• Home
  • Rajasthan News
  • Nagour News
  • परबतसर में ही 15-20 दिन से आ रहा पानी: नेनूराम हां, अभी 6-7 दिन से सप्लाई, सुधारेंगे: एसई अर्जुनराम
--Advertisement--

परबतसर में ही 15-20 दिन से आ रहा पानी: नेनूराम हां, अभी 6-7 दिन से सप्लाई, सुधारेंगे: एसई अर्जुनराम

जिला परिषद की गुरुवार को सवा 3 घंटे चली बैठक में करीब आधे समय तक पानी के मुद्दों पर चर्चा हुई। सदस्यों ने पीएचईडी...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 06:00 AM IST
जिला परिषद की गुरुवार को सवा 3 घंटे चली बैठक में करीब आधे समय तक पानी के मुद्दों पर चर्चा हुई। सदस्यों ने पीएचईडी अधिकारियों पर ढिलाई और लापरवाही के आरोप लगाए। वार्ड 21 से सदस्य नेनूराम ने कहा कि परबतसर में 15-20 दिन से आधे घंटे पानी मिलता है। टैंकरों से भी पानी नहीं पहुंच रहा। निजी टैंकर वाले पहले 200 रुपए लेते थे। अब 500 रुपए ले रहे हैं। पीएचईडी एसई अर्जुन राम चौधरी ने कहा कि फिलहाल, 6-7 दिन में आपूर्ति हो रही है। नहरी पानी पहुंचाने के लिए पाइप लाइन का काम जल्द पूरा हो जाएगा। इससे हालात में सुधार आएगा।

इससे पहले जिला प्रमुख सुनीता चौधरी की अध्यक्षता में दोपहर करीब 1:15 बजे बैठक शुरू हुई। जो शाम करीब 4:30 बजे तक चली। इसमें करीब डेढ़ घंटे तक पानी की किल्लत के मुद्दे पर ही चर्चा हुई। सीईओ जवाहर चौधरी ने कहा कि गर्मी में पेयजल किल्लत गंभीर मुद्दा है। इससे जुड़े सभी मामलों की तीन दिन में पीएचईडी अधिकारी रिपोर्ट बनाकर पेश करें। जल्द से जल्द समस्या का निस्तारण करवाएं। कानून व्यवस्था पर चर्चा के दौरान मूंडवा प्रधान ने बिना हेलमेट बाइक चलाने और ट्रैक्टर चालकों पर कम चालान बनाने की मांग एसपी से की। एसपी ने कहा कि तीन महीने में 109 लोगों की जान हादसों में गई है।

भास्कर सवाल: पीएचईडी के एसई के घर 7 दिन से पानी मिले तो भी ऐसा कहेंगे?

परबतसर. परबतसर में पानी की किल्लत के कारण हैंडपंप पर दोपहर में लगी कतार।

चेतावनी- किसी गौशाला का पानी कनेक्शन नहीं काटे

मूंडवा पंचायत समिति के पांच गांवों में पेयजल किल्लत के मुद्दे पर सदस्यों और अधिकारियों में बहस हुई। प्रेमसुख ने रूपाथल, बोड़वा और खेड़ा में पानी के संकट का मुद्दा उठाया। वे बोले- रूपाथल में गौशाला का कनेक्शन काट दिया। गायों के पानी की व्यवस्था का भी संकट है। मूंडवा प्रधान राजेंद्र फिड़ौदा ने चेतावनी दी कि आगे से किसी भी गौशाला का कनेक्शन नहीं काटा जाए। एसई चौधरी ने आश्वस्त किया कि लाइन टेस्टिंग का काम पूरा होते ही गौशाला की लाइन जोड़ देंगे। प्रधान ने तब तक टैंकर या जीएलआर से गायों के लिए पानी की व्यवस्था करने की मांग उठाई।

रियां में दो बीसीएमओ, सहायता के चेक अटके

सरोज देवासी ने कहा कि रियां बड़ी में दो बीसीएमओ लगे हैं। उनके विवाद में नसबंदी करवाने पर महिलाओं को मिलने वाली राशि भी नहीं मिल पा रही है। चिकित्सा विभाग के डिप्टी सीएमएचओ अशोक यादव ने कहा कि ऐसे मामलाें के निपटारे के लिए विभाग ने अलग व्यवस्था की है।

बैठक में नहीं आए खनि अभियंता, फोरमैन को भेजा, कार्रवाई का प्रस्ताव

एक सदस्य ने मिनरल फंड का उपयोग नहीं होने का मुद्दा उठाया। खनि अभियंता सोहनलाल रैगर बैठक में मौजूद नहीं थे। विभाग के फोरमैन थे। सदस्यों ने अभियंयता को बैठक में आने के लिए पाबंद करने और उन पर कार्रवाई करने की मांग उठाई। जिला परिषद के सीईओ जवाहर चौधरी ने कहा कि खनि अभियंता पर कार्रवाई के लिए बैठक में प्रस्ताव लिया है। इसे विभाग के उच्चाधिकारियों को भेजकर खनि अभियंता पर कार्रवाई की सिफारिश की जाएगी।

गांवों में हालात और खराब

दो महीने से हैंडपंप तक ठीक नहीं हो रहे, टैंकर से भी नहीं पहुंच रहा पानी

परबतसर के देवली नाडी में टैंकर से भी पानी नहीं पहुंच रहा। मीण्डा में भी ऐसे ही हालात हैं। रियां बड़ी में झींटिया ग्राम पंचायत के सूरियास के जीएलआर में 10 साल से पानी नहीं आ रहा है। परबतसर में दो-दो महीने से हैंडपंप ठीक नहीं हो रहे हैं। ऊंटवालिया के गोदारों और मेघवालों की ढाणियों में टैंकरों से भी पानी नहीं पहुंच रहा है। नहरी पानी के हाइड्रेंट से ग्रामीणों को पानी नहीं मिल रहा है। नागौर प्रधान ओमप्रकाश सैन ने कहा कि ग्रामीण बिल नहीं भरेंगे। लाडनूं के गांवों में टैंकर से पानी सप्लाई का जिस ठेकेदार को ठेका दिया। वह अब मुकर गया है।

नागौर. झींटिया में पेयजल किल्लत का मुद्दा उठातीं सदस्य।

जिप सभागार का होगा रिनोवेशन

सदस्यों ने माइक खराब होने की परेशानी बताई। सीईओ चौधरी ने कहा कि पूरे सभागार के रिनोवेशन का प्रस्ताव लिया जाएगा। सदस्यों ने पालना रिपोर्ट बैठक से पहले देने का भी मुद्दा उठाया।

बिजली लाइन का रास्ता नहीं, कनेक्शन अटका

सदस्य ने कहा कि 40,800 रुपए का डिमांड जमा करवाने के बाद भी कनेक्शन नहीं हुआ। एसई जस्साराम छाबा बोले- आपसी विवाद का मामला है। लाइन खींचने के लिए पड़ोसी खेत मालिक रास्ता नहीं दे रहा। सदस्य ने उनसे रुपए किसान को वापस देने की मांग उठाई।