पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देवेन्द्र प्रताप सिंह | नागौर

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राहत नागौर सहित प्रदेश के एचआईवी+टीबी मरीजों पर उच्च तकनीक से रखी जा रही नजर, अब सभी टीबी रोगियों के लिए भी लागू होगा ये सिस्टम, जल्द कटेगा रोग


देवेन्द्र प्रताप सिंह | नागौर

एचआईवी और टीबी जैसी गंभीर बीमारी से अब डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इन बीमारियों को जड़ से खत्म करने की कवायद शुरू कर दी गई है। ऐसे रोगियों के लिए केंद्र सरकार की ओर से एक ऐसा हाई टेक्नोलॉजी सिस्टम तैयार किया गया है, जिससे न सिर्फ मरीजों की ऑनलाइन जानकारी मिल सकेगी बल्कि उनके दवा लेने या नहीं लेने तक की जानकारी भी मिलेगी। यदि मरीज समय पर दवा नहीं लेता है तो उसके पास आईसीटी तकनीके से मोबाइल पर मैसेज जाएगा। प्रिय पेसेंट आपने दवा नहीं ली है, कृपया मेडिसिन लें। साथ ही मरीजों के ट्रीटमेंट सपोर्टरों के पास भी मैसेज जाएगा, जिसमें बताया जाएगा कि आज आपके इतने मरीजों ने दवा नहीं ली है। आप उन्हें संपर्क करें और दवा लेने के लिए कहें। इसी तरह ऐसे ही मैसेज ब्लॉक लेवल पर कार्यरत खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारी व सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाइजर एवं जिला क्षय रोग अधिकारी के मोबाइल पर जाएगा कि आज जिले में इतने मरीजों ने दवा नहीं ली है। इसके बाद ये सभी अधिकारी या ट्रीटमेंट सपोर्टर मरीजों का फॉलोअप करेंगे और उन्हें दवा लेने के लिए कहेंगे। टीबी के मरीजों के लिए यह दूसरी बड़ी राहत है। इससे पहले इन मरीजों की जांच और जो मरीज दवा ले रहे हैं उनकी स्थिति जांचने के लिए अत्याधुनिक ट्रू नाट मशीन लाने की प्लानिंग भी पूरी कर ली गई है।

इस तरह जाएगा मरीज और ट्रीटमेंट सपोर्टरों के पास मैसेज दरअसल, एचआईवी+टीबी या किसी भी तरह के टीबी रोग के मरीजों को जो दवा दी जाएगी। उस दवा के रेपर में एक यूनिवर्सल एलवल्प इंसर्ट किया जाएगा। मरीज दवा खोलेंगे तो उसमें टोल फ्री नंबर निकलेगा। जैसे ही मरीज इन नंबरों को अपने फोन से डायल करेंगे तो इस हाईटेक सिस्टम पर जानकारी अपडेट हो जाएगी। यदि दवा नहीं ली तो पहले मरीज के पास मैसेज जाएगा आपने दवा नहीं ली है, दवा लें, फिर उसके ट्रीटमेंट सपोर्टर व अन्य अधिकारी के पास मरीज के दवा नहीं लेने का मैसेज जाएगा।

 

इस तरह दिखेगा नंबर, जिसे मरीज काे मोबाइल से डायल करना होगा।

दवा नहीं ली तो रोगी को मिलेगा मैसेज... ‘प्रिय मेडिसिन लीजिए’ फिर भी नहीं ली तो संबंधित डॉक्टर को जाएगा संदेश- मरीज ने दवा नहीं ली, संपर्क करें

अभी एचआईवी+टीबी मरीजों की निक्षय 2.0 से की जा रही है मॉनिटरिंग

जिला क्षय रोग नियंत्रण अधिकारी डॉक्टर श्रवण राव ने बताया कि अभी एचआईवी+टीबी मरीजों की ऑनलाइन मॉनिटरिंग एंड्रॉयड एप निक्षय 2.0 वर्जन और निक्षय 2.0 वेब पोर्टल के माध्यम से की जा रही है। इससे पहले यह सिस्टम 99 डॉट्स के नाम से जाना जाता था। बाद में अपडेट होकर अब निक्षय 2.0 वर्जन हो गया है। वर्तमान में निक्षय 2.0 वर्जन से मॉनिटरिंग की जा रही है। वहीं जिला कार्यक्रम समन्वयक नरेन्द्रसिंह राठौड़ ने बताया कि निक्षय 2.0 मोबाइल एप भी है। इससे कहीं से भी अपने मोबाइल से मरीजों की जानकारी एवं रोज की रिपोर्ट देख सकते हैं। साथ ही दवा नहीं लेने पर मरीजों का फोलोअप कर सकते हैं। अभी तक इस सिस्टम एचआईवी+टीबी के मरीजों की मॉनिटरिंग की जा रही है, लेकिन बहुत जल्द अब टीबी के मरीजों पर भी इससे ऑनलाइन नजर रखी जाएगी। इसके लिए वेबपोर्टल व एप अपडेट होकर तैयार है। जैसे ही टोल फ्री नंबरों वाले यूनिवर्सल एनवल्प पहुंचेंगे तो टीबी मरीजों की मॉनिटरिंग भी ऑनलाइन शुरू हो जाएगी। साथ ही इस एप से प्राइवेट डॉक्टर भी उनके माध्यम से दवा लेने वाले टीबी के मरीजों की मॉनिटरिंग कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें चिकित्सा विभाग की ओर से आईडी पासवर्ड दिए गए हैं। जिला कार्यक्रम समन्वयक राठौड़ ने बताया कि इस हाई टेक्नोलॉजी सिस्टम से चिकित्सा अधिकारियों सहित अन्य चिकित्साकर्मी व सहायककर्मियों के समय की बचत हो सकेगी। वर्तमान में टीबी के मरीजों की मॉनिटरिंग के लिए उनके पते पर जाकर फोलोअप करना पड़ता है। कुछ जिलों में तो हालात ऐसे हैं कि चिकित्सा टीम को 200 से 250 किमी दूरी के स्थानों पर जाकर मरीजों की माॅनिटरिंग करनी पड़ रही है, जिससे चिकित्सा टीम को पूरा दिन लग जाता है। अब यह सिस्टम शुरू होने पर कहीं से भी ऑनलाइन इन मरीजों की मॉनिटरिंग की जा सकेगी। वहीं टीबी एचआईवी कॉर्डिनेटर सुनील हर्ष ने बताया कि यह सिस्टम लागू होने से मरीजों को काफी राहत मिलेगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें