Hindi News »Rajasthan »Nagour» फर्जी नामांकन को आधार का झटका: 2 स्कूलों से 50 हजार वसूले, 2 को नोटिस

फर्जी नामांकन को आधार का झटका: 2 स्कूलों से 50 हजार वसूले, 2 को नोटिस

निजी स्कूलों में फर्जी नामांकन दिखाकर आरटीई में हर साल लाखों रुपए का भुगतान उठाने वाले स्कूल संचालक अब आधार के जाल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 09, 2018, 06:15 AM IST

फर्जी नामांकन को आधार का झटका: 2 स्कूलों से 50 हजार वसूले, 2 को नोटिस
निजी स्कूलों में फर्जी नामांकन दिखाकर आरटीई में हर साल लाखों रुपए का भुगतान उठाने वाले स्कूल संचालक अब आधार के जाल में फंसने लगे हैं। पिछले सालों में कई निजी स्कूलों से दोहरे नामांकन की शिकायत मिली थी। एक ही बच्चे का नामांकन सरकारी और निजी दोनों स्कूलों में था। जिले में पिछले साल पोर्टल पर आधार कार्ड से मिलान में ऐसे 7 मामले पकड़ में आए थे। जिन्होंने लाखों रुपए का भुगतान भी उठा लिया था। बीकानेर निदेशालय के आदेश पर प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने चार निजी स्कूलों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। इन 4 स्कूलों से जुड़े 7 मामलों में से 5 में विभाग ने 50 हजार रुपए की वसूल की है। वहीं, दोनों स्कूलों के मामले निदेशालय को भिजवाए गए हैं। दो अन्य स्कूलों को विभाग ने नोटिस जारी कर 10 दिन में चालान जमा करवाने के आदेश दिए हैं। अधिकारियों के अनुसार निदेशालय इन स्कूल संचालकों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करने सहित मान्यता भी रद्द करने की कार्रवाई कर सकता है। दरअसल, जिले में सत्र-2017-18 के दौरान निजी स्कूल में बताए बच्चे सरकारी स्कूल में अध्ययनरत मिले थे। अब नई व्यवस्था के तहत इस साल हर छात्र का नाम, पिता का नाम, जन्म तारीख, जेंडर सूचना को आधार से मिलान करना होगा।

भास्कर संवाददाता | नागौर

निजी स्कूलों में फर्जी नामांकन दिखाकर आरटीई में हर साल लाखों रुपए का भुगतान उठाने वाले स्कूल संचालक अब आधार के जाल में फंसने लगे हैं। पिछले सालों में कई निजी स्कूलों से दोहरे नामांकन की शिकायत मिली थी। एक ही बच्चे का नामांकन सरकारी और निजी दोनों स्कूलों में था। जिले में पिछले साल पोर्टल पर आधार कार्ड से मिलान में ऐसे 7 मामले पकड़ में आए थे। जिन्होंने लाखों रुपए का भुगतान भी उठा लिया था। बीकानेर निदेशालय के आदेश पर प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने चार निजी स्कूलों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। इन 4 स्कूलों से जुड़े 7 मामलों में से 5 में विभाग ने 50 हजार रुपए की वसूल की है। वहीं, दोनों स्कूलों के मामले निदेशालय को भिजवाए गए हैं। दो अन्य स्कूलों को विभाग ने नोटिस जारी कर 10 दिन में चालान जमा करवाने के आदेश दिए हैं। अधिकारियों के अनुसार निदेशालय इन स्कूल संचालकों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करने सहित मान्यता भी रद्द करने की कार्रवाई कर सकता है। दरअसल, जिले में सत्र-2017-18 के दौरान निजी स्कूल में बताए बच्चे सरकारी स्कूल में अध्ययनरत मिले थे। अब नई व्यवस्था के तहत इस साल हर छात्र का नाम, पिता का नाम, जन्म तारीख, जेंडर सूचना को आधार से मिलान करना होगा।

इन 4 स्कूलों में पकड़ा फर्जी नामांकन

1. सरकारी स्कूल में पढ़ रहे दो बच्चों का प्रवेश नोबल एकेडमी सैकंडरी स्कूल मारोठ में दिखाया गया था। उनके नाम से भुगतान भी उठाया गया। विभाग ने दोनों बच्चों के नाम पर उठाए गए 21600 रुपए की वसूली की है।

2. न्यू मोंटेसरी सीनियर सैकंडरी स्कूल डीडवाना में 1 बच्चे का फर्जी नामांकन पकड़ा था। जिसके नाम पर भुगतान उठाया गया। विभाग ने नोटिस जारी कर रुपए जमा करवाने के आदेश दिए हैं।

दो शहरों में प्रदर्शन, प्रशासन ने जयपुर भेजी रिपोर्ट, सीओ के पक्ष में लोग, होगी फिर बैठक

