--Advertisement--

फ्लिपकार्ट का आईपीओ ला सकती है वॉलमार्ट

रिटेल चेन की प्रमुख अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट इंक, फ्लिपकार्ट का आईपीओ ला सकती है, जिसके बाद निवेशकों के लिए रास्ता...

Danik Bhaskar | May 13, 2018, 06:05 AM IST
रिटेल चेन की प्रमुख अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट इंक, फ्लिपकार्ट का आईपीओ ला सकती है, जिसके बाद निवेशकों के लिए रास्ता खुल जाएगा। यहां दिक्कत यह है कि वॉलमार्ट ऐसा सौदा पूरा होने के चार साल बाद ही कर सकती है। पिछले ही हफ्ते वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट में 77% हिस्सेदारी खरीदने की घोषणा की थी। इसके साथ ही वॉलमार्ट के पास तीन अरब डॉलर का अतिरिक्त निवेश फ्लिपकार्ट सौदा पूरा होने के एक साल के भीतर लाने का विकल्प भी है। अभी कंपनी ने यह साफ नहीं किया है कि यह निवेश वह खुद करेगी या उसकी नई सहयोगी फ्लिपकार्ट।

वॉलमार्ट, फ्लिपकार्ट पर 16 अरब डॉलर यानी 1.05 लाख करोड़ रुपए का निवेश करेगी। इससे अमेरिकी कंपनी की भारत के ई-कामर्स क्षेत्र में पहुंच हो जाएगी जिसके एक दशक के भीतर 200 अरब डॉलर तक की वृद्धि करने का अनुमान है। अमेरिका के शेयर बाजार नियामक एसईसी को दी जानकारी में कंपनी ने बताया कि इस सौदे के लिए होने वाले ‘रजिस्ट्रेशन राइट्स एग्रीमेंट’ का सौदा पूरा होने के चार साल बाद वह फ्लिपकार्ट का आईपीओ ला सकती है।

वॉलमार्ट ने कहा कि आईपीओ के लिए फ्लिपकार्ट का मूल्यांकन उसके द्वारा किए गए मूल्यांकन से कम नहीं होगा। हालांकि इससे जुड़े सूत्र ने बताया कि जापान के सॉफ्टबैंक ने फ्लिपकार्ट में अभी अपनी 20-22 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने पर निर्णय नहीं किया है। ऐसी चर्चा है कि वॉलमार्ट गूगल की पेरेंट कंपनी अल्फाबेट को इस सौदे में साझेदार बना सकती है। अल्फाबेट 15 फीसदी हिस्सेदारी ले सकती है। 20.7 अरब डॉलर के वेल्यूएशन के अाधार पर तीन अरब डॉलर का निवेश 15 फीसदी से कम की हिस्सेदारी प्रदान कर सकता है। प्रारंभ में फ्लिपकार्ट बोर्ड में आठ डायरेक्टर हो सकते हैं जिनमें पांच वॉलमार्ट से, दो माइनोरिटी शेयरधारकों से और एक संस्थापक की ओर से। वॉलमार्ट का कहना है कि वह सीईओ और अन्य मुख्य पदों पर नई नियुक्ति बिन्नी बंसल और बोर्ड के परामर्श से करेगी।