लिए क्लोरोपायरीफास 20 ईसी दवा को 4.5 लीटर को 100 किलो बजरी में मिलाकर भूरकाकर सिंचाई करे अथवा एमीडाक्लोप्रिड 17.8 एसएल दवा का 500 मिली प्रति हैक्टेयर की दर से छिड़काव करने की सलाह दी। साथ ही फसलों में अच्छी उपज के लिए थामोयुरिया 0.5 ग्राम प्रति लीटर से छिड़काव करने की सलाह दी। इस अवसर पर किसानों को विभिन्न उपायों के माध्यम से फसलों को बचाने के तरीके भी बताए गए। ताकि उन्हें और अधिक लाभ हो सके।

X
कृषक प्रशिक्षण कार्यशाला में बताए अधिक फसल पैदावार करने के तरीके
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..