कुचामनसिटी. स्वाभिमान रैली के दौरान उपस्थित लोग।

वक्ता बोले- मैडल देने की बजाए किया एपीओ

वक्ता बोले- मैडल देने की बजाए किया एपीओ

रैली में डिप्टी एसपी विद्याप्रकाश के एपीओ करने के मुद्दे पर सभी वक्ताओं ने कहा कि पूरे प्रदेश को गैंगवार से आजाद कराने वाले अफसर को मैडल देने की बजाय सरकार ने एपीओ कर प्रताड़ित कर दिया। वक्ताओं ने कहा कि अभी तो सिर्फ कुचामन में रैली हुई है। यदि मान-सम्मान पर आंच आई तो जयपुर और दिल्ली तक गंूज होगी। हालांकि देर शाम तक इस मामले को लेकर जयपुर पीएचक्यू से कोई बदलाव की जानकारी नहीं मिली थी।

3. सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल कचौलिया में 3 मामले पकड़े गए। बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़ रहे थे, नामांकन निजी में दिखाकर राशि उठाई गई। विभाग ने 27600 रुपए की वसूली कर मामला निदेशालय को भिजवाया है।

4. नवीन बाल निकेतन निंबोला कला डेगाना में विभाग ने 1 प्रकरण पकड़ा। अब 10 दिनों का नोटिस जारी कर उठाए गए भुगतान की राशि जमा करवाने के आदेश दिए है।

आगे क्या: आधार जरूरी

शिक्षा विभाग ने योजना बनाई है कि आधार कार्ड नहीं होगा तो निजी स्कूल में निशुल्क पढ़ रहे बच्चे की फीस का भुगतान नहीं होगा। नाम भी पोर्टल से ऑटोमेटिक हट जाएगा। स्कूलों द्वारा पेश किए जाने वाले क्लेम में आने वाली शिकायतों को लेकर अब सरकार ने हर विद्यार्थी का आधार अनिवार्य कर दिया है। आरटीई प्रभारी ने बताया कि दूसरी किश्त के क्लेम बिल के साथ संस्था प्रधानों को आधार कार्ड की सत्यापित कॉपी जमा करानी होगी।

यह रहेगी पूरी प्रक्रिया

2017-18 की पुनर्भरण राशि की दूसरी किस्त का निजी स्कूलों को भुगतान होना है। इसके लिए पहले स्कूल को क्लेम बिल जनरेट करना होगा। बच्चों के आधार कार्ड और नामांकन की स्कूल द्वारा प्रमाणित सूची भिजवानी होगी। डीईओ कार्यालय में सूची के अनुसार आधार और नामांकन की जांच की जाएगी।

कुचामन में कांग्रेस व भाजपा के कई नेता रैली में पहुंचे। इस दौरान पार्षद और कांग्रेस नेता रामनिवास पोषक, भाजपा नेता ज्ञानाराम रणवां, लालाराम अणदा, कांग्रेस नेता दीपक नेहरा, रामनिवास गावड़िया, विवेक कालेर, डीडवाना से कांग्रेस नेता रामकरण पायली और परबतसर से लच्छाराम बडारड़ा व बन्नाराम रणवां ने भी सरकार को जमकर कोसा। इस दौरान कार्यक्रम में सभी वक्ताओं ने राज्य सरकार की ओर से गत दिनों कुचामन सीओ विद्याप्रकाश को एपीओ किए जाने काे मामले को अनुचित बताते हुए इस फैसले को गलत बताया। साथ ही ऐसे अधिकारियों की फील्ड में तैनाती की पैरवी की।

यह भी

आधार में फर्जीवाड़ा तो होगी कार्रवाई

विभाग ने यह भी स्पष्ट किया है कि अगर आधार नंबर में किसी भी स्तर पर कोई फर्जीवाड़ा सामने आता है तो स्कूल संचालक और भौतिक सत्यापन के लिए स्कूल में गई जांच टीम के खिलाफ कार्रवाई होगी।

स्थिति

484 स्कूलों को 2.72 करोड़ की प्रथम किस्त जारी : जिले में सत्र-2017-18 की 484 स्कूलों को 2.72 करोड़ रुपए की पुनर्भरण राशि जारी हो चुकी है। 45 स्कूलों के क्लेम बिल नहीं पहुंचने के कारण भुगतान अभी अटका है। अब दूसरी किस्त की प्रक्रिया शुरू होगी।

निशुल्क प्रवेश के समय विद्यार्थियों के आधार नंबर लेने के पहले ही निर्देश दे दिए थे। राशि के भुगतान को आधार नंबर से जोड़ा जा रहा है। स्कूलों को गलतियां सुधारने का मौका दिया जाएगा। इसके बाद विसंगति पाई जाती है भुगतान रोका जा सकता है। नृसिंह पिंडेल, प्रभारी (आरटीई)

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×