--Advertisement--

जैन साध्वी बोलीं- ज्ञान स्वरूप है आत्मा

नागौर | श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ की ओर से बुधवार को जयमल जैन पौषधशाला में प्रवचन का आयोजन किया...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:00 AM IST
नागौर | श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ की ओर से बुधवार को जयमल जैन पौषधशाला में प्रवचन का आयोजन किया गया। साध्वी एसएस जैन समणी डॉ. सुयशनिधि व सुयोगनिधी ने कहा कि आत्मा ज्ञान स्वरूप है, राग स्वरूप नहीं। आज कंप्यूटर युग में लाखों करोड़ों किताबें इंटरनेट पर मिल जाएंगी, लेकिन जब तक वह साधक को आत्मा से पहचान नहीं करवाता। वह केवल ज्ञान मात्र रह जाएगा। समणी सुयशनिधि ने ज्ञान कंठस्थ करने की प्रेरणा दी।