पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • PHEE News Rajasthan News Sbi Home Loan Cheaper Loan Will Be Available At 835

एसबीआई होम लोन सस्ता, 8.35% पर मिलेंगे लोन

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
10 अगस्त से लागू, एमसीएलआर में 15 बेसिस अंकों की कटौती की

चालू वित्त वर्ष में चौथी बार एमसीएलआर में कटौती की गई

एजेंसी | नई दिल्ली

स्टेट बैंक का होम लोन 10 अगस्त सस्ता हो जाएगा। एसबीआई ने बुधवार को अपने एमसीएलआर में 15 बेसिस अंकों की कटौती करने की घोषणा की। यह कटौती 10 अगस्त, 2019 से प्रभावी होगी। इस प्रकार अब एसबीआई का एमसीएलआर 8.40% से घटकर 8.25% हो जाएगा। होमलोन की ब्याज दर पर एसबीआई एमसीएलआर पर 10 आधार अंक का अपना मार्जिन रखता है। इस प्रकार 10 अगस्त से एसबीआई का होम लोन रेट 8.35% हो जाएगी। चालू वित्त वर्ष 2019-10 में एसबीआई की तरफ से चौथी बार एमसीएलआर में कटौती की गई है। इस साल 10 अप्रैल से लेकर अब तक एमसीएलआर में 35 आधार अंक की कटौती की गई है।

एसबीआई का यह फैसला बुधवार को आरबीआई की तरफ से रेपो रेट में 35 आधार अंक की कटौती के बाद आया है। आरबीआई के गवर्नर ने कहा कि एसबीआई पहले भी रेपो रेट में कमी के बाद अपनी ब्याज दरों में कमी करता रहा है। हालांकि अन्य बैंक आरबीआई की रेट में कटौती के बाद भी ग्राहकों को इसका फायदा नहीं दे रहे हैं।

30 लाख लोन पर हर महीने 284 रु. की बचत : कटौती से पहले स्टेट बैंक का एमसीएलआर 8.4% था। इस पर 10 बेसिस अंक और जोड़ें तो सबसे सस्ता होम लोन 8.5% ब्याज पर मिलता था। कटौती के बाद यह 8.35% होगा। पहले 20 साल के लिए लिए जाने वाले 30 लाख रुपए के होम लोन पर 26,034 रुपए की ईएमआई बनती थी। अब ईएमआई की राशि 25,750 रुपए होगी। यानी इस कटौती के बाद 30 लाख रुपए के होम लोन पर हर महीने 284 रुपए की बचत होगी।

रेपो रेट से लिंक रेट लेने पर सस्ता पड़ेगा लोन: अगर आप एसबीआई से होम लोन लेने जा रहे हैं तो रेपो रेट लिंक्ड लेंडिंग रेट (आरएलएलआर) आधारित लोन बेहतर विकल्प हो सकता है। इस लोन का रेट मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) से सस्ता है। एसबीआई आरएलएलआर के आधार पर भी लोन दे रहा है। आरएलएलआर को गत एक जुलाई से लागू किया गया है। जबकि एमसीएलआर पर आधारित लोन पहले से चल रहा है।

पुराने ग्राहकों को आरएलएलआर का फायदा नहीं: अभी एसबीआई में आरएलएलआर पर आधारित होम लोन का रेट 8.40 फीसदी है। रेपो रेट पर आधारित होने की वजह से अब इसमें 35 आधार अंक की कटौती की जाएगी। इस प्रकार यह रेट 8.05 फीसदी का रह जाएगा। पुराने ग्राहक और सालाना 6 लाख रुपए से कम कमाने वालों को फायदा नहीं मिलेगा।

खबरें और भी हैं...