रमजान माह का दूसरा जुम्मा: मस्जिदों में अदा की गई विशेष नमाज

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:26 AM IST

Nagour News - मुबारह माह रमजान में दसवें राेजे के साथ पहला अशरा पूरा हाेने के बाद शुक्रवार काे ग्याहरवें रमजान से मगफिरत यानि...

Nagaur News - rajasthan news second half of the month of ramadan special prayers paid in mosques
मुबारह माह रमजान में दसवें राेजे के साथ पहला अशरा पूरा हाेने के बाद शुक्रवार काे ग्याहरवें रमजान से मगफिरत यानि राेजेदाराें के लिए गुनाह से माफी मांगने वाला दूसरा अशरा शुरू हाे गया।

यानी तरावीह में 10 पारों की तिलावत पूरी हो गई है। ग्याहरवें रमजान के माैके पर शुक्रवार काे मुबारक माह का दूसरा जुमा था। इस माैके पर शहर की तमाम मस्जिदाें में दाेपहर में जिलेभर के मुस्लिम समुदाय के लाेगाें ने भाग लेते हुए जुमे की विशेष नमाज अदा की। नमाजियों ने खुशहाली और तरक्की के लिए सामूहिक दुआ भी की।

साथ ही जिले में अच्छी बारिश फसल की भी दुआ मांगी गई। शहर की सूफी हमीदुद्दीन नागौरी दरगाह, रोजा पीर, कलंदरी मस्जिद, शहर मदीना, बड़े पीर साहब डोडी शरीफ सहित अनेक मस्जिदों में दाेपहर सवा बारह बजे से ढाई बजे तक जुमे की नमाज हुई। शहर के काजियों के चौक स्थित मस्जिद के शहर काजी मो. मेराज उस्मानी ने बताया कि रमजान की रहमताें और बरकताें के बारे में बताया।

नमाज के बाद अमन चेन की दुआ मांगी। शहर की शाहजहानी मस्जिद के ईमाम कारी सगीर अहमद ने नमाज अदा करवाई।

नागौर. तारकीन दरगाह में नमाज अदा करते मुस्लिम समुदाय के लोग।

1. रहमत का पहला अशरा पढ़ाता है इंसानियत का पाठ

रमजान के पहले 10 दिन रहमत के होते हैं। रोजा रखकर नमाज अदा करने वालों पर रहमत बरसती है। रमजान के पहले अशरे में ज्यादा से ज्यादा दान कर गरीबों की मदद का महत्व है। यह अशरा सिखाता है कि इंसान को सबके प्रति मोहब्बत और नरम दिल रहना चाहिए।

2. गुनाहों से माफी का है दूसरा अशरा, अल्लाह से मिलती है माफी

ग्यारहवें रोजे से शुरू होने वाले दूसरे अशरे में रोजेदार इबादत कर गुनाहों से तौबा कहता है। इस्लाम में मान्यता है कि अगर कोई इंसान दूसरे अशरे में अपने गुनाहों की माफी मांगता है, तो अल्लाह माफ कर देता है।

3. तीसरा अशरा जहन्नुम से बचने का, 10 दिन करते हैं एहतकाफ

21वें रोजे से तीसरा अशरा शुरू होगा, जिसमें रोजेदार कयामत के बाद जहन्नुम की आग से बचने के लिए दुआ मांगेंगे। इस अशरे में कई मर्द और औरतें एहतकाफ में बैठते हैं। एहतकाफ में पुरुष मस्जिद बैठकर अल्लाह की इबादत करेंगे, जबकि महिलाएं घर में रहकर इबादत करेंगी।

अकीदत से अदा की जुम्मे की नमाज

बासनी| रमजान माह के दूसरे जुम्मा की नमाज बासनी की विभिन्न मस्जिदों में शुक्रवार को अदा की गई। जामा मस्जिद में जुमे की नमाज मौलाना नासिर अहमद की अगुवाई में अदा की गई। नमाज से पूर्व तकरीर करते हुए मुफ्ती रिजवी ने रोजों की अहमियत बताते हुए कहा कि रोजे रखना हर मोमीन पर फर्ज है। उन्होंने कहा कि रोजे रखने के साथ-साथ पांच वक्त की नमाज और कुरान शरीफ की तिलावत भी करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि रोजे रखने का मतलब केवल भूखा-प्यास रहना ही नहीं है। बल्कि रोजा रखकर गरीबों और बेसहारों की भूख प्यास को महसूस करना चाहिए। मौलाना रिजवी ने तकरीर ने कहा कि रोजा आंख, कान और जुबान का भी होता है। इसलिए रोजेदार को अपनी आंखों से किसी गलत चीज को नहीं देखना चाहिए ना ही कोई अपने कानों से बुरी बातें सुने। और अपनी जुबान से कोई गलत बात नहीं निकालनी चाहिए। इससे पूर्व दोपहर 1 बजते ही पहली अजान के साथ ही नमाजी मस्जिदों की ओर आने लगे। दोपहर पौने 2 बजे तक बासनी की सभी मस्जिद नमाजियों से खचाखच भर गई। जुमे की नमाज बासनी की नगीना मस्जिद में मौलाना हाफिज अल्लाबक्ष ने अदा करवाई। इसके अलावा बासनी में जुमे की नमाज रजा मस्जिद, मक्का मस्जिद, नगीना मस्जिद, साबरी मस्जिद, गोसिया मस्जिद, आयशा मस्जिद, मदीना मस्जिद और सूफिया मस्जिद में भी अदा की गई। नमाज के बाद क्षेत्र में अच्छी बारिश के लिए विशेष दुआएं मांगी गई। शाम को रोजा इफ्तारी की खरीददारी के लिए सदर बाजार मे लोगों की भीड़ नजर आई।

नागौर में इफ्तार-दावतों का दौर भी हुआ शुरू

नागौर|
शहर में रमजान के रोजों के चलते अब इफ्तार दावतों का दौर शुरू हो गया है। ग्यारहवीं शरीफ के मौके पर शुक्रवार को दरगाह बड़े पीर साहब में इफ्तार का आयोजन हुआ।

जिसमें बड़ी संख्या में रोजेदारों ने शिरकत की। शाम 7 बजकर 18 मिनट पर रोजेदारों ने अपना रोजा खजूर से खोला। उसके बाद दरगाह की मस्जिद के मौलाना नईम अशरफी ने मगरीब की नमाज अदा कराई।

नमाज के बाद रोजेदारों के लिए दावत का प्रोग्राम रखा। जिसमें रोजेदारों को कबूली परोसी गई। इफ्तार दावत में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

बासनी. रोजा इफ्तारी के लिए खरीददारी करते रोजेदार।

Nagaur News - rajasthan news second half of the month of ramadan special prayers paid in mosques
X
Nagaur News - rajasthan news second half of the month of ramadan special prayers paid in mosques
Nagaur News - rajasthan news second half of the month of ramadan special prayers paid in mosques
COMMENT