• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagour
  • एक साल पहले का फैसला लागू, चार संस्थाएं सहयोगी बनीं, राजस्थानी साहित्यकारों को 9 के बजाए मिलेंगे 13 पुरस्कार

एक साल पहले का फैसला लागू, चार संस्थाएं सहयोगी बनीं, राजस्थानी साहित्यकारों को 9 के बजाए मिलेंगे 13 पुरस्कार / एक साल पहले का फैसला लागू, चार संस्थाएं सहयोगी बनीं, राजस्थानी साहित्यकारों को 9 के बजाए मिलेंगे 13 पुरस्कार

Nagour News - अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति ने अपने 1 साल पहले लिए फैसले को लागू करते हुए अब साहित्य जगत के 9...

Bhaskar News Network

Aug 05, 2018, 06:00 AM IST
एक साल पहले का फैसला लागू, चार संस्थाएं सहयोगी बनीं, राजस्थानी साहित्यकारों को 9 के बजाए मिलेंगे 13 पुरस्कार
अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति ने अपने 1 साल पहले लिए फैसले को लागू करते हुए अब साहित्य जगत के 9 पुरस्कारों की संख्या बढ़ाकर 13 कर दी है। इसमें चार नई संस्थाएं भी सहयोग में आगे आई हैं।

समिति संस्थापक लक्ष्मण दान कविया ने बताया कि राजस्थानी भाषा की अलग-अलग विधाओं के चार साहित्यकारों को पुरस्कार देने की घोषणा की गई है। वर्ष 2018-19 में राजस्थानी भाषा के 13 साहित्यकारों को सम्मानित किया जाएगा।

पुरस्कारों के लिए चयनित साहित्यकारों को 11-11 हजार रुपए, साफा, शाल, श्रीफल एवं प्रशस्ति पत्र एवं राजस्थानी साहित्य भेंट किया जाएगा। संस्थान के पवन पहाड़िया ने बताया कि इस साल से शुरू किए गए पुरस्कारों में कपूरचंद बेताला छोटी खाटू की ओर से छगनलाल बेताला स्मृति राजस्थानी युवा पुरस्कार, सुनील कुमार, राजेश कुमार पांडया की ओर से मैना देवी पांडया स्मृति राजस्थानी लेखिका पुरस्कार एवं पारसमल पांडया स्मृति राजस्थानी साहित्य पुरस्कार तथा देशराजसिंह अखावत इंदोकली की ओर से चंडीदान देव-करणोत अखावत स्मृति राजस्थानी अनुवाद पुरस्कार शुरू किया जाएगा।

अब तक यह 9 पुरस्कार थे

समिति के नवीन पहाड़िया ने बताया कि नेमीचंद पहाड़िया पद्य पुरस्कार, अमराव देवी पहाड़िया गद्य पुरस्कार, कमला देवी पहाड़िया उपन्यास पुरस्कार, सिरदाराराम मौर्य बाल साहित्य पुरस्कार, चम्पा देवी सबलावत कहानी पुरस्कार, भंवरलाल सबलावत व्यंग्य पुरस्कार, सोहनदान सिंहढायच राजस्थानी डिंगल पुरस्कार, जुगलकिशोर जेथलिया राजस्थानी भाषा सेवा सम्मान पुरस्कार दिए जा रहे थे। इनके अलावा 4 नए पुरस्कारों की घोषणा की गई है।

राजस्थान भाषा मान्यता संघर्ष समिति का निर्णय, डेह में होगा कार्यक्रम, राज्य स्तर पर मांगे आवेदन

3 फरवरी 2019 को होगा कार्यक्रम

डेह के कुंजल माता मंदिर परिसर में 3 फरवरी 2019 को होने वाले राजस्थानी साहित्य सम्मान समारोह में यह पुरस्कार दिए जाएंगे। समारोह में राजस्थानी पुस्तकों का विमोचन भी किया जाएगा।

X
एक साल पहले का फैसला लागू, चार संस्थाएं सहयोगी बनीं, राजस्थानी साहित्यकारों को 9 के बजाए मिलेंगे 13 पुरस्कार
COMMENT