प्रायोगिक परीक्षा में प्राइवेट परीक्षक लगाने का विरोध

Nagour News - राजस्थान शिक्षा सेवा प्राध्यापक संघ रेसला ने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड परीक्षा 2020 के लिए प्रायोगिक परीक्षा में निजी...

Jan 16, 2020, 09:50 AM IST
Nagaur News - rajasthan news opposition to apply private examiner in practical examination
राजस्थान शिक्षा सेवा प्राध्यापक संघ रेसला ने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड परीक्षा 2020 के लिए प्रायोगिक परीक्षा में निजी विद्यालयों के परीक्षक लगाने का विरोध किया है। मुख्यमंत्री के नाम अतिरिक्त जिला कलेक्टर मनोज कुमार को मंगलवार को दिए ज्ञापन में रेसला जिला अध्यक्ष पवन मांझू ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान में इस वर्ष 2020 में बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षा में निजी विद्यालय के शिक्षकों को परीक्षक के रुप में लेने का पंजीयन प्रारंभ किया है। रेसला नागौर इस अव्यवहारिक निर्णय का विरोध करता है। क्योंकि राज्य के सरकारी विद्यालयों में पर्याप्त संख्या में व्याख्याता उपलब्ध है। पिछले वर्षों के अनुभव यह बताते हैं कि निजी विद्यालय के परीक्षकों ने प्रायोगिक परीक्षा के नाम पर राजकीय विद्यालय के विद्यार्थियों तथा विद्यालयों से परीक्षा के नाम पर अनुचित तरीके से लाभ देने का लालच देकर भ्रष्टाचार करने का प्रयास किया। ब्लॉक मंत्री मदनलाल विश्नोई ने बताया कि निजी विद्यालय के शिक्षकों को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान प्रायोगिक परीक्षा में परीक्षक के रुप में नहीं लगाया जाए। पंजीयन कार्य तुरंत प्रभाव से रोका जाए। ब्लॉक सभाध्यक्ष महावीर प्रसाद तंवर ने बताया कि राजकीय विद्यालय में कार्यरत व्याख्याताओं की हर प्रकार की जवाबदेही होती है। ब्लॉक प्रवक्ता मनोज सोनी, जिला कार्यकारिणी सदस्य तुलछाराम गोदारा, डॉ शेर मोहम्मद गौरी, सुरेंद्र फुलवारिया, श्रवण राम खुड़खुड़िया, दिलीप सिंह राठौड़, मोहम्मद अहसान गौरी, चांदमल बेरवा, भंवरलाल पूनियां आदि ने भी इस व्यवस्था का विरोध किया है।

राजस्थान शिक्षा सेवा प्राध्यापक संघ रेसला द्वारा एडीएम को ज्ञापन देते हुए।

X
Nagaur News - rajasthan news opposition to apply private examiner in practical examination
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना