जलदायकर्मियों को परिषद से परहेज बुलाने पर नहीं जा रहे, काम बाधित

Nagour News - नगर परिषद और पीएचईडी के कार्मिकों के बीच गुजरे तीन दिन से शुरु वर्चस्व की लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। नगर परिषद...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 10:00 AM IST
Nagaur News - rajasthan news not going to call on firefighters to abstain from council work interrupted
नगर परिषद और पीएचईडी के कार्मिकों के बीच गुजरे तीन दिन से शुरु वर्चस्व की लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। नगर परिषद शहर की जलापूर्ति व्यवस्था का हवाला देकर कर्मचारियों को तालमेल से काम करने का मशविरा दे रहा है तो कर्मचारी इसे नियमविरुद्ध बताकर उनको परेशान करने का आरोप नगर परिषद पर लगा रहे हैं। शनिवार को भी दिनभर इस तरह के आरोप- प्रत्यारोप चलते रहे।

इंटक के प्रदेश उपाध्यक्ष व जिला संयोजक मूलाराम सांगवा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि 8 जुलाई को आयुक्त ने 80 कर्मचारियों की सूची मांगी, जिसमें 32 नियमित कर्मचारी जो कि वर्क चार्ज कैडर के हैं, जिन्हें नगर परिषद में प्रतिनियुक्ति नहीं दी जा सकती है। उनको भी नगर परिषद में बुला लिया गया। इसी को लेकर खींचतान होती दिख रही है।

सवाल...इस खींचतान में शहर का क्या होगा

इंटक ने बताया कि नहर का पानी पंप हाउस से शहर में देने की जिम्मेदारी पीएचईडी की है, फिर भी आयुक्त ने पंप हाउस, जल सप्लाई करने के कार्य को ठेके पर देने की निविदा निकाली है। सप्लाई आदि कार्य ठेके पर देने की व्यवस्था नियम विरुद्ध है। ठेका देने के लिए नियमानुसार नगर परिषद को स्वायत्त शासन विभाग से अनुमति एवं वित्तीय स्वीकृति लेनी होती है। उन्होंने आरोप लगाया कि शहर की जलापूर्ति व्यवस्था में व्यवधान पैदा करने के लिए परिषद एवं जलदाय विभाग के अधिकारियों की घोर लापरवाही से परिषद में कार्यरत 3 कनिष्ठ अभियंता व 2 सहायक अभियंता को कार्यमुक्त किया गया जबकि राज्य सरकार के आदेश में कार्य मुक्त नहीं कर सकते हैं यह साफ लिखा है। यूनियन के जिला संयोजक ने बताया कि शहरी जल योजना के कर्मचारी लिखित में कलेक्टर व एईएन को अवगत करा चुके हैं कि पानी की समस्या का असली कारण टंकी को भरे जाने वाले लाइन में लोगों ने अवैध कनेक्शन ले रखे हैं, इससे सप्लाई में व्यवधान पैदा होता है, उन्हें काटा जाए मगर, नगर परिषद ने अवैध कनेक्शन काटे नहीं और अवैध टैंकरों को भी नहीं पकड़ा जा रहा है।

पुराना काम ही करने पर अड़े है पीएचईडी कर्मी: जानकारी है कि पीएचईडी कर्मियों को अपना पुराना काम ही करने में खुशी है। वे नहीं चाहते कि नया काम सौंपा जाए। जबकि परिषद की ओर से व्यवस्थाएं सुधारने के लिए ऐसा किया जा रहा है। ताकि लोगों को समस्या नहीं आए और जलापूर्ति सुचारू होती रहे।

एक्सईएन : हैंडओवर किया है तो गलत नहीं

पीएचईडी के अधिशाषी अभियंता शभूंदयाल चौहान ने बताया कि शहर की जलापूर्ति सुधार के लिए नगर परिषद प्रयास कर रही है तो गलत नहीं है। लेकिन अगर पीएचईडी के कार्मिकों को कोई समस्या है तो कलेक्टर को ज्ञापन देकर अवगत कराएं, अगर नियमविरुद्ध है तो कलेक्टर फैसला ले सकते हैं। वर्क चार्ज कैडर कार्मिकों की प्रतिनियुक्ति नहीं दी जा सकती है लेकिन जब हैंड ओवर किया है तो यह गलत नहीं है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों को जनहित को देखते हुए काम पर आ जाना चाहिए। इसी में सभी की भलाई है।

X
Nagaur News - rajasthan news not going to call on firefighters to abstain from council work interrupted
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना