--Advertisement--

संक्रांति का पुण्य काल,14 जनवरी को दोपहर 1:28 बजे से 15 जनवरी सुबह 11:52 बजे तक

Nagour News - भास्कर संवाददाता | नावां सिटी इस बार मकर संक्रांति दो दिन मनाई जाएगी। 9 ग्रहों में प्रभावशाली सूर्य 14 जनवरी रात 7.52...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:30 AM IST
Nawa News - the sacrament of sankranti january 14 from 128 pm to 15 january at 1152 am
भास्कर संवाददाता | नावां सिटी

इस बार मकर संक्रांति दो दिन मनाई जाएगी। 9 ग्रहों में प्रभावशाली सूर्य 14 जनवरी रात 7.52 बजे मकर संक्रांति का पुण्य काल 14 जनवरी को दोपहर 1.58 बजे से दूसरे दिन 15 जनवरी को सुबह 11.52 बजे तक रहेगा।

इससे दोनों दिन दान पुण्य और स्नान किया जा सकेगा। साथ ही 1 दिन पूर्व 13 जनवरी को रविवार होने से शहरवासी 3 दिन तक मकर संक्रांति मना सकते हैं। ज्योतिषी पंडित कमलेश शर्मा व आचार्य पंडित विमल पारीक ने बताया कि मकर संक्रांति में प्रवेश करते ही सूर्य देव उत्तरायण हो जाएंगे। सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण होते ही दिन भी बड़े होने लगेंगे। इससे पूर्व सूर्य 16 दिसंबर को धनु राशि में प्रवेश करेंगे। सुबह 9.09 पर सूर्य के धनु में प्रवेश करने के साथ ही धनु मलमास शुरू हो जाएगा। मलमास में कोई भी शुभ व मांगलिक कार्य, विवाह, गृह प्रवेश, जनेऊ संस्कार, देव प्राण प्रतिष्ठा, मुंडन संस्कार आदि नहीं हो सकेंगे। करीब 1 माह बाद सूर्य के 14 जनवरी को मकर संक्रांति में प्रवेश के साथ ही शुभ व मांगलिक कार्यों का शुभारंभ हो सकेगा।

शनिदेव करते हैं पिता का सम्मान

सूर्य के मकर राशि में आते ही उनके पुत्र और कुंभ राशि के स्वामी शनि देव उनका सम्मान करते हैं। पिता और पुत्र सूर्य और शनि दोनों ही ग्रह पराक्रमी है।

पंडित आचार्य विमल पारीक का कहना है कि ऐसे में जो सूर्य देव मकर राशि में आते हैं तो शनि की प्रिय वस्तुओं का दान करने से सूर्य की कृपा मिलती है।

मान-सम्मान भी बढ़ता है। तिल से बनी वस्तुओं का दान करने से शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है। सरसों के दान का भी महत्व है। गजक, रेवड़ी, दाल, चावल, वस्त्र, कंबल, रजाई आदि वस्तुओं का दान का भी इस दिन महत्व रहता है।

सूर्य कब होते हैं उत्तरायण और दक्षिणायन

पंडित कमलेश शर्मा ने बताया कि कुंभ, मीन, मेष, वृष, मिथुन राशि में जब सूर्य रहता है तब उत्तरायण कहा जाता है। सूर्य जब कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक और धनु राशि पर स्थित रहता है तब दक्षिणायन कहलाते हैं।

X
Nawa News - the sacrament of sankranti january 14 from 128 pm to 15 january at 1152 am
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..