Hindi News »Rajasthan »Nagour» पुरुषोत्तम माह शुरू, एक माह तक मांगलिक कार्य वर्जित, मंदिरों में मनोरथों की रहेगी धूम, 11 साल पहले ज्येष्ठ माह में था अधिकमास

पुरुषोत्तम माह शुरू, एक माह तक मांगलिक कार्य वर्जित, मंदिरों में मनोरथों की रहेगी धूम, 11 साल पहले ज्येष्ठ माह में था अधिकमास

अधिक मास (पुरुषोत्तम) ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा बुधवार को शुरू हो गए, जो 13 जून तक चलेंगे। इस दौरान विवाह, गृह प्रवेश...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 17, 2018, 05:55 AM IST

अधिक मास (पुरुषोत्तम) ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा बुधवार को शुरू हो गए, जो 13 जून तक चलेंगे। इस दौरान विवाह, गृह प्रवेश जैसे मांगलिक कार्य वर्जित रहेंगे। वहीं शहर प्रमुख मंदिरों में मनोरथों की धूम शुरू हो जाएगी। अधिक मास में किए दान-पुण्य और धार्मिक आयोजन का कई गुना फल देने वाले बताए गए हैं। आस्था शहर के विभिन्न मंदिरों में पहले दिन से श्रीमद् भागवत कथा, भजन-कीर्तन और शाम को झांकियों को मनोरथों की धूम शुरू हो जाएगी। जो पूरे एक माह तक जारी रहेगी। धार्मिक मान्यता के मुताबिक पुरुषोत्तम मास में थोड़े दान का भी बड़ा पुण्य माना जाता है। जल मंदिर, बावड़ी, पक्षियों के लिए परिंडे, वृद्ध सेवा, अनाथों की सेवा आदि को विशेष फलदायी माना गया है।

इसलिए नहीं किए जाते हैं विवाह, मांगलिक कार्य

उन्होंने बताया कि सूर्य वर्ष के 12 महीनों में प्रतिमाह 12 राशियों में संचरण (संक्रमण) होता है, जिससे संवत्सर बनता है। अमावस्या से अमावस्या तक जिस माह में सूर्य का किसी भी राशि में संक्रमण (मास संक्रांति) नहीं होता है तो वह अधिकमास कहलाता है। कभी-कभी अमांत मास (एक अमावस्या से दूसरी अमावस्या) में दो बार संक्रांति आ जाती है, उसे क्षय मास कहते हैं। अधिकमास और क्षय मास दोनों ही मलमास माने जाते हैं। इसलिए इनमें विवाह, गृह प्रवेश जैसे मांगलिक कार्य नहीं किए जात हैं।

तिरस्कृत मास को भगवान ने दिया था अपना नाम

भारतीय काल गणना सूक्ष्म से सूक्ष्म और विराट से विराट गणितीय लक्ष्यों तक पहुंच जाती है। काल गणना में अध्यात्म का समावेश कर संवत्सर, अयन मास पक्ष, तिथि नक्षत्र, राशि सब के अलग-अलग नाम, स्वामी-देवता तय है। वहीं अधिकमास अतिरिक्त मास होने से उसका स्वयं का नाम, स्वामी देवता नहीं होते हैं।

पुरुषोत्तम मास में थोड़े दान भी बड़ा पुण्य के बराबर, पक्षियों के लिए परिंडे और अनाथों की सेवा विशेष फलदायी

भास्कर में जानिए, आखिर क्यों महत्वपूर्ण है अधिक मास और क्या हैं मान्यताएं

ज्योतिषविद बताते हैं कि वैदिक काल से ही अधिकमास सूर्य वर्ष के मान व चंद्र वर्ष के मान में होने वाले अंतर में समानता लाने के लिए चंद्र वर्ष 12 माह के स्थान पर 13 माह का कर दिया जाता है। इस अतिरिक्त एक माह को अधिक मास कहते हैं। अधिक मास में सूर्य संक्रांति नहीं होती है। सूर्य वर्ष का मान 365 दिन माना जाता है, जबकि चंद्र वर्ष का मान 354 दिन का ही होता है यानी सूर्य-चंद्र के वर्ष में अंतर होता है। तीन साल में यह अंतर एक माह का हो जाता है। तीन साल बाद दोनों वर्षों में समानता लाने के लिए चंद्र वर्ष 13 माह का हो जाता है। इसलिए हर तीन साल बाद अधिकमास की पुनरावृत्ति होती है। इससे पहले वर्ष 2007 में ज्येष्ठ माह में अधिक मास था।

India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Nagour News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: पुरुषोत्तम माह शुरू, एक माह तक मांगलिक कार्य वर्जित, मंदिरों में मनोरथों की रहेगी धूम, 11 साल पहले ज्येष्ठ माह में था अधिकमास
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×