पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • PHEE News Rajasthan News In The Top 7 Iits Enrollment Of Girls Increased By 1288 11289 Seats In One Year Yet Getting Admission At 19 Thousand Rank

टॉप 7 आईआईटीज में ही एक साल में लड़कियों के एनरोलमेंट में 1288 की बढ़ोतरी,11289 सीटें, फिर भी 19 हजार रैंक पर मिल रहा एडमिशन

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

आईआईटीज में इस साल लड़कियों की सुपरन्यूमरेरी सीटों की संख्या 20 प्रतिशत तक कर दी गई है। इससे संबंधित नियम काउंसलिंग प्रोसेस में जारी कर दिए जाएंगे।

लड़कियों के लिए सुपरन्यूमेररी कोटा पिछले साल 14 से बढ़ाकर 17 फीसदी कर दिया गया और अब 17 की जगह 20 प्रतिशत सीटों पर गर्ल्स को एडमिशन मिल सकेगा। हाल में मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ने भी इस बारे में ट्वीट किया है। भास्कर ने जब टॉप सात आईआईटीज के पिछले साल के गर्ल्स एनरोलमेंट स्टेट्स का एनालिसिस किया तो सामने आया कि अब आईआईटी संस्थानों में जेंडर गैप कम हो रहा है। यह आईआईटीज के साथ ही इंजीनियरिंग फील्ड के लिए भी अच्छी खबर है। टॉप आईआईटीज ही नहीं बल्कि नए आईआईटीज मंे भी लड़कियां एडमिशन ले रही हैं। सीटें तय होने के कारण लड़कियों के लिए फीमेल पूल के साथ जेंडर न्यूट्रल पूल में एडमिशन का विकल्प खुला रहता है। वहीं, फीमेल पूल में छात्राआें के पिछले साल के आंकड़ों पर नजर डालें तो अब जेंडर गैप कम हो रहा है। इतना ही नहीं अब चुनौतीपूर्ण ब्रांचाें में भी लड़कियाें को एडमिशन देना शुरू कर दिया है। आईआईटी धनबाद, आईआईटी खड़गपुर व आईआईटी वाराणसी सशर्त लड़कियों को माइनिंग इंजीनियरिंग या माइनिंग मशीनरी इंजीनियरिंग में दाखिला दे रहे हैं।

अच्छी खबर यह है कि लड़कियों को सभी आईआईटीज में अतिरिक्त सीटों के कारण उन्हें पसंदीदा ब्रांच व आईआईटी में एडमिशन मिल रहा है। आईआईटी दिल्ली की ही बात की जाए तो अब यूजी के साथ पीजी व पीएचडी प्रोग्राम में भी एनरोलमेंट बढ़ रहा है। यहां पर लड़कियों की संख्या का आंकड़ा 40 % तक पहुंच गया है।

- प्रो. वी. रामगोपाल राव, डायरेक्टर, आईआईटी दिल्ली।

खबरें और भी हैं...