Hindi News »Rajasthan »Nagour» अगले सप्ताह तय होगी 12वीं के रिजल्ट की तारीख, मेरिट जारी नहीं होगी

अगले सप्ताह तय होगी 12वीं के रिजल्ट की तारीख, मेरिट जारी नहीं होगी

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं कक्षा के रिजल्ट जारी करने की तारीख अगले सप्ताह तक तय हो सकती है। इस साल भी बोर्ड...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 13, 2018, 05:35 AM IST

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं कक्षा के रिजल्ट जारी करने की तारीख अगले सप्ताह तक तय हो सकती है। इस साल भी बोर्ड मेरिट सूची जारी नहीं करेगा। इसे लेकर स्कूल सवाल उठा रहे हैं। बोर्ड ने 60 साल की परंपरा को यह कहते हुए बंद कर दिया था कि योग्यता सूची में स्थान बनाने के लिए स्कूल, शिक्षक व अभिभावक विद्यार्थियों पर दबाव बनाते हैं।

इससे प्रतिभाशाली परीक्षार्थी अनावश्यक मानसिक तनाव में रहते हैं। हालांकि बोर्ड ने निर्णय लिया था कि प्रथम विद्यार्थी को स्वर्ण पदक, द्वितीय व तृतीय को रजत पदक दिया जाएगा। यह सूची नए सत्र से पहले जारी करनी थी, लेकिन एक साल बीतने के बाद भी इसे जारी नहीं किया गया है। इसे लेकर नागौर की स्कूलों का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि पहले से तीसरे नंबर की मेरिट यहां के स्कूलों के बच्चों की है, इसलिए बोर्ड जानबूझकर इसे जारी नहीं कर रहा है। स्कूलों का तर्क है कि सालभर विद्यार्थी अपना नाम मेरिट सूची में दर्ज कराने के लिए मेहनत करते हैं। सरकार ने सरकारी स्कूलों को फायदा पहुंचाने के लिए मिशन मेरिट योजना चलाई है।

इसलिए राज्यस्तरीय मेरिट जारी नहीं की जा रही। यह भी तर्क दिया जा रहा है कि विभिन्न परीक्षाओं में कैटेगरी वाइज रैंक व ओवरऑल रैंक जारी की जा रही है। बोर्ड के उपनिदेशक-गोपनीय जीके माथुर का कहना है कि पिछले साल के टॉपर तीन विद्यार्थियों की सूची जल्द जारी कर दी जाएगी। उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक जारी कर दी जाए।

मेरिट बंद के पीछे बोर्ड व स्कूलों का तर्क

बोर्ड : विद्यार्थियों पर अनावश्यक मानसिक तनाव व शिक्षकों-अभिभावकों का दबाव रहता है।

स्कूल : सरकारी स्कूलों में सरकार की योजना मिशन मेरिट का फेल होना व सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों का मेरिट में जगह नहीं बना पाना।

बोर्ड : संवीक्षा के बाद मेरिट लिस्ट में बदलाव होता है।

स्कूल : ऐसी कोई परीक्षा नहीं है, जिसमें संवीक्षा का ऑप्शन नहीं हो। बड़ी भर्ती परीक्षाओं में भी रिजल्ट कई बार बदल जाते हैं। इसका मतलब यह तो नहीं है कि भर्ती परीक्षाएं आयोजित करना ही बंद कर दिया जाए।

बोर्ड : विद्यार्थियों द्वारा गलत कदम उठाने का डर रहता है।

स्कूल : सभी प्रवेश परीक्षाओं व बड़ी भर्ती परीक्षाओं में भी कैटेगरी वाइज व ओवरऑल रैंक निकाली जाती है। इसलिए यह तर्क देना गलत है।

बोर्ड : सीबीएसई की तर्ज पर मेरिट बंद की गई है।

स्कूल : हकीकत यह है कि सीबीएसई भी अपने प्रत्येक रीजन के परिणाम में तीन टॉपर विद्यार्थियों का नाम रिजल्ट के साथ ही जारी करता है।

31 केंद्रों पर पीटीईटी कल, केंद्राधीक्षक-परीक्षार्थी नहीं ले जा सकेंगे मोबाइल

महर्षि दयानंद सरस्वती यूनिवर्सिटी अजमेर द्वारा 31 केंद्रों पर पीटीईटी एवं 4 वर्षीय प्री-बीए बीएड की परीक्षा रविवार को 31 केंद्रों पर होगी। परीक्षा की तैयारियों को लेकर बैठक शनिवार को होगी। विशेष जिला पर्यवेक्षक डॉ हरसुख राम छरंग ने बताया कि परीक्षा के लिए कुल-11795 विद्यार्थी पंजीकृत है। उन्होंने बताया कि जिले में जिन 31 केंद्रों पर परीक्षा होगी, वहां जांच के लिए 16 उड़नदस्ते गठित किए है। परीक्षा दोपहर दो से शाम पांच बजे तक होगी। परीक्षा में केंद्राधीक्षक सहित पर्यवेक्षक प्रश्न-पत्र खोलते समय अपने पास मोबाइल नहीं रख सकेंगे। साथ ही अभ्यर्थी आईकार्ड, एक फोटो पहचान पत्र, पेंसिल, पेन के अलावा बैग, केलकुलेटर, मोबाइल, पर्स, घड़ी सहित अन्य कोई सामान अंदर नहीं ले जा सकेंगे। परीक्षा जिला मुख्यालय के 28 केंद्रों पर पीटीईटी के लिए 9295 परीक्षार्थी पंजीकृत है। जिला मुख्यालय के 3 केंद्रों पर होने 4 वर्षीय इंटीग्रेटेड कोर्स बीए-बीएड परीक्षा के लिए 2500 परीक्षार्थी पंजीकृत है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×