कंपनी ने बंद कर दिया था, अवैध रूप से चला रहे थे पेट्रोल पंप, डीएसअो ने किया सील

Nagour News - भास्कर न्यूज | मलसीसर (झुंझुनूं) जिला रसद विभाग ने शनिवार को मलसीसर-राजगढ़ रोड पर निजी पेट्रोलियम कंपनी का बंद...

Bhaskar News Network

Nov 10, 2019, 07:25 AM IST
Besroli News - rajasthan news the company had stopped illegally running petrol pumps dso sealed
भास्कर न्यूज | मलसीसर (झुंझुनूं)

जिला रसद विभाग ने शनिवार को मलसीसर-राजगढ़ रोड पर निजी पेट्रोलियम कंपनी का बंद पंप अवैध रूप से संचालित किए जाने के मामले में कार्रवाई करते हुए सीज कर दिया। यह पेट्रोल पंप पिछले करीब एक साल से बंद था। इसके बावजूद यहां पेट्रोल, डीजल बेचा जा रहा था। विभाग अब इस बात की जांच कर रहा है कि ये लोग पेट्रोल अौर डीजल ला कहां से रहे थे।

दरअसल, पिछले दिनों जयपुर में हुई जन सुनवाई में किसी ने खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री से शिकायत की थी कि झुंझुनूं जिले में करीब एक साल से बंद निजी कंपनी एस्सार के एक पेट्रोल पंप पर पिछले कुछ दिनों से अवैध रूप से पेट्रोल अौर डीजल बेचा जा रहा है। यहां भारी मात्रा में पेट्रोलियम पदार्थ का भंडारण भी किया हुआ है जबकि एेसा करना गलत है क्योंकि पेट्रोलियम पदार्थ बेचने के लिए लाइसेंस लेना पड़ता है। इस पर मंत्री ने जिला रसद अधिकारी सुभाष चंद चौधरी के मामले की जांच के आदेश दिए। चौधरी ने पहले पूरे मामले की पड़ताल की। उन्हें पता चला कि जिस व्यक्ति के नाम से यह पेट्रोल पंप जारी हुआ था, वह करीब एक साल पहले ही काम बंद कर चुका है। कंपनी ने इसे बंद कर दिया था।

कंपनी ने बताया, हमने तो एक साल पहले बंद दिया था

डीएसअो चौधरी ने पेट्रोल पंप पर लगे बोर्ड पर दर्ज मोबाइल नंबर पर कंपनी के टेरिटरी मैनेजर अरविंद से बात की। उन्होंने बताया कि कंपनी ने यहां के संचालक द्वारा कंपनी की बजाय अन्य स्थान से पेट्रोल-डीजल मंगवाने अौर बिक्री की वजह से अपनी अोर से करीब एक साल पहले ही यहां सप्लाई बंद कर दी थी। इसकी एनअोसी भी कंपनी ने सरकार को सरेंडर कर दी थी। कंपनी ने यहां भूमिगत टैंक में भरे अवैध रूप से लाए पेट्रोल-डीजल को सील कर दिया था। विभाग ने कंपनी के मेल के माध्यम से जानकारी मंगवाई गई जिससे पूरे मामले की पुष्टि हो गई। इस पर डीएसअो ने पेट्रोल-डीजल भंडारण व खरीद-फरोख्त करने, पेट्रोल व डीजल (प्रदाय और वितरण का विनियमन और अनाचार निवारण) अधिनियम 2005 का उल्लंघन मानते हुए आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत इसे बंद कर दिया। टीम ने छह ताले मंगवा कर, विक्रय नोजल, टैंक आदि सील कर दिए। चौधरी ने बताया कि अब विभाग पता लगा रहा है कि आखिर इसे कौन संचालित कर रहा था अौर ये लोग पेट्रोल-डीजल ला कहां से रहे थे क्योंकि पेट्रोल अौर डीजल इस तरह खुले में तो मिलता नहीं है। यानी इन्हें कहीं से इनकी आपूर्ति हो रही थी।

X
Besroli News - rajasthan news the company had stopped illegally running petrol pumps dso sealed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना