पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Nagaur News Rajasthan News Roof Collapsed Over The Newborn In The Sncu Ward Of Jln Hospital The Officer Careless

जेएलएन अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में नवजात के ऊपर गिरी छत की पपड़ी, अधिकारी बेपरवाह

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जेएलएन अस्पताल के एसएनसीयू (नवजात गहन चिकित्सा इकाई) वार्ड में बारिश से छत में शील आने से पुटी की पपड़ी गिरने लगी हैं। ऐसे में हर वक्त वार्ड में भर्ती नवजात शिशुओं के लिए खतरा बना हुआ है। इस गहन चिकित्सा इकाई में जो चिकित्साकर्मी बच्चों का उपचार कर रहे हैं वह खुद भी बच्चों के लिए इसे खतरा मान रहे हैं।

चिकित्साकर्मियों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि इस समस्या को लेकर पीएमओ वीके खत्री को बताया गया। साथ ही ठेकेदार व अन्य संबंधित को भी इसकी जानकारी दी गई, लेकिन इसके बाद भी जिम्मेदारों ने इसको लेकर गंभीरता नहीं दिखाई। उसी का नतीजा है कि बुधवार को एक नवजात के साथ घटना होने से बाल-बाल बच गया। वार्ड में भर्ती एक बच्चे के ऊपर यह पुट्टी की पपड़ी गिर गई, जिसके कुछ टुकड़े बच्चे की आंखों के ऊपर भी गिरे। ऐसे में समय रहते हुए बच्चे को कोई नुकसान नहीं हो इसलिए उसकी देखभाल कर ली गई। वहीं जब इस मामले को लेकर पीएमओ वीके खत्री से संपर्क करना चाहा तो उन्होंने फोन तक उठाना मुनासिब नहीं समझा। ऐसा पीएमओ ने पहले भी एक बार जरूरी जानकारी के लिए फोन करने पर किया था।

नागौर. वार्ड की छत जहां से टूटकर पपड़ी गिरी। वार्ड में गिरी पपड़ी से नवजात शिशुओं को लेकर बैठी महिलाएं।

सीएमएचओ पर भारी रेडियोग्राफर, आदेश के 8 दिन बाद भी नहीं पहुंचा, नोटिस जारी

नागौर | टीबी अस्पताल में एक्सरे करने के लिए सीएमएचओ सुकुमार कश्यप ने 30 जुलाई को एक आदेश जारी कर एक माह के लिए कुचेरा सीएचसी से रेडियोग्राफर दीनदयाल गुप्ता को टीबी अस्पताल में लगाया था, लेकिन हालात ये हैं कि रेडियोग्राफर सीएमएचओ के आदेशों को धता बताते हुए 8 दिन बाद भी टीबी अस्पताल नहीं पहुंचा है। इधर, सीएमएचओ सुकुमार कश्यप का कहना है कि आदेशों की अवहेलना करने पर संबंधित रेडियोग्राफर को बुधवार देर शाम कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

गौरतलब है कि टीबी अस्पताल में जिलेभर से टीबी और सिलिकोसिस बीमारी के मरीज आते हैं। जिला क्षय रोग नियंत्रण अधिकारी के अनुसार टीबी अस्पताल में रोज 60 से 70 की ओपीडी रहती है। इनमें से हर रोज करीब 20 से 25 मरीजों का एक्सरे कराना होता है, जिसके लिए मरीजों को पांच किमी दूर जेएलएन अस्पताल जाना पड़ता है। वहां अस्पताल में मरीजों की भीड़ होने पर मरीजों को कई बार तो घंटों तक लाइन में इंतजार करना पड़ता है।

एसीएमएचओ बोले- कलेक्टर के दिल्ली से वापस आते ही करा देंगे व्यवस्था

एक तरफ रेडियोग्राफर आदेशों के बाद भी टीबी अस्पताल नहीं पहुंचा और दूसरी ओर सोनोलोजिस्ट का समय पूरा हो गया। उसके वापस खींवसर सीएचसी चले जाने से मरीजों की समस्या होगी।

इधर, कलेक्टर द्वारा गठित हाई पावर कमेटी के अध्यक्ष एवं एडिशनल सीएमएचओ शीशराम चौधरी का कहना है कि टीबी अस्पताल में रेडियोग्राफर लगाए जाने और जिला अस्पताल में सोनोलोजिस्ट की व्यवस्था आगामी 3-4 दिन में करा दी जाएगी।

आज से फिर बिगड़ेगी सोनोग्राफी की व्यवस्था: सीएमएचओ ने सात दिन के लिए खींवसर सीएचसी से रामजीत टाक को जिला अस्पताल में लगाया गया। यह समय बुधवार को पूरा हो गया। इसके बाद अब फिर वहीं पुरानी व्यवस्था से परेशानी होगी।

2 अगस्त को प्रकाशित

एसएनसीयू में लगी है 5 मशीन, तीन बच्चे हैं भर्ती

जिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में बच्चों के उपचार के लिए पांच मशीनें लगाई गई हैं। अभी इस वार्ड में 3 बच्चे भर्ती बताए जा रहे हैं। इन्हीं में से एक बच्चे के ऊपर बुधवार को पुटी की पपड़ी गिर गई। सूत्रों की मानें तो इससे पहले भी जब बारिश हुई थी तो उस समय भी छत से कुछ पपड़ी गिरी थी। जिसको लेकर उसी समय पीएमओ को इस बारे में जानकारी दी गई थी लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया।

खबरें और भी हैं...