--Advertisement--

निज बगीचे में पधारे युगल स्वरूप, उमड़ी श्रद्धा

नाथद्वारा | द्वितीय गृह पीठ श्री विठ्ठलनाथजी मंदिर में बुधवार को ठाकुरजी निज बगीचे में पधारे। प्राचीन तिवारी में...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 05:05 AM IST
नाथद्वारा | द्वितीय गृह पीठ श्री विठ्ठलनाथजी मंदिर में बुधवार को ठाकुरजी निज बगीचे में पधारे। प्राचीन तिवारी में प्रभु को विराजमान किया गया। प्रभु को पुष्प का मुकुट, पुष्प की छड़ी, पुष्प की गेंद व पुष्प के छोगा-छड़ी धराई गई। पांच रंग केसरिया, पीला, हरा, गुलाबी, नीला ललिता, विशाखा और अष्ट सखी के भाव से अंगीकार कराए गए। द्वितीय पीठाधीश्वर कल्याणराज महाराज ने सपरिवार प्रभु को लाड़ लड़ा कर आरती उतारी। फेट भर गुलाल, अबीर, केसरिया, पीला एवं नीला रंग उड़ाया गया। कान्हा धरयों रे मुकुट, खेले होरी......बृज की तोहे लाज मुकुट वारे’ रसिया गान बृजवासी रसिया मंडल ने किया। पुनः नीज मंदिर में ठाकुरजी को पधरा कर वहां भी होली का खेल हुआ। जिसमें होली के ख्याल नृत्य, स्वांग नृत्य, सखी नृत्य किए गए।

आज रंगी जाएगी ठाकुरजी की दाढ़ी : युगल स्वरूप श्रीविठ्ठलनाथजी के मंदिर में गुरुवार को होली के पावन पर्व पर दाढ़ी रंगने की परंपरा का निर्वहन किया जाएगा। होली के दिन प्रभु को होली खिलाने के बाद गुलाल से ठाकुरजी की दाढ़ी रंगी जाएगी। इसके पश्चात मुखियाजी महाराजश्री, गोस्वामी बालकों तथा सेवादारों से गुलाल के साथ होली का उत्सव मनाएंगे।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..