• Home
  • Rajasthan News
  • Nagour News
  • Nagaur - 100 साल बाद योग, शुभ मुहूर्त में लाएंगे बप्पा तो विघ्न होंगे दूर
--Advertisement--

100 साल बाद योग, शुभ मुहूर्त में लाएंगे बप्पा तो विघ्न होंगे दूर

ऋद्धि-सिद्धि के दाता गणपति बप्पा गुरुवार को घर-घर और शहर-गांव में विराजेंगे। गणेश चतुर्थी उत्सव 13 सितंबर से शुरू हो...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 05:25 AM IST
ऋद्धि-सिद्धि के दाता गणपति बप्पा गुरुवार को घर-घर और शहर-गांव में विराजेंगे। गणेश चतुर्थी उत्सव 13 सितंबर से शुरू हो रहा है। इसकी तैयारियों में कार्यकर्ता व श्रद्धालु जुट गए है। यह उत्सव 13 से 17 सितंबर तक चलेगा। लेकिन इस बार खास यह है कि गणेश उत्सव बेहद शुभ योग में शुरू हो रहा है।

13 सितंबर को ही गुरु स्वाति योग भी बन रहा है। ज्योतिषियों के मुताबिक यह अत्यंत दुर्लभ और शुभ योग करीब सैकड़ों वर्षों बाद बनने जा रहा है। ज्योतिषाचार्य पंडित विमल पारीक के अनुसार इस दिन भगवान श्री गणेश की मूर्ति को स्थापित करना बेहद शुभ है। इस योग में घर में बने मंदिर में भी मूर्ति स्थापित करना शुभ माना जाता है। इस दिन गुरुवार होने से यह देवताओं के गुरु का दिन है।

इसलिए इस नक्षत्र और वार में रिद्धि-सिद्धि के दाता भगवान श्री गणेश की स्थापना करने से घर-परिवार में सुख-समृद्धि का वास होता है। उन्होंने बताया कि शुभ नक्षत्र में श्री गणेश का आगमन शुभ फल प्रदाता माना गया है।

भाद्रपद मास की चतुर्थी पर इस प्रकार का संयोग करीब 100 साल बाद बना है। उन्होंने बताया कि चतुर्थी तिथि के देवता भगवान गणेश हैं। जो रिद्धि सिद्धि प्रदान करते हैं। गुरु स्वाति योग में 10 दिवसीय गणेश उत्सव में विधिवत पूजा मनोवांछित फल प्रदान करने वाली रहेगी।

इस दिन सारे विध्न होंगे दूर

पंडित आचार्य विमल पारीक के अनुसार वैदिक पंचांग के मुताबिक चतुर्थी तिथि के दिन गुरु स्वाति संयोग होने से भगवान श्री गणेश मूर्ति की स्थापना सुख-समृद्धि के साथ सिद्धिदायक भी होती है। पंडित कमलेश शर्मा का कहना है कि स्वाति नक्षत्र को कार्य सिद्ध नक्षत्र माना गया है। इस नक्षत्र के अधिपति देवता वासुदेव होते हैं। इस नक्षत्र के चारों चरण तुला राशि के अंतर्गत आते हैं। जिसके स्वामी शुक्र है। शुक्र धन-संपदा, भौतिक वस्तुओं और हीरे का प्रतिनिधि ग्रह है।

गणेश महोत्सव को लेकर तैयारियां हुई शुरू, अनेक धार्मिक कार्यक्रमों का भी होगा आयोजन

नावां में मूर्ति स्थापना 13 को, विसर्जन 17 सितंबर को

शहर में गणपति मित्र मंडल द्वारा गणपति महोत्सव के उपलक्ष में आयोजित मूर्ति स्थापना 13 सितंबर को सुबह 10:15 बजे धुत भवन पुराने थाने के पास होगी। इस दौरान बप्पा के पांडाल में रोजाना दोपहर 12:15 बजे व शाम 7:15 बजे आरती होगी। 15 सितंबर को रात 8:15 बजे बाद भजन संध्या का आयोजन होगा। वहीं 17 सितंबर को सुबह 10:15 बजे शोभायात्रा रवाना होगी और दोपहर 1 बजे प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा। दीपेश मिश्रा, रौनक लढ़ा, मनोज अग्रवाल, गोविंद, मोहित मिश्रा, निकित दाधीच, डैनी अग्रवाल, राजू सोनी, सुशील अग्रवाल, संदीप सोनी, विकास शर्मा, योगेश सैनी, कुनाल शर्मा, सत्यप्रकाश टेलर सहित अन्य ने महोत्सव की तैयारियां शुरू कर दी है।