इस साल स्मार्टफोन की बिक्री 12% बढ़ने की उम्मीद

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
2018 में स्मार्टफोन की बिक्री 11% बढ़ी। इस साल देश में 15 करोड़ स्मार्टफोन बिके। 2019 में इनकी बिक्री 12% बढ़ने की संभावना है। नए फीचर वाले फोन के दाम ज्यादा होने के बावजूद इनकी डिमांड बढ़ेगी। काउंटरप्वाइंट रिसर्च के एसोसिएट डायरेक्टर अरुण पाठक के अनुसार सस्ते फोन के कारण अमेरिका को पीछे छोड़कर भारत दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल फोन मार्केट बना है। लेकिन यह ट्रेंड तेजी से बदलने वाला है।

अभी तक 10,000 रुपए से कम के फोन ही ज्यादा बिकते थे। लेकिन नए ट्रेंड में लोग महंगे फोन की तरफ जा रहे हैं। नए फोन फुल स्क्रीन डिस्प्ले, ड्यूल कैमरा, बायोमेट्रिक सिक्योरिटी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सपोर्ट वाले आ रहे हैं। इनकी कीमत थोड़ी ज्यादा है, लेकिन लोग नई टेक्नोलॉजी के लिए ज्यादा पैसे चुकाने को तैयार हैं।

एक समय बेहतर फीचर वाले फोन ज्यादातर इंपोर्टेड ही होते थे। इसलिए उनकी कीमत भी ज्यादा होती थी। लेकिन इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाए जाने के बाद कंपनियां भारत में ही फोन बनाने लगी हैं। इंडिया सेलुलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन के अनुसार 2018-19 में 1.65 लाख करोड़ रुपए के 29 करोड़ फोन बनने की उम्मीद है। एसोसिएशन के चेयरमैन पंकज महेंद्रू का मानना है कि भारत में मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग शुरू होने से करीब 3 लाख करोड़ रुपए की बचत हुई है। उन्होंने बताया कि हैंडसेट और कंपोनेंट बनाने वाली 268 इकाइयां अब तक लग चुकी हैं। इनमें 6.7 लाख लोगों को रोजगार मिला है। भारत के बाजार में चाइनीज कंपनियों ने अपना दबदबा कायम कर लिया है। जुलाई से सितंबर की तिमाही में श्याओमी, वीवो और ओप्पो की बाजार हिस्सेदारी 44% हो गई थी। भारतीय ब्रांड लावा के इंटरनेशनल हेड तेजिंदर सिंह का मानना है कि शॉर्ट टर्म रणनीति अपनाने वाली कंपनियां सफल नहीं हो पाएंगी। जिन कंपनियों ने रिसर्च एवं डेवलपमेंट में बड़ा निवेश किया है और जो अच्छी क्वालिटी के प्रोडक्ट लाएंगी, उनकी डिमांड बनी रहेगी।

एक और घरेलू ब्रांड माइक्रोमैक्स के संस्थापक विकास जैन के अनुसार 2019 में इंडस्ट्री में और अधिग्रहण दिख सकता है। छोटी कंपनियां बाजार से बाहर होती रहेंगी। क्वालिटी प्रोडक्ट और सर्विसेज देने वाले ब्रांड ही बचे रह जाएंगे। ग्राहकों को सिर्फ सस्ता फोन नहीं चाहिए बल्कि वे पैसे की पूरी कीमत वसूल करना चाहते हैं।

15-30
हजार रुपए तक के फोन की बिक्री इस साल 20% बढ़ने की उम्मीद है। 5 साल में इनकी बिक्री 4 गुना बढ़ सकती है। इस रेंज के बाजार में प्रतिस्पर्धा सबसे अधिक होगी।

खबरें और भी हैं...