--Advertisement--

गुरु और शिष्य का रिश्ता अनमोल : महंत संपतराम

श्री रामनामी ट्रस्ट रामपोल में चातुर्मास की धर्मसभा को संबोधित करते हुए रामनामी महंत संपतराम महाराज ने कहा कि...

Dainik Bhaskar

Aug 06, 2018, 05:51 AM IST
श्री रामनामी ट्रस्ट रामपोल में चातुर्मास की धर्मसभा को संबोधित करते हुए रामनामी महंत संपतराम महाराज ने कहा कि गुरु और शिष्य का रिश्ता काफी अनमोल होते है। इनकी रक्षा करनी चाहिए। क्योंकि यह परम पवित्र रिश्ता है।

इनको मिटने और टूटने से बचाएं। वैसे शास्त्रों में आया है कि जीव शिव का ही अंश है। यानि गुरू को परमात्मा का दूसरा स्वरूप माना है। इसलिए यह रिश्ता हमारे सनातन धर्म में बहुत महत्व रखता है। इसको निभाना हम सबका कर्तव्य बनता है। वैसे रिश्ते हमारे जीवन का सूत्र व फूल है। जिन्हें ईश्वर ने स्वयं ही हमारे लिए खिलाया है और बनाया है। याद रहे यह रिश्ता बहुत पुराना है आज कल का नहीं है। जैसे माता-पिता, बेटी-बहन, भुआ ननंद आदि रिश्ता है।

लेकिन यह तो परिवार रिश्ता मायाजाल का बंधन का कारण बनता है। इसलिए इनको यानि शरीर तक ही महत्व देना चाहिए। परंतु भगवान एवं भक्त का रिश्ता तो आदि अनादि काल माना गया है। शास्त्रों में यह आत्मा एवं परमात्मा का असली रिश्ता है। परम पवित्र है। इसका मान स मान आदर सत्कार चाहिए एवं बढ़ाने का प्रयास करे। इस अवसर पर संत हरिविलास और संत मुरलीराम सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु इस दौरान उपस्थित रहे।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..