Hindi News »Rajasthan »Nagour» मार्केटिंग-चुनाव अभियानों में गलत इस्तेमाल हो सकता है

मार्केटिंग-चुनाव अभियानों में गलत इस्तेमाल हो सकता है

एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह रोबोकॉल की तरह है, इसका गलत इस्तेमाल मार्केटिंग या चुनावी कैंपेन में किया जा सकता है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 12, 2018, 06:20 AM IST

एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह रोबोकॉल की तरह है, इसका गलत इस्तेमाल मार्केटिंग या चुनावी कैंपेन में किया जा सकता है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में एआई और मशीन लर्निंग के हेड फर्थ बटरफील्ड का कहना है कि यह टेक्नोलॉजी धोखा दे सकती है। ये मशीनें राजनीतिक दलों की ओर से कॉल कर सकती हैं और वोटर्स को रिझा सकती हंै। क्या बच्चे एआई एजेंट्स के कॉल को समझ सकेंगे? बटरफील्ड कहते हैं कि गलत अपॉइंटमेंट या कैंसिलेशन के दौरान पैसे लौटाने के लिए कौन जिम्मेदार होगा। बाथ यूनिवर्सिटी में एआई की प्रोफेसर जोना ब्रायसन का कहना है कि रोबोट इंसान की तरह बात करते हैं तो धोखे की संभावना असीम है। सोचिए अगर फोन आता है कि कहीं गोलीबारी हो रही है, आप सवाल पूछते हैं, एआई आपको विश्वास दिलाने में सफल हो जाती है और बाद में पता चलता है कि यह तो गलत कॉल था,तो स्थिति कितनी तनावपूर्ण होगी?

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×