नागौर

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Nagour News
  • जोंगरा गांव के किसान राकेश जायसवाल ने 52 प्रकार के ब्रांड ऑनलाइन रजिस्टर्ड करवाए हैं
--Advertisement--

जोंगरा गांव के किसान राकेश जायसवाल ने 52 प्रकार के ब्रांड ऑनलाइन रजिस्टर्ड करवाए हैं

जोंगरा गांव के किसान राकेश जायसवाल ने 52 प्रकार के ब्रांड ऑनलाइन रजिस्टर्ड करवाए हैं पवन शर्मा | जांजगीर-चांपा ...

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 05:55 AM IST
जोंगरा गांव के किसान राकेश जायसवाल ने 52 प्रकार के ब्रांड ऑनलाइन रजिस्टर्ड करवाए हैं

पवन शर्मा | जांजगीर-चांपा

गांव में गाय, बैल व भैंस के गोबर से बने कंडे का खरीददार नहीं मिला तो छत्तीसगढ़ के राकेश जायसवाल ने उसे ऑनलाइन बेचने की प्लानिंग कर डाली। नतीजा यह रहा कि अब यूनाइटेड किंगडम (यूके) और सिंगापुर से भी ऑर्डर आने लगे हैं। इतना ही नहीं वह गोबर और केचुआ खाद की भी बिक्री ऑनलाइन कर रहे हैं। 6 कंडों के पैकेट की कीमत 199 रुपए है। राकेश अब तक 52 प्रकार के प्रोडक्ट ऑनलाइन बिक्री के लिए रजिस्टर्ड करवा चुके हैं। जांजगीर चांपा के जोंगरा गांव में रहने वाले राकेश जायसवाल पेशे से किसान हैं। उनके यहां पाली गई गाय का दूध तो बिक जाता है। लेकिन उसके गोबर से बने कंडे व जैविक खाद को गांव में बेचने का प्रयास किया, लेकिन खरीददार नहीं मिले तो उन्होंने उसे अंतरराष्ट्रीय बाजार में बेचने के लिए ऑन लाइन मार्केटिंग करने वाली कंपनियों से संपर्क किया।

ऑनलाइन कंपनी अमेजन से उनकी डील फाइनल हुई, क्योंकि यह कंपनी उनके प्रोडक्ट को उनकी सुविधा के अनुसार स्थानीय स्तर पर उठा कर रही है। अब गांव के कंडे व खाद की मांग देश भर में होने लगी है। राकेश ने बताया भारत के हैदराबाद, चेन्नई, गुड़गांव, चेन्नई के अलावा दक्षिण के एक अस्पताल से लगातार कंडे व खाद के ऑर्डर आ रहे हैं। क्वालिटी सुधारने के लिए कंडे में भूसा मिलाया जाता है, जिससे वह जल्दी और काफी देर तक जल सके। क्वालिटी और आकर्षक पैकिंग के चलते इसकी डिमांड बढ़ गई है। विदेशों में रहने वाले भारतीय इसे ऑनलाइन मंगवाते हैं। राकेश ने अमेजन में अपनी बेटी नव्या के नाम से ब्रांड को रजिस्टर्ड कराया है। अमेजन की साइट पर नव्या एग्री एलायड(navyaagriallied) सर्च करने पर उनके ब्रांड साइट पर आ जाते हैं। वर्तमान में उनके तीन प्रोडक्ट शिवाप्रिय कंडे, गोबर खाद और केचुआ खाद ऑनलाइन बिक रही है। राकेश बताते हैं कि कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी व वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक केडी महंत ने इस कार्य में उनकी मदद की है।

X
Click to listen..