• Home
  • Rajasthan News
  • Nagour News
  • लाडनूं पुलिस पर हमले का मामला: 21 नवंबर की रात तय था, कोई रोके तो गोलियां चलानी है
--Advertisement--

लाडनूं पुलिस पर हमले का मामला: 21 नवंबर की रात तय था, कोई रोके तो गोलियां चलानी है

भास्कर संवाददाता | नागौर/जसवंतगढ़ 21 नवंबर 2017 की रात को नाकाबंदी के दौरान लाडनूं पुलिस पर हमला करने वाले निंबी जोधा...

Danik Bhaskar | May 15, 2018, 05:20 AM IST
भास्कर संवाददाता | नागौर/जसवंतगढ़

21 नवंबर 2017 की रात को नाकाबंदी के दौरान लाडनूं पुलिस पर हमला करने वाले निंबी जोधा में होटल चलाने वाले 2 सगे भाई ही थे। दोनों भाई शराब तस्कर हैं। चूरू, सीकर व नागौर जिले में इनका बड़ा नेटवर्क है।

सोमवार को जसवंतगढ़ पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट पर डीडवाना सब जेल से गिरफ्तार किया है। जांच में खुलासा हुआ है कि दोनों भाई जब भी तस्करी की शराब ले जाते तो साथ में हथियार रखते। उस दिन रात को भी इन्होंने पहले से ही प्लानिंग कर ली थी कि लाडनूं में पुलिस अगर उन्हें रोकती है तो एक भाई सीधे फायर करेगा। दूसरा भाई गाड़ी को तेज भगाएगा। पिछले साल 21 नवंबर को कसूंबी गांव में तस्करों की सूचना पर नाकाबंदी कर रहे लाडनूं के तत्कालीन थानाधिकारी भजनलाल व टीम पर एक बिना नंबरी पिकअप में सवार लोगों ने पहले फायरिंग फिर वाहन चढ़ाकर मारने का प्रयास किया था। पुलिस को साढ़े पांच माह आरोपियों के बारे में सुराग नहीं मिले। लेकिन 9 मई की रात को जब पुलिस ने निंबी जोधा में होटल प्रिंस पर छापा मारा तो वहां पर शराब तस्करी के रैकेट का खुलासा हुआ। होटल संचालक 2 सगे भाइयों मोहनलाल ढाका व कंवरीलाल ढाका को गिरफ्तार किया गया। उनसे पूछताछ में यह सामने आया कि पिछले साल 21 नवंबर की रात को पुलिस पर हमला करने वाले ही यह दोनों भाई थे। सोमवार को जसवंतगढ़ पुलिस दोनों आरोपियों को डीडवाना की सब जेल से प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर लाई।

शातिर दिमाग

कसूंबी में छिपे थे, मोबाइल बंद किए, इसलिए नहीं पकड़े गए

मोहनलाल व कंवरीलाल दोनों ही पुलिस पर हमला करने के बाद कसूंबी में छिपे थे। चूंकि इनको मोबाइल लोकेशन ट्रेस होने का डर था। इसलिए मोबाइल भी बंद कर लिए थे। पुलिस से ज्यादा कसूंबी की गलियों के बारे में दोनों आरोपियों को नॉलेज था। इसलिए उस रात यह पकड़े नहीं जा सके।

पहले से कई मुकदमे, लाडनूं में बना रखा था दबदबा

जसवंतगढ़ थानाधिकारी कैलाश विश्नोई ने बताया कि मोहनराम पर 4 व कंवरीलाल पर दो मुकदमे पहले से शराब तस्करी के हैं। दोनों से पूछताछ की जा रही है। दोनों भाइयों का लाडनूं इलाके में दबदबा होने की वजह से कोई भी इनके खिलाफ पुलिस को सूचना नहीं देता।