• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagour
  • झूठ से शुरू होता है अन्याय, अपनी बुराई छुपाने के लिए अनीति की तरफ कदम बढ़ाता है मनुष्य: डॉ. सुयशनिधि
--Advertisement--

झूठ से शुरू होता है अन्याय, अपनी बुराई छुपाने के लिए अनीति की तरफ कदम बढ़ाता है मनुष्य: डॉ. सुयशनिधि

Nagour News - जयमल जैन पौषधशाला में अखिल भारतीय श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ शाखा नागौर के तत्वावधान में चल रहे...

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 06:30 AM IST
झूठ से शुरू होता है अन्याय, अपनी बुराई छुपाने के लिए अनीति की तरफ कदम बढ़ाता है मनुष्य: डॉ. सुयशनिधि
जयमल जैन पौषधशाला में अखिल भारतीय श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ शाखा नागौर के तत्वावधान में चल रहे चातुर्मास के तहत शुक्रवार को कई आयोजन हुए। इस मौके पर समणी डॉ. सुयशनिधि ने कहा कि अन्याय असत्य से शुरू होता है। क्रोध, लोभ, भय और हास्य के वश में व्यक्ति असत्य का प्रयोग करता है। अपनी बुराई छुपाने और अन्याय को दबाने के लिए भय ग्रस्त होकर अनीति की ओर कदम बढ़ा लेता है। जिसके धन कमाने के तरीके न्याय-युक्त हैं। वही गृहस्थ वास्तव में पवित्र और शुद्ध है। अन्याय का दूसरा कारण विश्वासघात करना या धोखा देना है। संसार में हर कोई एक-दूसरे को ठगने में लगा है। चाहे व्यापार हो या धार्मिक क्षेत्र। अनेक रूपक के माध्यम से डॉ. समणी ने विश्वासपात्र बनने की प्रेरणा दी।

धर्म

श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ की ओर से चातुर्मास कार्यक्रम में प्रवचन

जैन समणी सुगम निधि ने गुण, पर्याय की व्याख्या करते हुए संसार के स्वरूप को समझाया। मंच संचालन संजय पींचा ने किया। प्रवचन की प्रभावना के लाभार्थी नोरतनमल, सुरेंद्र कुमार, हेमंत कुमार सुराणा रहे। दर्शन प्रतिमा के लाभार्थी तिलोकचंद, चंचल मल, विनोद मल और सुरेश चौरडिय़ा रहे। राहुल सुराणा ने बताया की प्रवचन में पूछे गए तीन प्रश्नों के उत्तर प्रदीप बोहरा, पारस भुरट और सपना ललवानी ने दिए। उनको डूंगरवाल परिवार, बेंगलुरू की ओर से 5-5 ग्राम के चांदी के सिक्के दिए गए। इस मौके पर संगीता ललवानी, रीता ललवानी, समता ललवानी और प्रेमलता ललवानी आदि भी उपस्थित रहे।

X
झूठ से शुरू होता है अन्याय, अपनी बुराई छुपाने के लिए अनीति की तरफ कदम बढ़ाता है मनुष्य: डॉ. सुयशनिधि
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..