--Advertisement--

एसएचओ और एएसआई पर अब तक नहीं हुई कार्रवाई

खींवसर क्षेत्र के डेहरू में डाक कार्मिक द्वारा मनरेगा के भुगतान को फर्जी तरीके से उठा लेने के प्रकरण में खींवसर...

Danik Bhaskar | Aug 12, 2018, 05:46 AM IST
खींवसर क्षेत्र के डेहरू में डाक कार्मिक द्वारा मनरेगा के भुगतान को फर्जी तरीके से उठा लेने के प्रकरण में खींवसर पुलिस थाना एसएचओ और एएसआई पर अब तक कार्रवाई नहीं हुई है। यह हालात तब है जब सतर्कता समिति की बैठक में एसएचओ और एएसआई के खिलाफ कार्रवाई के लिए निर्णय लिया गया था। इसी कार्रवाई होने के डर से ही एक अगली बैठक तक मामला दर्ज कर लिया गया। लेकिन बैठक में मामला दर्ज करने से मना करने वाले अफसरों पर कार्रवाई नहीं हो सकी। जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत डेहरू के बकाया भुगतान को लेकर शिकायतकर्ता ने परिवाद दिया था। जिसके बाद अधिशाषी अभियंता मनरेगा रमजान अली ने इस प्रकरण की जांच की। जिसमें ग्राम वासियों ने कहा कि उनके द्वारा राशि नहीं ली गई है। डाकघर से भुगतान भी नहीं मिला है। कुल 106 में से 27 ने राशि आहरण नहीं करना बताया है। इसके बाद एएसपी को मामला दर्ज करवाने के लिए कहा गया। रिपोर्ट पेश होने के बाद बैठक में एएसपी को निर्देश दिए गए कि दोषियों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया जाए ताकि कार्रवाई हो सके। सीईओ ने खींवसर थाने में पत्रावली जमा करवाई ताकि मामला दर्ज हो सके। लेकिन सहायक उप पुलिस निरीक्षक ने बताया कि थानाप्रभारी अवकाश पर है इसलिए मामला दर्ज नहीं हो सकता है। बैठक में एएसपी से खींवसर विधायक ने भ्रष्टाचार का मामला दर्ज नहीं करवाने का कारण पूछा। बैठक में कार्रवाई करने के निर्देशों के बाद भी पुलिस ने मामला ही दर्ज नहीं किया।

कार्रवाई के दबाव में हुआ था मामला दर्ज

दबाव आया तो खींवसर पुलिस ने मामला दर्ज किया। लेकिन राजकार्य में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज नहीं करने के समिति की बैठक के निर्णयों की पालना नहीं करने वाले एसएचओ रमेश सिंह और एएसआई पर कार्रवाई अब तक नहीं हो सकी है। इस संबंध में गत दिनों हुई बैठक में खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने भी पुलिस अधीक्षक द्वारा प्रकरण में अनभिज्ञता जाहिर करने पर नाराजगी जताई थी। विधायक ने कहा था कि ऐसी बैठकों का क्या औचित्य जब निर्णयों की पालना नहीं हो रही है। इस संबंध में एसपी हरेंद्रकुमार ने कहा कि यह मामला उनके ज्वाइन करने के पहले का है। इस केस के दस्तावेज देखने और जानकारी लेने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा।