पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Makrana News Rajasthan News Presentations By The Qawwals Of Qiwali Program Chittaur And Jodhpur On Annual Two Rosa Urs

सालाना दो रोजा उर्स पर कव्वाली कार्यक्रम, चित्तौड़ और जोधपुर के कव्वालों ने दी प्रस्तुतियां

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement
भास्कर संवाददाता | मेड़ता सिटी(आंचलिक)

दरगाह में हजरत सुल्तानुल आारिफीन जीनाशाह बाबा तथा कारी शेखुल हुसैन बाबजी के सालाना दो रोजा उर्स के तहत रविवार रात्रि को दरगाह परिसर में हजरत कारी शेख अब्दुल्लाह की अध्यक्षता में कव्वाली कार्यक्रम का आयोजन हुआ।

इस मौके पर मुख्य अतिथि पूर्व मंडी सचिव मांगीलाल चौधरी थे। कार्यक्रम में चित्तौड़ एवं जोधपुर से आए कव्वालों ने कव्वालियों की प्रस्तुति‍ से जायरीनों को भाव-विभोर कर दिया। निसार अहसान चित्तौडगढ़ ने मुस्तफा आपके जैसा कोई आया नही..., तु मेरा पीर ए कामिल है मुझे तुझ से ही निस्बत है..एवं इरफान-तुफैल पार्टी जोधपुर ने भी नातियां कलाम के साथ कई कलाम प्रस्तुत कर समां बांध दिया।

मंच का संचालन बीके व्यास सागर ने कौमी एकता की रचनाओं के जरिये खूब दाद पाई। इससे पूर्व मदरसे के बच्चों ने नातियां कलाम एवं मनकबत का नजराना पेश कर माहौल को नूरानी बना दिया।

आए हुए अतिथियों का साफा बंधवाकर नूर बा तेली, ठेकेदार अब्दुल मजीद सोलंकी, पूर्व मंडी सहायक सचिव शकील अहमद कादरी, आरिफ मकराना आदि ने किया। इससे पूर्व दिन में चादर शरीफ का जुलूस जीनाशाह बाबा की दरगाह से निकाला गया जो जैतारण रोड, नन्हा बाजार, घोसीवाडा से होता हुआ हाफिज शाह बाबा की दरगाह पहुंचा जहां पर अकीदत के फूल एवं चादर पेश कर देश में अमन, चैन, भाईचारा के लिए दुआं की गई। जबकि नूरानी मेहफिल में मौलाना फयाज अहमद रिजवी जोधपुर, मौलाना शुम्शुदीन कादरी मकराना, मौलाना फयाज अहमद रिजवी जोधपुर, मौलाना शुम्शुदीन कादरी मकराना ने तकरीर करते हुए आज के दौर को देखते हुए दीनी तालीम के साथ-साथ दुनियावी तालीम भी जरूरी हो गई है।

हमें बुजुर्गानेदीन के बताए रास्ते पर चलते हुए दीन की खिदमत के साथ ही नमाज को पाबंदी के साथ पढे। नमाज हमें हर आफत एवं बुराई से बचाती है। इस मौके पर देश भर में नातियां कलाम के जरिये धूम मचाने वाले नामवर नात ख्वां कारी रईस अहमद सिद्दीकी जोधपुर ने नबी का लब पर जो जिक्र है-बेमिसाल आया कमाल आया..., जहां-जहां उठे नजर हुसैन ही हुसैन है..., मोहम्मद के गुलामो का कफन मैला नही होता..., या रब मेरा नसीब चमकता..आदि नातियां कलाम एवं मकबत पेश कर समां बांध दिया। इस दौरान अनेक धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

मेड़ता सिटी. दरगाह में सालाना उर्स के मौके पर की आकर्षक रोशनी।

Advertisement

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज पिछले समय से आ रही कुछ पुरानी समस्याओं का निवारण होने से अपने आपको बहुत तनावमुक्त महसूस करेंगे। तथा नजदीकी रिश्तेदार व मित्रों के साथ सुखद समय व्यतीत होगा। घर के रखरखाव संबंधी योजनाओं पर भ...

और पढ़ें

Advertisement