• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagour
  • डीडवाना में 12 बासों की गैर, कुचामन में महामूर्ख सम्मेलन में आज दिखेगा हास्य रंग
--Advertisement--

डीडवाना में 12 बासों की गैर, कुचामन में महामूर्ख सम्मेलन में आज दिखेगा हास्य रंग

Nagour News - होली पर्व पर यह परंपरा सिर्फ डीडवाना में है। जिसको राजकीय गैर के नाम से जाना जाता है। 1938 से हाकम की गैर मानी जाती थी।...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 05:00 AM IST
डीडवाना में 12 बासों की गैर, कुचामन में महामूर्ख सम्मेलन में आज दिखेगा हास्य रंग
होली पर्व पर यह परंपरा सिर्फ डीडवाना में है। जिसको राजकीय गैर के नाम से जाना जाता है। 1938 से हाकम की गैर मानी जाती थी। तब से लेकर आज तक यह गैर इसी नाम से है। इसमें डोलची खेलने वाले सभी गैरिए कोर्ट परिसर में एकत्रित होते है और सबसे पहले इनमें से एक व्यक्ति एसडीएम की पीठ पर डोलची मारता है उसके बाद एसडीएम वार करते है और वहां से यह गैर रवाना होकर निर्धारित स्थानों पर जाकर परंपरागत तरीके से डोलची मार खेलते है। इसी प्रकार शाम को माली समाज की ओर से भी एक विशेष गैर निकाली जाती है। इसमेंनगर के 12 बासों में निवास करते है वे सभी विचित्र वेशभूषाओं में दोपहर 3 बजे से निकलेंगे और शाम 7 बजे आडका बास पहुंचेंगे। जहां भव्य मेले का आयोजन होगा।

नेता हो या मंत्री मिलता है यहां महामूर्खाधिराज सिंहासन

कुचामन सिटी| संस्कृति जागरण समिति व पालिका की तरफ से महामूर्ख सम्मेलन गुरुवार शाम होगा। इस बार महामूर्खाधिराज के सिंहासन पर कुचामन वैली के प्रमोटर राजकुमार माथुर विराजित होंगे। मेला कमेटी अध्यक्ष गोपाल कुमावत ने बताया कि जैन स्कूल में महामूर्ख एवं कवि सम्मेलन होगा। 25वें महामूर्खाधिराज की पदवी दी जाएगी। माटी कला बोर्ड अध्यक्ष हरीश कुमावत, विधायक विजयसिंह, पालिकाध्यक्ष राधेश्याम आदि शामिल होंगे।

हास्य-व्यंग्य पर लगेंगे ठहाके कवि सम्मेलन में गीतकार-कवि दिनेश सिंघल, धमचक मुल्तानी, आकाश नौरंगी,दिनेश दीवाना, शायर विकाशराज एवं कवयित्री मीनू शर्मा आएंगे।

इतिहास : 20 साल पहले सारड़ा बने थे महामूर्खाधिराज

कुचामन सिटी | शहर में होली के मौके पर महामूर्ख सम्मेलन करीब 3 दशक से आयोजित किया जा रहा है। इसके शुरुआती वर्षों में माटी कला बोर्ड अध्यक्ष हरीश कुमावत, तत्कालीन पालिकाध्यक्ष नटवरलाल बक्ता, कुचामन विकास समिति के संस्थापक-अध्यक्ष बालकृष्ण सारड़ा, दल्लाराम चौधरी आदि को महामूर्खाधिराज की पदवी दी गई थी। गौरतलब है कि शहर के प्रतिष्ठित राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक और व्यावसायिक क्षेत्र में विशिष्ट व्यक्ति का चयन कर महामूर्खाधिराज बनाकर कुचामन-र| से भी नवाजा जाता है। इस समारोह के साथ ही कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाता है। जिसमें देश-प्रदेश के नामचीन कवि अपनी रचनाएं प्रस्तुत करते हैं।

X
डीडवाना में 12 बासों की गैर, कुचामन में महामूर्ख सम्मेलन में आज दिखेगा हास्य रंग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..