पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Nagaur News Rajasthan News 428 Lakhs Donations Were Made To Mirdha College Building 70 Thousand Students Have Graduated The Current Principal Mla Also Read Here

4.28 लाख चंदा जुटा बनाया था मिर्धा काॅलेज भवन, 70 हजार विद्यार्थी कर चुके स्नातक, वर्तमान प्राचार्य-विधायक भी यहीं पढ़े़

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बीअार मिर्धा काॅलेज अाज 50 वर्ष का हाे गया है। पूरे मारवाड़ क्षेत्र में महत्व रखने वाले जिला मुख्यालय के सबसे बड़े बलदेव राम मिर्धा कॉलेज की स्थापना अाज ही के दिन 8 अगस्त 1969 को की गई थी। जिला स्तर पर युवा पीढ़ी आसानी से उच्च शिक्षा हासिल कर सके। इसी मकसद से नागाैर शिक्षा विकास समिति द्वारा 300 से ज्यादा दानदाताओं व विभिन्न संस्थाओं से 50 वर्ष पूर्व 4.28 लाख रुपए एकत्रित कर इस कॉलेज भवन का निर्माण करवाया था। उस समय मिर्धा कॉलेज का नाम सरकारी कॉलेज नागौर ही था। करीब साढ़े 15 साल बाद 28 जनवरी 1986 को राज्य सरकार द्वारा किसान केसरी, समाज सुधारक बलदेव राम मिर्धा की याद में 28 जनवरी 1986 को नाम बदलकर उनके नाम रख दिया गया। दरअसल, ये कॉलेज एमडीएसयू अजमेर से संबद्ध है। कॉलेज में 16 शैक्षणिक विभाग अलग-अलग चल रहे हैं। कॉलेज प्रशासन की मानें तो 1969 से अब तक 50 वर्ष के दौरान 70 हजार से ज्यादा नियमित विद्यार्थी स्नातक तो 6 हजार से अधिक विद्यार्थी है जो स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल कर चुके हैं। इतना ही नहीं वर्तमान कॉलेज प्राचार्य प्रो. एमपी बजाज से लेकर नागाैर विधायक माेहनराम चाैधरी भी यहां पढ़ाई कर चुके हैं।

ऐसे बदलता गया हमारा कॉलेज : बीआर मिर्धा नागौर का सबसे प्रतिष्ठित सरकारी कॉलेज है। स्थापना- 8 अगस्त 1969 में हुई। 28 जनवरी 1986 नाम बदला। 1977 में कॉलेज यूजी से पीजी में क्रमोन्नत हुआ। 1979 में यहां एलएलबी पाठ्यक्रम की शुरूआत हुई। अब यहां जल्द ही उर्दू संकाय की शुरूआत होगी।

ये वो चेहरे जो यहां पढ़ें, अब बना चुके हैं अलग पहचान

नागौर विधायक मोहनराम चौधरी, पूर्व विधायक हबीबुर्रहमान, जिला प्रमुख सुनीता चौधरी यहां पढ़ाई की अब राजनीति के क्षेत्र में अागे बढ़ चुके हैं।

रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी केराम बागड़िया पूर्व डीजीपी, न्यायिक सेवा में उमेश शर्मा, आरपीएस सुखदेवसिंह चारण, धर्माराम गिला, आरएएस चुन्नीलाल सैनी जैसे सैकड़ों अधिकारी आईपीएस, आरपीएस, आरएएस सहित अन्य राज्य सेवाओं में कार्यरत है। इसी काॅलेज से इन सभी ने स्नातक या स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की है।

अतिशबाजी से कार्यक्रम का आगाज : स्थापना दिवस पर काॅलेज भवन व परिसर काे लाइटों की रोशनी से सजाया गया है। पूर्व संध्या पर बुधवार रात्रि काे विद्यार्थियों द्वारा जमकर आतिशबाजी की गई। ऑडिटोरियम हाॅल में गुरुवार सुबह 10 बजे रंगोली कार्यक्रम, 11.30 बजे से शिक्षा अाैर समाज विषय पर भाषण प्रतियोगिता हाेगी। शाम 4 बजे से पंजीयन शुरू होगा। 5 बजे से पूर्व छात्र समागम एल्युमनी मीट शुरू हाेगी।

प्रस्तावना के बाद पूर्व विद्यार्थी विजन रखेंगे। भाग लेने वाले सभी विशेष अतिथि हाेंगे।

खबरें और भी हैं...