• Home
  • Rajasthan News
  • Nagour News
  • प्रबोधकों की चेतावनी, बोले- पिछली सेवा नहीं जोड़ी और पुरानी पेंशन लागू नहीं की तो हम चुनाव में इस बार सरकार बदल देंगे
--Advertisement--

प्रबोधकों की चेतावनी, बोले- पिछली सेवा नहीं जोड़ी और पुरानी पेंशन लागू नहीं की तो हम चुनाव में इस बार सरकार बदल देंगे

अखिल राजस्थान प्रबोधक संघ की प्रदेश कार्यकारिणी के आह्वान पर सोमवार को लंबित मांगों को लेकर नागौर प्रबोधक संघ ने...

Danik Bhaskar | Aug 07, 2018, 06:21 AM IST
अखिल राजस्थान प्रबोधक संघ की प्रदेश कार्यकारिणी के आह्वान पर सोमवार को लंबित मांगों को लेकर नागौर प्रबोधक संघ ने सीएम, शिक्षा मंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। पांच सूत्रीय मांगों को लेकर जिलाध्यक्ष हरलाल सिंह डूकिया व संघ के संरक्षक रामसुख जाजड़ा के नेतृत्व में सैकड़ों प्रबोधक नारेबाजी करते हुए रैली के माध्यम से कलेक्टर पहुंचे।

इससे पहले नेहरू पार्क में शाम 3 बजे एकत्रित हुए। जहां प्रबोधक संघ को संबोधित करते हुए वक्ता ने कहा- कि जिस सरकार में उनकी नियुक्ति हुई है वो ही उनकी मांगों को अनदेखा करने में लगे है। इस मौके पर जिलाध्यक्ष डूकिया ने कहा- कि विधानसभा चुनाव नजदीक है। सरकार अगर उनकी लंबित मांगों को चुनाव से पहले अगर ध्यान नहीं देती है तो इस बार सभी प्रबोधक सत्ता परिवर्तन के लिए तैयार हो जाए। जिला महामंत्री श्रवणकुमार वैष्णव ने बताया कि प्रबोधकों की पिछली सेवा की गणना, वंचित पैराटीचर्स का नियमितिकरण करने, वेतन विसंगति, एनपीएस बंद कर ओपीएस लागू करने, प्रबोधकों की पदोन्नति को लेकर प्रदेशभर के जिला मुख्यालयों पर ज्ञापन सौंपे गए। इस दौरान संयुक्त कर्मचारी महासंघ एकीकृत के जिलाध्यक्ष रामकिशोर खुडख़ुडिय़ा, मेड़ता से चेतन डांगा, खींवसर ब्लॉक से नरेंद्र सिहाग, जायल से लोमरोड़, नावां से सुवा दास स्वामी, मूंडवा से ओमप्रकाश व गणपत विश्नोई, सुनीता चौधरी ने अपने विचार वक्त किए।

प्रदर्शन

अखिल राजस्थान प्रबोधक संघ ने लंबित मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन, नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचे

भास्कर संवाददाता | नागौर

अखिल राजस्थान प्रबोधक संघ की प्रदेश कार्यकारिणी के आह्वान पर सोमवार को लंबित मांगों को लेकर नागौर प्रबोधक संघ ने सीएम, शिक्षा मंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। पांच सूत्रीय मांगों को लेकर जिलाध्यक्ष हरलाल सिंह डूकिया व संघ के संरक्षक रामसुख जाजड़ा के नेतृत्व में सैकड़ों प्रबोधक नारेबाजी करते हुए रैली के माध्यम से कलेक्टर पहुंचे।

इससे पहले नेहरू पार्क में शाम 3 बजे एकत्रित हुए। जहां प्रबोधक संघ को संबोधित करते हुए वक्ता ने कहा- कि जिस सरकार में उनकी नियुक्ति हुई है वो ही उनकी मांगों को अनदेखा करने में लगे है। इस मौके पर जिलाध्यक्ष डूकिया ने कहा- कि विधानसभा चुनाव नजदीक है। सरकार अगर उनकी लंबित मांगों को चुनाव से पहले अगर ध्यान नहीं देती है तो इस बार सभी प्रबोधक सत्ता परिवर्तन के लिए तैयार हो जाए। जिला महामंत्री श्रवणकुमार वैष्णव ने बताया कि प्रबोधकों की पिछली सेवा की गणना, वंचित पैराटीचर्स का नियमितिकरण करने, वेतन विसंगति, एनपीएस बंद कर ओपीएस लागू करने, प्रबोधकों की पदोन्नति को लेकर प्रदेशभर के जिला मुख्यालयों पर ज्ञापन सौंपे गए। इस दौरान संयुक्त कर्मचारी महासंघ एकीकृत के जिलाध्यक्ष रामकिशोर खुडख़ुडिय़ा, मेड़ता से चेतन डांगा, खींवसर ब्लॉक से नरेंद्र सिहाग, जायल से लोमरोड़, नावां से सुवा दास स्वामी, मूंडवा से ओमप्रकाश व गणपत विश्नोई, सुनीता चौधरी ने अपने विचार वक्त किए।