Hindi News »Rajasthan »Nagour» जिले के कई क्षेत्रों में अधिक भू-जल स्तर गिरने से नलकूप व ट्यूबवैलों में पानी आना ही बंद हो गया है।

जिले के कई क्षेत्रों में अधिक भू-जल स्तर गिरने से नलकूप व ट्यूबवैलों में पानी आना ही बंद हो गया है।

रियां के जड़ाऊ कलां में 400 फीट तक गिरा भू-जल स्तर, 2 किमी दूर डूकिया में 15 फीट पर पानी, क्योंकि: यहां हर घरों का पानी...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 14, 2018, 06:00 AM IST

  • जिले के कई क्षेत्रों में अधिक भू-जल स्तर गिरने से नलकूप व ट्यूबवैलों में पानी आना ही बंद हो गया है।
    +1और स्लाइड देखें
    रियां के जड़ाऊ कलां में 400 फीट तक गिरा भू-जल स्तर, 2 किमी दूर डूकिया में 15 फीट पर पानी, क्योंकि: यहां हर घरों का पानी नालियों में नहीं गड्ढ़ों में भर करते हैं भू-जल रीचार्ज


    जिले के कई क्षेत्रों में अधिक भू-जल स्तर गिरने से नलकूप व ट्यूबवैलों में पानी आना ही बंद हो गया है।

    जिसके चलते लोगों को जल संकट से जूझना पड़ रहा है। लेकिन यहां रियांबड़ी उपखंड क्षेत्र की भंवाल ग्राम पंचायत के गांव डूकिया में किसी तरह का जल संकट नहीं है। इतना ही नहीं जहां कई क्षेत्रों में 500 फीट से नीचे पानी नहीं मिल पा रहा है। वहीं डूकिया गांव में मात्र 15 से 25 फीट नीचे ही ओपन वैल में हर समय पानी चलता है। इसका कारण है कि इस गांव में सालों से 1 अच्छी परंपरा चली आ रही है। इस गांव में कहीं भी नालियां नहीं बनाई गई हैं। साथ ही हर घर के आंगन या बाहर जमीन में गड्ढ़े खोदे हुए हैं। मतलब घरेलू उपयोग में खर्च होने वाला पानी नालियों में नहीं बल्कि लोगों द्वारा खुदवाए गए गड्ढ़ों में छोड़ा जाता है। जिससे भू-जल रिचार्ज होता है।

    गड्ढ़े बना घरों के पानी को वापस भू-जल तक पहुंचाने से पानी वाष्पीकृत न होकर इससे भू-जल रिचार्ज होता है। इसी वजह से भूजल भंडार यहां यथावत बना हुआ है। योगेश कटारिया, जेईएन पीएचईडी, रियांबड़ी

    पानी के लिए दुनियाभर में परेशानी के बीच सुखद खबर ... काफी सालों पहले डूकिया के बुजुर्गों ने बनाया घरों के पानी को खुले में न छोड़ भू-जल को रिचार्ज करने का अनूठा नियम, 250 घरों के इस गांव में आज भी 15-25 फीट की गहराई पर चल रहे हैं 200 ओपन वेळ

    और भी है कई फायदे

    रियां बड़ी. डूकिया में घरों के बाहर नालिया नहीं होने से साफ सुथरी सड़क।

    यहां शुरुआत से पानी की कोई किल्लत नहीं थी। फिर भी पूर्वजों ने पानी की लगातार आपूर्ति और पानी को धरती में रिसाने के लिए यह परम्परा शुरू की। इससे खेतों में पानी की उपलब्धता के साथ-साथ गर्मियों अधिक गर्मी नहीं रहती है। महेंद्र सिंह रोज, सरपंच प्रतिनिधि, भंवाल ग्राम पंचायत

    सड़कों पर नहीं मिलता कीचड़, गांव रहता है साफ-सुथरा

    जमाव :250 घरों की आबादी में नालियां कहीं भी नहीं

    बुजुर्गों द्वारा घरों के पानी को खुले में न छोड़ भू-जल को रिचार्ज करने के लिए बनाए नियम के चलते 250 घरों की आबादी के इस गांव के खेतों में करीब 200 ओपन वेळ चल रहे हैं। 15 से 25 फीट गहरे इन ओपन वेळ में हर समय पानी चलता रहता है। लोगों ने गांव में कहीं भी नालियां न बनाकर घरों के पानी को जमीन में निस्तारण करने घरो के बाहर जमीन में गड्ढ़े बनाए हुए हैं। इससे भू-जल रिचार्ज के साथ गांव में सड़कों पर गंदगी भी नहीं फैलती है।

    भू-जल स्तर रिचार्ज के लिए घर के बाहर बनाए गड्‌ढ़े में जाता पानी दिखाता ग्रामीण।

    भंवाल में 250 फीट पर मिलता है पानी

    डूकिया से 8 किमी दूर जड़ाऊ कलां गांव में 300 से 400 फीट तक भू-जल स्तर गिरा हुआ है। यहां पर ट्यूबवैलों में जल्दी से पानी नहीं आ पाता है। इसी प्रकार दो किमी देर ग्राम पंचायत मुख्यालय भंवाल में 250 फीट, सहित लाडवा, चुंदिया, मंडावरा, सुरियास आदि पास के गावों में भू-जल स्तर काफी नीचे हैं। लेकिन डूकिया में लोगों की जागरूकता के चलते यहां 15 से 25 फीट पर पानी मिल जाता है।

  • जिले के कई क्षेत्रों में अधिक भू-जल स्तर गिरने से नलकूप व ट्यूबवैलों में पानी आना ही बंद हो गया है।
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×