Hindi News »Rajasthan »Nagour» खींवसर थानेदार-एएसआई पर कार्रवाई नहीं हुई, गुस्साए बेनीवाल ने कागज फेंके, जाने लगे तो एडीएम ने रोका

खींवसर थानेदार-एएसआई पर कार्रवाई नहीं हुई, गुस्साए बेनीवाल ने कागज फेंके, जाने लगे तो एडीएम ने रोका

सतर्कता समिति की बैठक में गुरुवार को हंगामा हो गया। पिछली बैठक में खींवसर थानाधिकारी रमेश सिंह और एक एएसआई पर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 10, 2018, 06:10 AM IST

खींवसर थानेदार-एएसआई पर कार्रवाई नहीं हुई, गुस्साए बेनीवाल ने कागज फेंके, जाने लगे तो एडीएम ने रोका
सतर्कता समिति की बैठक में गुरुवार को हंगामा हो गया। पिछली बैठक में खींवसर थानाधिकारी रमेश सिंह और एक एएसआई पर अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश की पालना नहीं होने पर खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल भड़क गए। उन्होंने बैठक के एजेंडे के प्रस्ताव फेंक दिए और उठकर जाने लगे। एडीएम बीके चंदेलिया ने उन्हें रोका। मामला डेहरू गांव में मनरेगा श्रमिकों के भुगतान से जुड़ा है। शिकायत में डाककर्मियों से मिलीभगत कर मनरेगा श्रमिकों का भुगतान उठाने का आरोप लगाया गया था। इस संबंध में खींवसर थानाधिकारी और एएसआई ने मामला दर्ज करने से मना कर दिया। सतर्कता समिति की पिछली बैठक में कलेक्टर कुमारपाल गौतम ने दोनों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। इसके बाद भी इसकी पालना नहीं की गई। समिति की गुरुवार को हुई बैठक में बेनीवाल ने इस पर विरोध जताया और कहा कि जब पालना नहीं होती हो ऐसी बैठक का क्या औचित्य है। एसपी हरेंद्र कुमार महावर ने इस संबंध में जांच कर उचित कार्रवाई करने की बात कही है।

नागौर। कलेक्टर को प्रकरण की जानकारी देने पहुंचे बेनीवाल।

भास्कर पड़ताल: एएसआई ने कहा था थानेदार नहीं, बाद में लिखेंगे रिपोर्ट, 2 दिन बाद दर्ज हुआ था मुकदमा

सतर्कता समिति के विवरण के अनुसार, डेहरू गांव के पूनाराम, रामकिशोर और महादेव आदि ने शिकायत की थी कि मनरेगा के तहत जून-जुलाई 2014 में किए गए कार्यों का उन्हें भुगतान नहीं मिला है। जबकि पंचायत समिति के रिकॉर्ड के अनुसार श्रमिकों के डाकघर खाते में भुगतान कर दिया गया। इस पर डेहरू के तत्कालीन पोस्टमास्टर मोहनलाल जाट के खिलाफ मामला दर्ज करवाने के लिए 10 जुलाई 2018 को खींवसर बीडीओ कुंदनमल दवे ने पत्र लिखा था। इस पर एएसआई ने कहा था कि थानाधिकारी अवकाश पर हैं। इसलिए मामला दर्ज नहीं किया जा सकता। सतर्कता समिति की पिछली बैठक में विधायक बेनीवाल ने थानाधिकारी और एएसआई को हटाने की मांग की थी। इस पर कलेक्टर ने अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को कहा था।

मामला दर्ज हुआ है, देरी क्यों हुई जांच कर रहे हैं

इस मामले में खींवसर पंचायत समिति के विकास अधिकारी कुंदनमल दवे ने मामला दर्ज करवाने के लिए 10 जुलाई को पत्र लिखा था। उनके पत्र के आधार पर 12 जुलाई को खींवसर थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई थी। प्राथमिकी दर्ज करने में देरी क्यों हुई। यह जांच का विषय है। इस मामले में जांच कर रहे हैं। हरेंद्र कुमार महावर, एसपी, नागौर

पालना ही नहीं होती तो ऐसी बैठकों का औचित्य क्या है

जिला स्तरीय सतर्कता समिति की पिछली बैठक में थानाधिकारी और एएसआई को हटाने की मांग की थी। कलेक्टर ने भी अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश दिए थे। फिर भी पालना नहीं हुई है। जब उच्चाधिकारियों के आदेश की पालना नहीं होती तो ऐसी बैठकों और उनमें मुद्दा उठाने का औचित्य क्या है। इसलिए मैं बैठक छोड़कर जा रहा था। बाद में एडीएम की समझाइश पर मैं रूका। - हनुमान बेनीवाल, विधायक खींवसर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×