--Advertisement--

अधिकारों में कटौती पर उखड़े सरपंच

सरपंच संघ पंचायत समिति श्रीनगर के सदस्यों ने गुरुवार को उपखंड अधिकारी राजेंद्रसिंह शेखावत को ज्ञापन देकर...

Danik Bhaskar | Feb 23, 2018, 06:50 AM IST
सरपंच संघ पंचायत समिति श्रीनगर के सदस्यों ने गुरुवार को उपखंड अधिकारी राजेंद्रसिंह शेखावत को ज्ञापन देकर सरपंचों के अधिकारों को लौटाने और पंचायती राज संस्थाओं के सुदृढ़ीकरण का आश्वासन देकर क्रियान्विती नहीं करने का आरोप लगाते हुए चेतावनी दी कि यदि 26 फरवरी तक मांगे नहीं मानी गई तो प्रदेश के सरपंच विधानसभा जयपुर पर प्रदर्शन कर महापड़ाव डाल देंगे। सरपंच संघ के अध्यक्ष गोवर्धनसिंह राठौड़ ने ज्ञापन में बताया कि केंद्र और राज्य सरकार की लाेक कल्याणकारी योजनाओं से ग्रामीण जनता को लाभान्वित करने हेतु 29 में से बाकी 24 विभागों के विषय भी पंचायतों को स्थानांतरित किए जाए। सरपंच संघ ने ज्ञापन में 15 वर्षों से बीपीएल सर्वे नहीं होने का आरोप लगाते हुए सर्वे कराने, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा सूची को संशोधित कर और नाम जोड़ने, भामाशाह योजना में सभी परिवारों को शामिल करने, महानरेगा योजना में किसानों के हितार्थ निराई, गुढाई और फसल कटाई को शामिल करने, ग्राम पंचायतों के निर्माण कार्यो की सामग्री वीएसआर दरों पर खरीदने के आदेश जारी करने, पंचायतों को ई-टेंडरिंग से छूट दिलाने, ग्राम पंचायतों पर लागू 5 लाख की सीमा को बढ़ाकर 10 लाख करने, सड़क निर्माण और टंकी टांका, बोरिंग और हैंडपंप का निर्माण एग्रीमेंट आधार पर करने की अनुमति देने, 5 लाख से ज्यादा के काम टेंडर के बजाय मस्टरोल से करवाने की अनुमति देने आदि आदि की मांगे रखी। ज्ञापन में सरपंचों ने मानदेय 3500 से बढ़ाकर 15 हजार करने, वार्ड पंचों के 500 से मानदेय बढ़ाकर 1000 रुपए करने, सरपंचों को वाहन भत्ता 5 हजार रुपए मासिक देने तथा पंचायत समिति और जिला परिषद सदस्यों का बैठक भत्ता 1 हजार रु करने की मांगे भी की। सरपंच संघ ने चेतावनी दी कि यदि उक्त मांगो का शीघ्र समाधान नहीं किया गया तो 26 फरवरी को विधानसभा पर विशाल प्रदर्शन कर महापड़ाव डाल देने की चेतावनी दी।

नसीराबाद. एसडीएम को ज्ञापन देते सरपंच संघ के सदस्य।