Hindi News »Rajasthan »Nagour» बारिश के मौसम से पहले कंवलीसर के ग्रामीणों ने अभियान चलाकर गांव के तालाब की सफाई की

बारिश के मौसम से पहले कंवलीसर के ग्रामीणों ने अभियान चलाकर गांव के तालाब की सफाई की

कंवलीसर गांव में ग्रामीणों ने सफाई अभियान चला बारिश से पहले तालाब की सफाई की। विश्नोई टाइगर्स वन्य एवं पर्यावरण...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 16, 2018, 05:30 AM IST

  • बारिश के मौसम से पहले कंवलीसर के ग्रामीणों ने अभियान चलाकर गांव के तालाब की सफाई की
    +3और स्लाइड देखें
    कंवलीसर गांव में ग्रामीणों ने सफाई अभियान चला बारिश से पहले तालाब की सफाई की। विश्नोई टाइगर्स वन्य एवं पर्यावरण संस्था के समन्वयक नरेश पूनिया ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत ग्रामीणों ने पारंपरिक जल स्रोतों की सफाई की। इस दौरान ग्राम पंचायत झाड़ीसरा के गांव कंवलीसर के लोगों ने श्रमदान किया। उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरित होकर बीते 5 वर्षों से गांव के ग्रामीण मिलकर तालाबों की खुदाई व सफाई कर रहे है। इस मौके पर गांव के भामाशाहों द्वारा जेसीबी और ट्रॉलियों से श्रमदान में योगदान दिया। इस मौके पर रामदीन, लेखराम, हनुमान, श्रीराम, रामेश्वर, मोहनराम, ओमप्रकाश, रामदयाल, जगदीश सारण, सही राम, अन्नाराम सियाग, प्रेमसुख, हरिराम, रामस्वरूप, हनुमान, बीरबल, रामरख, ओमप्रकाश पूनिया ने श्रमदान में भाग लिया।

    मूंडवा आंचलिक | कस्बे के बागवानों की गली में पानी सप्लाई की समस्या दूर होने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को मोहल्ले के शिवनारायण, नंदकिशोर, हेमंत आदि ने पूरे दिन नहरी विभाग के कार्मिकों के साथ मिलकर जलापूर्ति व्यवस्था को दुरूस्त कराने में सहयोग किया। नहरी विभाग के रमेश राठौड़ के साथ आई टीम ने यहां पर पाइप लाइन को सही कर सप्लाई दी तो बागवानों की गली में पानी पहुंचा। अपने घरों में पानी आता देख कर मोहल्ले के लोगों ने खुशी जताई। लेकिन मात्र 5 मिनट ही पानी की सप्लाई हुई। वहीं जलदाय विभाग के एईएन हरगोविंद मीणा ने बताया कि अब बुधवार को इस पाइप लाइन को दुबारा साफ करवाया जाएगा। देखते हैं कि इस लाइन में कितना कचरा और निकलता है। यदि इसमें और कचरा निकलता है तो इस लाइन को आगे और खोल कर साफ करवाया जाएगा।

    नागौर. दस दिनों से नया दरवाजा क्षेत्र में पाइप लाइन लीकेज से लोग हो रहे हैं परेशान।

    रेण | ग्राम पंचायत रेण के राजस्व गांव थला की ढाणी, राहड़ों का बास, मेघवालों के बास में पाइप लाइन तो बिछाई हुई है मगर उच्चाधिकारी पाइप लाइन को जलदाय विभाग मेड़ता से नहीं जोड़ रहे हैं। जिससे गर्मी की मौसम में ग्रामीणों को परेशानी हो रही है।

    लूणावास में पिछले एक साल से नहीं आ रहा नहरी प्वांइटों में पानी, मीठे पानी की समस्या के चलते ग्रामीण परेशान

