• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagour
  • Ren News rajasthan news human life is rare it is necessary to do charity work in life the welfare of life from ramnam is possible shastri
विज्ञापन

मनुष्य जीवन दुर्लभ, जीवन में परोपकार के कार्य करने जरूरी, रामनाम से जीवन का कल्याण संभव : शास्त्री

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 05:46 AM IST

Nagour News - भास्कर संवाददाता | मेड़ता सिटी (आंचलिक) रामधाम श्रीदेवल के संत रामनिवास शास्त्री ने कहा कि सभी शास्त्रों का सार...

Ren News - rajasthan news human life is rare it is necessary to do charity work in life the welfare of life from ramnam is possible shastri
  • comment
भास्कर संवाददाता | मेड़ता सिटी (आंचलिक)

रामधाम श्रीदेवल के संत रामनिवास शास्त्री ने कहा कि सभी शास्त्रों का सार रामनाम है। मनुष्य जीवन दुर्लभ है। हमें अपने जीवन को सदुपयोगी बनाकर कुछ परोपकार के कार्य करना चाहिए। जीवन की सफलता तभी है, हम जब भक्ति के मार्ग पर चलकर जीवन के लिए मोक्ष मार्ग प्रशस्त कर लें। मनुष्य रूपी जीवन का कल्याण राम नाम की भक्ति से संभव है। शास्त्री शनिवार को शहर के रेणी गेट स्थित राम धाम श्रीदेवल में सुखराम महाराज के 252वें वार्षिक निर्वाण महोत्सव के तहत शनिवार को चौथे दिन आयोजित धर्मसभा में प्रवचन कर रहे थे। आयोजित समिति के नंदू श्री मंत्री ने बताया कि महोत्सव के दौरान रविवार को अपराह्न तीन बजे महंत रामकिशोर महाराज की ओर से संपादित एवं संकलित दरियावजी की जन्म लीला संबंधित पुस्तक का विमोचन किया जाएगा। इस मौके पर निमाज रामद्वारा महंत माधवराव महाराज मौजूद रहेंगे। रविवार को देवल प्रांगण में भक्ति संध्या होगी। संत रमणराम ने बताया कि कथा प्रवचन का समय में परिवर्तन किया है। रविवार को कथा आरंभ का समय दोपहर 1 बजे का रहेगा। इस अवसर पर संत श्रवण राम, संत रमणराम, संत गोपालराम, संत दीपाराम, संत उदय राम, संत भोलाराम, संत दयाराम मौजूद रहे।

धर्म समाज

भक्ति से ही कल्याण संभव : विवेक महाराज

दधवाड़ा | लाम्बा जाटान स्थित संत सेवादास महाराज की तपोभूमि पावणी नाडी धाम के महंत उमाराम महाराज का सतलोकवास होने पर 17वीं मेला महोत्सव के अंतर्गत चल रही श्रीमद् भागवत कथा में दातड़ा धाम के पीठाधीश्वर निर्मलराम महाराज ने श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ में श्रीकृष्ण भगवान की बाल लीलाओं का वर्णन किया। इस दौरान कबीर संप्रदाय के मूल गादीपति विवेक महाराज ने जीव व परमात्मा के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि ईश्वर की भक्ति से ही कल्याण संभव है। देवरी धाम पीठाधीश्वर रमैयादास महाराज ने पावणी नाडी धाम के ब्रह्मलीन महंत उमाराम महाराज की जीवनी पर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि महाराज का जीवन सरल, सादगीपूर्ण एवं मधुरवाणीपूर्ण था। उनका सबसे बड़ा धन संतोष था। जो अपने आप में सबसे महत्वपूर्ण था। उमाराम महाराज के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की गई। इस दौरान भोलाराम महाराज, रमैयादास महाराज, श्रीवल्लभदास महाराज, महंत गोपालदास महाराज फतेहसागर, जियाराम महाराज, उगमाराम महाराज, संत मोडाराम महाराज, संत सीताराम महाराज, लूणाराम भांबू, पूर्व सरपंच रामकरण नायक, कालूराम मेघवाल, घासीराम नायक, सुरेश सरगरा, संतोष कड़ेला, कमल दाधीच मौजूद रहे।

X
Ren News - rajasthan news human life is rare it is necessary to do charity work in life the welfare of life from ramnam is possible shastri
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन