• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagour
  • Nagaur News rajasthan news online disturbances admin accused of giving benefit of influencers also accused of recovery

रसूखदारों काे फायदा देने ऑनलाइन गड़बड़ी व्यवस्थापक पर वसूली का भी लगाया आरोप

Nagour News - मुंदियाड़ ग्राम सेवा सहकारी समिति व्यवस्थापक द्वारा ओनलाइन गड़बड़ी कर बड़ा भ्रष्टाचार किया गया। समिति द्वारा 1.22...

Feb 15, 2020, 10:21 AM IST

मुंदियाड़ ग्राम सेवा सहकारी समिति व्यवस्थापक द्वारा ओनलाइन गड़बड़ी कर बड़ा भ्रष्टाचार किया गया। समिति द्वारा 1.22 लाख से ऊपर का गोलमाल किया गया। इस समिति में 11 लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए सरकारी संपति का नुकसान किया गया। समिति में मुंदियाड़, बलाया व पालड़ी गांव के किसान सदस्य है। सरकार को 11 किसानों के लिए 2 लाख 19 हजार रुपए ऋण माफी के तहत कर्ज माफ करना था मगर व्यवस्थापक की मिलीभगत से 3 लाख 41 हजार से अधिक राशि माफ करवाई गई। खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। जबकि अधिकारी इस मामले में कार्रवाई करने से कतरा रहे हैं। कार्रवाई के नाम पर समिति के अधिकतर कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया जाता है। बहुत हुआ तो विभागीय जांच बैठा दी जाती है मगर कर्मचारी के खिलाफ न तो कोई बड़ी कार्रवाई की जाती है और न ही वसूली के लिए कोई बड़े कदम उठाए जाते हैं। इधर गांव में किसानों ने भास्कर को बताया कि मुंदियाड़ सहकारी समिति में ऐसा पहली बार नहीं हुआ बल्कि पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं। किसान मूलाराम बिडियासर बताते हैं कि उन्होंने 2017 में लोन लिया था।

कर्जमाफी के दौरान आवेदन भरवाए मगर ऑनलाइन रिकॉर्ड में जमीन कितनी दर्शाई यह उनको नहीं बताया गया। उनकी जमीन का डाटा कम बता दिया बिडियासर की ऑनलाइन जमीन 2.08 हैक्टेयर दर्ज है जबकि वास्तविक जमीन 4.16 हैक्टेयर है।

ऐसे समझें ऑनलाइन हेरा फेरी करने का मामला

सहकारिता विभाग द्वारा 2018 में की गई ऋण माफी में सरकारी कर्मचारियों ने रसूखदारों को फायदा पहुंचाने के लिए आंकड़ों में हेरा-फेरी की गई। पटवारी द्वारा मौका रिपोर्ट तैयार कर सहकारी समिति को सौंपी गई मगर उस रिपोर्ट और ऑनलाइन आंकड़ों में जमीन आसमान का अंतर है। व्यवस्थापक ने कुछ लोगों को अधिक ऋण माफी का फायदा देने के लिए ऑनलाइन किए गए आंकड़ों में कम जमीन बता दी। इसके लिए किसानों ने पांच हजार रुपए प्रति किसान सहित मोटी रकम वसूलने का भी आराेप लगाया है। ग्रामीणों ने बताया कि उनके रिकॉर्ड में व्यवस्थापक ने जमीन कम चढ़ा दी। इस बारे में उन्हें जानकारी तक नहीं है। गड़बड़ी के इस खेल से किसानों को वापस लोन नहीं मिल पा रहा है।

एटीएम मामले में मूंडवा मैनेजर बोले-उनके पास रिकॉर्ड ही नहीं : मूंडवा सहकारी समिति के बैंक मैनेजर सीताराम बताते हैं कि उनकी बैंक से सहकारी समितियों को कितने एटीएम वितरित किए । वो रजिस्टर खो गया तथा रिकॉर्ड नहीं है। जबकि भास्कर ने आंकड़े जुटाए कि जिले में 86408 एटीएम वितरित किए, जिनमें मूंडवा में 2446 एटीएम भेजे गए। उनमें से करीब 650 एटीएम मुंदियाड़ भेेजे गए। बैंक एमडी पीपी सिंह ने कहा कि ग्राम सेवा सहकारी समिति मामले में जांच जारी है। जो दोषी होगा उन पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना