रमजान के दूसरे जुम्मे की नमाज अदा की, मुल्क में अमन की दुआ मांगी

Nagour News - पवित्र माह रमजान के दूसरे जुमे पर शहर की मस्जिदों में नमाज अदा की गई। इस मौके पर शहरिया बास स्थित मस्जिद कायमखानी...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:11 AM IST
Ladnu News - rajasthan news pray for the second prayer of ramadan pray for peace in the country
पवित्र माह रमजान के दूसरे जुमे पर शहर की मस्जिदों में नमाज अदा की गई। इस मौके पर शहरिया बास स्थित मस्जिद कायमखानी अहले सुन्नत में शहर काजी सैयद अयूब अशरफ़ी ने जुमे की नमाज अदा कराई।

इस दौरान अशरफ़ी ने अपनी तकरीर में कहा कि युवा मोबाइल पर अपना समय बर्बाद न करें, वे इस माह की अहमियत समझते हुए अधिक से अधिक रब की इबादत में अपना वक्त लगाएं। वही मदीना मस्जिद अहले हदीस में शेख साबिर ने दौरान तकरीर आमजन को संबोधित करते हुए कहा कि रोजा और नमाज बुराइयों से बचने की ढाल है। उन्होंने मालदार लोगों से अपने धन का ढाई प्रतिशत हिस्सा गरीब लोगों को जकात के रूप में दान कर गरीबों की मदद करनी चाहिएं। इस दौरान शहर की विभिन्न मस्जिदों में जुमा की नमाज अदा कर देश में अमन व चैन की दुआएं मांगी गईं।

रोजा इफ्तार पार्टी में झलका सांप्रदायिक सौहार्द

हरसौर| ग्राम भैरूंदा की देशवालियों की ढाणी में शुक्रवार शाम रोजा इफ्तार पार्टी का आयोजन हुआ। ब्लॉक कांग्रेस महामंत्री दीपेंद्र सिंह गुढ़ा की अगुवाई में हिन्दू समाज के युवाओं ने अकीदतमंदों को रोजा खुलवाया। इस दौरान सांप्रदायिक सौहार्द देखने को मिला। इस अवसर पर चौकी प्रभारी सुरेन्द्र कुमार मीना,सुखदेव भट्ट,दशरथ सिंह,सुभान खां देशवाली,नेमे खां,दल्ले खां,कबीर, सराज,सलीम,उस्मान,हकीम खां, नसीर खां, रसाल, रियाज सहित बड़ी संख्या में गणमान्य लोग मौजूद थे।

लाडनूं. रमजान के दूसरे जुमे की नमाज अदा करते हुए।

हरसौर. मस्जिद में रोजा इफ्तार पार्टी में मौजूद अकीदतमंद।

दूसरा अशरा शुरू, रमजान के दूसरे जुमे की नमाज अदा की

शेरानी आबाद। माहे रमजान में अल्लाह ने अपने बंदों पर बरकतों और रहमतों की बारिश की है, आज से दूसरा असरा मगफिरत का शुरू हो चुका है। अल्लाह अपने बंदों की मगफिरत फरमाये।

जामा मस्जिद में माहे रमजान के दूसरे जुम्मे की नमाज से पहले खिताब फरमाते हुए यह बात मौलाना अब्दुल हकीम मिस्बाही ने कही। उन्होंने कहा कि माहे रमजान के रोजे केवल भूखे रहने का नाम नहीं है। इस महीने में आप अपनी मगफिरत के लिए जकात, फितरा और खैरात के साथ-साथ जी भर कर तिलावते कुरआन करते रहे। इस अवसर पर नूरी मस्जिद में हाफिज अश्जद रजा ने अपने खिताब में कहा कि फितरा हर मुसलमान पर फर्ज है जो कि नमाज ए ईद उल फितर से पहले अदा करना वाजीब है। उन्होंने कहा कि जो अन्न आप खाते हैं उस अनाज का 2 किलो 45 ग्राम अनाज सदका ए फितर है। मक्का मस्जिद में हाफिज अब्दुल गफूर ने भी विचार रखे।

कस्बे की कंजुल इमान मस्जिद में इमाम शौकत अली खान, गौसिया मस्जिद में हाफिज कासम अली, मदीना मस्जिद में हाफिज अख्तर रजा, डूंगरी की अश्फाकिया मस्जिद में इमाम मौलाना अब्दुल रहमान मदनी ने नमाज अदा करवाई।

मुस्लिम भाई जुम्मे की नमाज सुकून से अदा करें इसलिए हिन्दू व्यापारियों ने की व्यवस्थाएं

