Hindi News »Rajasthan »Nagour» किसान मंगलचंद की मौत हत्या या आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस, 4 घंटे तक परिजनों से पूछताछ

किसान मंगलचंद की मौत हत्या या आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस, 4 घंटे तक परिजनों से पूछताछ

चितावा पुलिस थाना क्षेत्र के चारणावास गांव में गत दिनों किसान मंगलचंद की मौत के मामले में गुरुवार को नया मोड़ आ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 10, 2018, 06:10 AM IST

किसान मंगलचंद की मौत हत्या या आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस, 4 घंटे तक परिजनों से पूछताछ
चितावा पुलिस थाना क्षेत्र के चारणावास गांव में गत दिनों किसान मंगलचंद की मौत के मामले में गुरुवार को नया मोड़ आ गया है। पुलिस को दिए गए एक सामूहिक परिवाद में किसान मंगलचंद की हत्या की आशंका जताई गई है। जिसके बाद अब पुलिस की ओर से इस मामले में जांच शुरू कर दी गई है। जिसके बाद डीडवाना एडीशनल एसपी नीतेश आर्य परिवार के बयान लेने किसान के घर पहुंच गए। परिवार के बयान देर रात तक चलते रहे।

इधर, इस मामले को लेकर एसपी हरेंद्रकुमार महावर ने बताया कि इस प्रकरण को लेकर एक सामूहिक परिवाद सामने आया है। जिसमें आत्महत्या नहीं होकर किसान मंगलचंद की हत्या हाेने की आशंका जताई गई है। उन्होंने कहा कि परिवाद और मर्ग की जांच को एडीशनल एसपी डीडवाना नीतेश आर्य को सौंपा गया है। परिवादियों के अनुसार पूरा प्रकरण हत्या होने का प्रतीत हो रहा है। जिसके बाद जांच के आदेश दिए गए है। परिवाद पर कई लोगाें के हस्ताक्षर भी है। परिवादियों की भी जांच की जाएगी। मामले में नया मोड़ सामने आने के बाद जांच अधिकारी मौके पर जाकर हालात देखेंगे। इस संबंध में प्रेस वार्ता में एसपी महावर ने कहा कि मौके पर क्या हालात रहे, इसकी जांच कर आगे कार्रवाई की जाएगी। चारणावास में कैंप कर पुलिस टीम सभी तथ्यों की जांच करेगी।

सामाजिक संगठनों ने भी जताई हत्या की आशंका

डॉ. अंबेडकर मेमोरियल वेलफेयर सोसायटी की ओर से भी मुख्यमंत्री को भेजे गए ज्ञापन में दिव्यांग किसान मंगलचंद मेघवाल की मौत आत्महत्या का मामला नहीं होकर हत्या बताई गई है। उन्होंने इस संबंध में निष्पक्ष जांच करवाने की मांग की है। ज्ञापन में बताया गया है कि यह पूर्ण रूप से आशंका है कि यह हत्या ही है। सोसायटी के अध्यक्ष भजनसिंह ने बताया कि इस प्रकरण में षड़यंत्र हाे रहा है।

कांग्रेस की घोषणा के बाद अब राजनीति भी हुई तेज

चुनावी साल में कर्ज से परेशान होकर दिव्यांग किसान की मौत के बाद अब राजनैतिक सियासत भी शुरू हो गई है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के किसान मंगलचंद के कर्ज को चुकाने की घोषणा के के लिए बुधवार को जिलाध्यक्ष जाकिर गैसावत को भेजा था। गौरतलब है कि बुधवार को ही पीसीसी चीफ सचिन पायलट के निर्देश पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष जाकिर हुसैन गैसावत ने सीकर जिले की बाडलवास स्थित पीएनबी की शाखा में किसान मंगलचंद के बकाया 82 हजार रुपए जमा कराकर परिजनों को नो ड्यूज दिलाया था। इधर, पुलिस का खुफिया तंत्र भी इस मामले में अलग जांच करने में जुटा था।

यह तीन कारण: पुलिस करेगी जांच

1. किसान मंगलचंद की एक जमीन को लेकर विवाद होने की बात पुलिस तक पहुंची है। इस एंगल से भी जांच की जाएगी।

2. पुलिस काे मिले परिवाद में यह संदेह भी जताया गया है इस मामले में मंगलचंद की मौत के बाद सुबह पुलिस तक देरी से सूचना क्यों पहुंची।

3. पुलिस को इस बात भी संदेह है कि मंगलचंद की मौत जिस कड़ी से झूलने से होना बताया जा रहा है क्या वह लोहे की कड़ी 70 किलो वजन सहने लायक थी?

नागौर.किसान मंगलचंद के घर पर जांच करने पहुंची पुलिस।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×