Hindi News »Rajasthan »Nagour» अपने ब्लड से 24 लाख बच्चों की जिंदगी बचाने वाले जेम्स 81 की उम्र में रिटायर, 54 साल में 1176 बार किया ब्लड डोनेट

अपने ब्लड से 24 लाख बच्चों की जिंदगी बचाने वाले जेम्स 81 की उम्र में रिटायर, 54 साल में 1176 बार किया ब्लड डोनेट

आस्ट्रेलिया के 81 साल के जेम्स हैरिसन असाधारण शख्स हैं। उनके ब्लड से 54 साल में करीब 24 लाख बच्चों की जिंदगी बचाई गई है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 14, 2018, 05:55 AM IST

अपने ब्लड से 24 लाख बच्चों की जिंदगी बचाने वाले जेम्स 81 की उम्र में रिटायर, 54 साल में 1176 बार किया ब्लड डोनेट
आस्ट्रेलिया के 81 साल के जेम्स हैरिसन असाधारण शख्स हैं। उनके ब्लड से 54 साल में करीब 24 लाख बच्चों की जिंदगी बचाई गई है। इसलिए इन्हें ‘ए मैन विद गोल्डन ऑर्म’ भी कहा जाता है। उन्होंने शुक्रवार को 1176 वीं बार ब्लड डोनेट किया। इसी के साथ उन्हें रिटायरमेंट दे दिया गया। क्योंकि इस उम्र में खून बनने की रफ्तार काफी कम हो गई थी। इस पर उन्होंने कहा कि यह बुरा दिन है। मैं आगे भी ब्लड डोनेशन जारी रखना चाहता हूं। दरअसल जेम्स के ब्लड में रोगों से लड़ने वाली दुर्लभ एंटीबॉडी हैं। इसका इस्तेमाल एंटी-डी इंजेक्शन बनाने के लिए किया जाता है, जो रीसस डी हीमोलिटिक डीसीज (एचडीएन) बीमारी से लड़ने में मदद करता है। इस बीमारी में गर्भवती का ब्लड गर्भ में पल रहे शिशु की रक्त कोशिका पर हमला करता है, इससे बच्चे को ब्रैम डैमेज, एनीमिया जैसी घातक बीमारी का खतरा पैदा हो जाता है और महिला के गर्भपात की आशंका बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति तब पैदा होती है जब गर्भवती महिला का ब्लड ग्रुप आरएच पॉजिटिव और बच्चे का आरएच निगेटिव होता है, जो उसे पिता से मिलता है। ऑस्ट्रेलिया में 1960 के दशक में एंटी डी की खोज से पहले एचडीएन से सालाना हजारों बच्चे मारे जाते थे। जेम्स कहते हैं कि 14 साल की उम्र में ब्लड डोनेशन से उनकी जान बची। तभी से ब्लड डोनेशन शुरू किया। इस बीच डॉक्टरों ने पाया कि मेरे ब्लड में दुर्लभ एंटीबॉडी है, जिससे एंटी-डी इजेक्शन बन सकते हैं। रेड क्रॉस ब्लड सर्विस के मुताबिक जेम्स के ब्लड से बने एंटी-डी ने 24 लाख बच्चों की जिंदगी बचाई है। ऑस्ट्रेलिया में जेम्स जैसे 160 डोनर हैं।

ऑस्ट्रेलिया के जेम्स की 14 साल की उम्र में ब्लड डोनेशन से जान बची थी, तभी से रक्त दान करने का संकल्प लिया था

जेम्स के ब्लड में मौजूद एंटीबॉडी से एंटी-डी इंजेक्शन बनते हैं

तस्वीर जेम्स के आखिरी ब्लड डोनेशन की। वे 1964 से हर हफ्ते 800 एमएल ब्लड डोनेट कर रहे थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×