मकराना| खुदा की इबादत के लिए जगह ही नहीं बल्कि नीयत व दिल भी साफ होना चाहिए। इबादत चाहे जहां भी करों मंजूर करना खुदा के हाथ हैं। ऐसा ही एक नजारा शुक्रवार को मकराना में सदर बाजार में देखने को मिला।

रमजान माह के दूसरे जुमा की नमाज अदा करने के लिए आए लोगों के लिए सदर बाजार स्थित शाहजहानी मस्जिद में जगह कम पड़ने पर लोगों ने मस्जिद के बाहर सड़क पर धूप में ही नमाज अदा की। इस दौरान आस पास स्थित हिन्दू समाज के व्यापारियों ने नमाजियों के लिए दरी व कालीन बिछाकर व्यवस्था की।

नमाज में व्यवधान ना हो इसके लिए पहले से ही रांदड़ गली, टीबा बाजार व धूतों के चौक की तरफ जाने वाले मार्ग से यातायात को डायवर्ट करने हेतु व्यापारियों ने यातायात पुलिस का सहयोग लिया। शाहजहांनी मस्जिद मकराना के सदर बाजार के बीचों बीच स्थित होने के कारण खासकर रमजान में जुम्मे की नमाज के लिए मस्जिद में काफी लोग शिरकत करते हैं।

नावां सिटी| नावां व लूणवा क्षेत्र में पवित्र रमजान माह में शुक्रवार को मुस्लिम समुदाय की ओर से जुम्मा की नमाज अदा की गई। इस पवित्र महीने को लेकर मुस्लिम समुदाय के लोगों में खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। भीषण गर्मी और उमस भरे मौसम में रोजेदार करीब 12 से 15 घण्टे तक रोजे रख रहे है। नावां मौलाना अजमल रज्जा कादरी ने बताया कि इस बार रोजे का समय बढ़ता जाएगा। उन्होंने बताया कि यह महीना बुराई से तौबा कर अल्लाह की इबादत करने का खास महीना है। वर्षों बाद इस बार रमजान शरीफ में रोजे का समय अधिक हुआ है। उन्होंने बताया कि रोजे का मतलब होता है कि बुराइयों से बचते हुए भलाई को अपनाना रोजा है। इंसान रोजा रखकर ऐसा बनने बनने की कोशिश करता है जैसे उसे रब चाहता हो। रमजान का महीना बेहद पाक व रहमतों वाला होता है। शुक्रवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा रोजा रखने बाद सामूहिक रूप से रोजा इफ्तार किया गया।

डीडवाना। रमजान माह में अल्लाह ने अपने बंदों पर फजिलतों, बरकतों और रहमतों की बारिश की है। यह बात शुक्रवार को पुरानी ईदगाह मस्जिद में रमजान माह के दूसरे जुम्मे की नमाज से पहले नायब शहर काजी सादिक उस्मानी ने कही। उन्होंने कहा कि रमजान के रोजे केवल भूखे रहने का नाम नहीं है, इस महीने में अपनी मगफिरत के लिए जकात, फितरा और खैरात के साथ साथ जी भर कर तिलावते कुरआन कर सकते है। इस अवसर पर शहर काजी रेहान उस्मानी ने कहा कि फितरा हर मुसलमान पर फर्ज है, जो कि नमाज ए ईद उल फितर से पहले अदा करना वाजिब है।

उन्होंने कहा कि आप जो अन्न खाते है उस अनाज का 2 किलो 45 ग्राम अनाज सदक़ा ए फितर है। शहर काजी ने जकात के बयान पर कहा कि अगर आपके पास साढ़े सात तोला सोना या उसके बराबर दूसरी कोई रकम या माल है तो आप मालिक ए निसाब है और आप पर जकात वाजिब है। जकात का सही तरीका है कि उस माल का चालीसवां हिस्सा जकात के रुप में गरीबों, मिस्कीन और यतीमों को दे दिया जाए। उन्होंने कहा कि फितरा और जकात अपने भाइयों, रिश्तेदारों और पड़ोसियों को देना सबसे अफजल है। रमजान के दूसरे जुम्मे की नमाज में बड़ी तादात में लोगों ने नमाज अदा की।

नावां. लूणवा ग्राम में रोजा खोलते हुए रोजेदार।

Ladnu News - rajasthan news pray for the second prayer of ramadan pray for peace in the country
Ladnu News - rajasthan news pray for the second prayer of ramadan pray for peace in the country
X
Ladnu News - rajasthan news pray for the second prayer of ramadan pray for peace in the country
Ladnu News - rajasthan news pray for the second prayer of ramadan pray for peace in the country
Ladnu News - rajasthan news pray for the second prayer of ramadan pray for peace in the country
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना