विज्ञापन

कुचामन-मौलासर क्षेत्र में आंधी-बारिश से जमींदोज हुई गेहूं की 20 फीसदी फसल

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:20 AM IST

Nagour News - भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी लगातार दूसरे दिन भी क्षेत्र में मौसम का बदला रूप बरकरार रहा। दिनभर चली धूल भरी...

Nawa News - rajasthan news 20 crop of wheat harvested by storm rain in kuchaman maulasar area
  • comment
भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी

लगातार दूसरे दिन भी क्षेत्र में मौसम का बदला रूप बरकरार रहा। दिनभर चली धूल भरी हवाओं से जनजीवन प्रभावित हुआ। वहीं मंगलवार तड़के हुई रिमझिम बारिश से तापमान में खासी गिरावट हुई। इससे गर्मी और उमस से त्रस्त लोगों को खासी राहत महसूस हुई। इधर, मौसम बदलने से क्षेत्र में काटने से बची पकी हुई गेहूं की फसल में नुकसान हुआ है। कृषि विभाग की ओर से नुकसान का आंकलन किया जा रहा है, हालांकि प्रारम्भिक तौर पर करीब 15 से 20 फीसदी फसल में आंधी के कारण नुकसान होने के समाचार है। दरअसल, सोमवार शाम अचानक मौसम में व्यापक बदलाव हुआ। धूल भरी आंधी चलने लगी। इससे घरों में धूल की परतें जमा हो गई। वहीं आंधी के चलते शहर समेत ग्रामीण क्षेत्र की बिजली गुल हो गई। देर रात तक बिजली की आवाजाही से लोगों को परेशानी हुई। आंधी से खेतों में खड़ी फसलें जमींदोज हो गई। काटने के लिए तैयार फसल में नुकसान हुआ है। कृषि विभाग के अनुसार लाडनूं, डीडवाना, मौलासर, कुचामन, नावां, परबतसर और मकराना सभी क्षेत्र में कमोबेश यह आंधी का असर देखा गया है। इन इलाकों में मुख्य तौर पर गेहूं की फसल करीब 25 फीसदी से ज्यादा काटने से बची हुई थी। प्याज की पछेती फसल में भी नुकसान की आशंका जताई जा रही है।

मौलासर/डीडवाना | डसाना खुर्द क्षेत्र में ईसबगोल की कटी फसल को आंधी से नुकसान हुआ। मौलासर क्षेत्र में भी खेतों में खड़ी फसलों को नुकसान हुआ। डीडवाना में भी सोमवार रात 8.40 बजे आंधी के साथ बारिश हुई।

आफत की आंधी से सपने जमीं पर...

कुचामन सिटी. पास के एक खेत में आंधी से जमींदोज हुई गेहूं की फसल और उसे समेटने का प्रयास करता किसान।

असर: तापमान में गिरावट, ठंडी हवा ने दी गर्मी से राहत

आंधी व रिमझिम बारिश के कारण मंगलवार को तापमान में व्यापक गिरावट दर्ज की गई। सोमवार को अधिकतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान भी 19 डिग्री रहा। जबकि एक दिन पहले झुलसाने वाली गर्मी थी और दिन का तापमान 41 और रात का तापमान 29 डिग्री सेल्सियस रहा। गर्मी तापमान गिरने और ठंडी हवाएं चलने से से त्रस्त लोगों को राहत मिली।

कारण| कम दबाव व तेज गर्मी से बिगड़ा मौसम

मौसम विभाग के अनुसार जैसलमेर से एमपी तक ऊपर चक्रवात व कम दबाव का क्षेत्र बना है। तेज गर्मी और धूप के कारण हवाएं गर्म हो ऊपर उठ रही है। जिससे हवाओं की गति बढ़ जाती है और यह धूल और मिट्टी को भी ले आती है। इससे आंधी आती है। जब गर्म हवाएं ऊपर उठती है तो नमी पाकर बादल बन जाती है। यह बादल भारी होकर नीचे की तरफ आते हैं।

पूर्वानुमान| सप्ताह में दूसरी बार सटीक रहा

एक सप्ताह में मौसम विभाग ने दूसरी बार अलर्ट जारी किया था। जिसमें मौसम में व्यापक बदलाव की संभावना जताई गई थी। अलर्ट के अनुसार नागौर, बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, चूरू, हनुमानगढ़, बीकानेर, नागौर, अजमेर, अलवर, सीकर, जयपुर, दौसा, भरतपुर और करौली में 15 16 व 17 अप्रैल को हवाओं के साथ कई जगह बिजली गिरने व बूंदाबांदी की संभावना जताई थी।

X
Nawa News - rajasthan news 20 crop of wheat harvested by storm rain in kuchaman maulasar area
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन