• Hindi News
  • National
  • Kuchaman News Rajasthan News Clean Up Workers Continue To Be Worried About 16 Point Demands

16 सूत्री मांगों को लेकर सफाईकर्मियों का धरना जारी, यही हाल रहे तो बिगड़ सकती है सफाई व्यवस्था

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी

सफाई कर्मचारी यूनियन के तत्वावधान में सफाई कार्मिक लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी धरने पर रहे। नगरपालिका दफ्तर के सामने धरना देकर उन्होंने अपनी विभिन्न मांगों को पूरी नहीं करने तक धरना जारी रखने का ऐलान कर दिया। इधर, पालिका प्रशासन ने सफाई कार्मिकों की यूनियन का अध्यक्ष बाहर का व्यक्ति होने की बात पर सवाल खड़े कर दिए। धरने पर बैठे सफाई कार्मिकों ने बताया कि वे लगातार दूसरे दिन भी धरने पर बैठे हैं लेकिन पालिका अथवा प्रशासन की ओर से कोई भी जिम्मेदार अधिकारी और जनप्रतिनिधि धरनास्थल पर नहीं आए और न ही उनकी मांगों पर गौर किया गया है। धरने के दौरान गर्मी से राहत के लिए टेंट में पंखे और कूलर की भी व्यवस्था कर ली। सफाई कार्मिकों को कहना है कि जब तक मांगें नहीं मानी जाएगी तब तक अनिश्चितकालीन धरना जारी रहेगा। सफाई कार्मिकों ने सफाई व्यवस्था का भी बहिष्कार कर दिया है। ऐसे में एक दो दिन में शहर में सफाई व्यवस्था चौपट होने की आशंका भी है। गौरतलब है कि 3 दिन पहले सफाई कार्मिकों ने ईओ श्रवणराम चौधरी से मुलाकात कर 16 सूत्रीय मांग पत्र सौंप 48 घंटे में मांगों पर विचार नहीं करने पर सफाई कार्य का बहिष्कार करते हुए अनिश्चितकालीन धरना देने की चेतावनी दी थी। पालिका प्रशासन ने सफाई कार्मिकों की यूनियन का अध्यक्ष और पदाधिकारी पालिका कार्मिक ही होने और उनके द्वारा कोई समस्या बताए जाने पर समाधान करने का आश्वासन दिया है। गौरतलब है कि अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के बैनर तले जिलाध्यक्ष संतोष सारवान केे नेतृत्व में ज्ञापन देकर धरना दिया जा रहा है। सारवान पालिका में सफाई कार्मिक के तौर पर नियुक्त नहीं बताए जा रहे हैं।

यह सफाई कार्मिकों की 16 सूत्रीय मांगें : सफाई कार्मिकों के मांग पत्र में सफाई कर्मियों का दुर्घटना बीमा करवाने, नई पैंशन योजना के तहत एनपीएस खाते में राशि जमा करवाने, कार्मिकों को जूते, मास्क, दस्ताने, कैप, रेडियम जैकेट आदि सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराने, हर माह की पहली तारीख को वेतन भुगतान करवाने, पहचान पत्र जारी करवाने, राजकीय अवकाश का कैलेंडर उपलब्ध कराने, सेवानिवृत्ति के दिन ही एक मुश्त भुगतान व पेंशन प्रक्रिया पूरी करने, सफाई कार्मिकों की संख्या के अनुसार जमादार व सफाई निरीक्षक की नियुक्ति करने, ठेके पर काम करने वालों की पीएफ कटौती करने, कार्मिकों को उनके मूल पद पर ही कार्य करवाने, नई भर्ती में चयनित होने वाले अनुपस्थित कार्मिकों को बर्खास्त करने, जनसंख्या के अनुसार सफाई कार्मिकों के पद बढ़ाकर भर्ती करने और ठेका प्रथा निरस्त करने सरीखी मांगे शामिल की गई है। इधर पालिका अध्यक्ष राधेश्याम गट्‌टाणी ने कहा कि पालिका के कार्मिकों से बाहर का कोई व्यक्ति उनकी यूनियन का अध्यक्ष बनकर कुछ भी मांगपत्र नहीं दे सकता। सफाई कर्मचारियों की कोई भी समस्या है तो बैठकर समाधान करने को हम तैयार हैं। वैसे आधे से ज्यादा सफाई कार्मिक काम पर थे और शहर की सफाई व्यवस्था को चौपट नहीं होने देंगे।

खबरें और भी हैं...