    खींवसर | लूणावास गांव में एक साल से नहरी प्वांइटों में पानी की आपूर्ति नहीं होने के कारण ग्रामीणों को पीने की पानी की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। गांव के कुम्हारों की ढाणियां, कालीरावणों की ढाणियां व आबादी क्षेत्र में लगे मीठे पानी की सप्लाई के लिए नहरी प्वांइटों तक पानी नहीं पहुंचने के कारण जलापूर्ति ठप पड़ी है। साल भर से प्वांइटों तक पानी नहीं आने के कारण प्वांइटों में लगी टूंटियां खराब हो गई है। शेराराम प्रजापत, श्रवणराम कालीरावणा, घमंडाराम मेघवाल, जालाराम, मंगलाराम सहित कई ग्रामीणों ने बताया कि गांव में नहरी पानी पहुंचाने के लिए सरकार ने लाखों रुपए खर्च कर पाइप लाइन बिछाकर प्वांइट तो लगा दिए। लेकिन गांव में एक साल से पानी नहीं पहुंच रहा है। जिससे ग्रामीणों के लिए पानी की किल्लत बनी हुई है। ग्रामीणों ने बताया कि बारिश के जल से भरा तालाब 2 माह पूर्व ही सूख जाने के कारण मजबूरी में ग्रामीणों को फ्लोराइड युक्त पानी पीना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में मीठे पानी की आपूर्ति करवाने की मांग को लेकर कई बार नहरी विभाग के अधिकारियों को अवगत कराया लेकिन अधिकारियों ने हमेशा ग्रामीणों की समस्या की अनदेखी की है। ग्रामीणों ने बताया कि अगर शीघ्र ही गांव में मीठे पानी की जलापूर्ति नहीं की गई तो ग्रामीणों द्वारा नहरी विभाग के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा।

    कंवलीसर के ग्रामीण बीते 5 साल से लगातार तालाब की सफाई में देते है अपना योगदान

    नागौर. कंवलीसर गांव में तालाब में श्रमदान करने पहुंचे ग्रामीण।

    मेड़ता सिटी (आंचलिक) | शहर के सिविल लाइन क्षेत्र के लोगों ने जलदाय विभाग एक्सईएन को ज्ञापन पेश कर नई पाइप लाइन बिछा जलापूर्ति सुचारू किए जाने की मांग की है। ज्ञापन में बताया कि सिविल लाइन स्थित सुभाष नगर कॉलोनी में स्थित शिशु निकेतन एवं मरुधर डिफेंस स्कूल की बीच गली में 30 वर्ष पूर्व भूमिगत पाइप लाइन बिछाई गई थी। जो कि वर्तमान में चॉक हो चुकी है। जिससे क्षेत्र में पेयजल संकट बना रहता है। ऐसे में नई पाइप लाइन बिछा कर क्षेत्र में जलापूर्ति सुचारू की जावें। वहीं समीप के करकवाल एवं करकवाल बासनी सुमेर में स्थित जीएलआर में जलापूर्ति नहीं होने के कारण ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

    रोल कस्बे में रामदेव नाडा सूखने से जलसंकट, ग्रामीणों ने की जीएलआर निर्माण की मांग

    रोल | क्षेत्र के अनेक गांवों में तालाब व नाडों के सूखने के साथ ही पेयजल संकट की स्थिति गहरा गई है जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। रोल कस्बे के माताजी रोड स्थित रामदेव नाडा के सूखने से इंदिरा कॉॅलोनी व ढाणियों के लोगों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने बताया कि नाडे के सूखने से जहां एक ओर लोगों को पेयजल संकट स्थिति का सामना करना पड़ रहा है वहीं दूसरी ओर पशुओं को पानी पिलाने के लिए पशुपालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने बताया कि अगर इंदिरा कॉॅलोनी में जीएलआर का निर्माण करवा दिया जाए तो पेयजल संकट से निजात मिल सकती है। जीएलआर के निर्माण को लेकर कई बार मांग भी की। मगर कोई सुनवाई नहीं हुई। जिससे लोगों में रोष व्याप्त है।

  • बारिश के मौसम से पहले कंवलीसर के ग्रामीणों ने अभियान चलाकर गांव के तालाब की सफाई की
    +3और स्लाइड देखें
  • बारिश के मौसम से पहले कंवलीसर के ग्रामीणों ने अभियान चलाकर गांव के तालाब की सफाई की
    +3और स्लाइड देखें
  • बारिश के मौसम से पहले कंवलीसर के ग्रामीणों ने अभियान चलाकर गांव के तालाब की सफाई की
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×