• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Nasirabad News
  • जीवात्मा के कल्याण का मार्ग गुरु से ही प्राप्त होता है : पंकज महाराज
--Advertisement--

जीवात्मा के कल्याण का मार्ग गुरु से ही प्राप्त होता है : पंकज महाराज

जय गुरुदेव के शिष्य पंकज महाराज ने कहा कि मनुष्य के शरीर में स्थित जीवात्मा के कल्याण का मार्ग गुरु से ही प्राप्त...

Dainik Bhaskar

Feb 19, 2018, 05:30 AM IST
जीवात्मा के कल्याण का मार्ग गुरु से ही प्राप्त होता है : पंकज महाराज
जय गुरुदेव के शिष्य पंकज महाराज ने कहा कि मनुष्य के शरीर में स्थित जीवात्मा के कल्याण का मार्ग गुरु से ही प्राप्त हो सकता है इसलिए हमें जीवन में संत महात्मा और गुरु का सानिध्य अवश्य प्राप्त करना चाहिए। पंकज महाराज समीपस्थ ग्राम भवानीखेड़ा में जयगुरुदेव संगत की विशाल सत्संग धर्मसभा में प्रवचन दे रहे थे। उन्होंने कहा कि ईश्वर ने हम पर दया और कृपा करके ये मानव शरीर दिया है जो कि परमात्मा की बड़ी कृपा है। हमें परमात्मा की भक्ति कर इस मानव शरीर और उसमें स्थित जीवात्मा का कल्याण करना है। क्योंकि ये मानव जीवन व मानव शरीर हमें बार-बार नहीं मिलने वाला। पंकज महाराज ने कहा कि संत मानव जीवन मिलने के बाद मनुष्य ना तो भक्ति करता है ना भजन करता तथा दुनिया रूपी पाप के पीछे भागता रहता है, जबकि उसे ये जानना आवश्यक है कि हम कौन है कहां से आए आैर जाना कहां है। मनुष्य का संत महात्मा और गुरु के बताए मार्ग पर चलकर अपनी जीवात्मा का कल्याण करना चाहिए। क्योंकि संत महात्मा ही जीवात्मा को ये समझाते है कि परमात्मा को कैसे प्राप्त किया जा सकता है। पंकज महाराज ने बताया कि जहां दुनिया का ज्ञान समाप्त होता है वहां से आध्यात्मवाद शुरू होता है। अध्यात्मवाद के बारे में जानने के लिए संत महात्मा व गुरु की खोज कर उनके बताए मार्ग पर चलकर अपने जीवन का कल्याण करें। हर मनुष्य ऐसीर छाव चाहता है जहां उसे ठंडक मिले और वो मार्ग संत महात्मा ही से ही मिल सकता है। पंकज महाराज ने कहा कि बगैर संत महात्मा और गुरु के संसार रूपी समुद्र से कोई जीवात्मा को पार नहीं करा सकता है। मनुष्य को समय रहते जीवात्मा के कल्याण के लिए विचार करना चाहिए क्योंकि ये मानव जीवन दोबारा नहीं मिलने वाला वरना मानव को यहीं 84 लाख योनियों में भटकना पड़ेगा और उसका कल्याण नहीं होगा। पंकज महाराज ने अपने प्रवचनों में संदेश दिया कि परमात्मा की भक्ति, भजन या पूजा-पाठ लिए मनुष्य को पहले मानवतावादी, शाकाहरी और नशामुक्त बनना चाहिए। क्योंकि यदि मनुष्य पशुवृत्ति भोजन करेगा तो उसकी बुद्धि, विचार, चिंतन भी पशुवत हो जाएंगे इसलिए सभी को शाकाहार अपनाना चाहिए। चरित्र मानव धर्म की सबसे बड़ी पंूजी इसलिए नई पीढ़ी में अच्छे चरित्र संस्कार डालना वर्तमान समय की सबसे बड़ी मांग है। सत्संग सभा में जयगुरुदेव आश्रम, मथुरा के प्रवक्ता एवं राष्ट्रीय उपदेशक बाबूराम, संस्था महामंत्री रामकृष्ण यादव, प्रांतीय प्रमुख विष्णु सोनी, जिलाध्यक्ष राजेंद्र सोनी, फूलसिंह, हेमराज, घनश्याम शर्मा, मदन रावत आदि भी उपस्थित थे।

चील गाड़ी को देखने उमड़े ग्रामीण : भवानीखेड़ा में रविवार को पंकज महाराज को लेकर आए हैलिकोप्टर को देखने ग्रामीण महिलांएं, पुरुष और बच्चे उमड़ पड़े। भवानीखेड़ा में आयोजित सत्संग सभा में पंहुचे पंकज महाराज हैलिकोप्टर के माध्यम से पहुंचे थे। जिसके लिए सभा स्थल के पास ही अस्थाई हैलिपेड बनाया गया था। जैसे ही हैलिकोप्टर नीचे उतरा भवानीखेड़ा व आसपास के क्षेत्र के ग्रामीण जो सत्संग सभा में पंहुचे तो उन्होंने हैलिकोप्टर को कौतूहल पूर्वक देखा।

पंकज महाराज

नसीराबाद. सत्संग सभा में उपस्थित श्रद्धालु।

X
जीवात्मा के कल्याण का मार्ग गुरु से ही प्राप्त होता है : पंकज महाराज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..