नाथवाड़ा

  • Home
  • Rajasthan News
  • Nathdwara News
  • श्रीनाथजी, विठ्ठलनाथजी और नवनीत प्रियाजी में हुए भव्य मनोरथ चंदन के हिंडोलने में झूले मदन मोहनजी और नवनीत प्रियाजी
--Advertisement--

श्रीनाथजी, विठ्ठलनाथजी और नवनीत प्रियाजी में हुए भव्य मनोरथ चंदन के हिंडोलने में झूले मदन मोहनजी और नवनीत प्रियाजी

नाथद्वारा | नाथद्वारा में गुरुवार को अधिक ज्येष्ठ शुक्लपक्ष के दूसरे दिन प्रधानपीठ श्रीनाथजी, द्वितीय पीठ...

Danik Bhaskar

May 18, 2018, 06:05 AM IST
नाथद्वारा | नाथद्वारा में गुरुवार को अधिक ज्येष्ठ शुक्लपक्ष के दूसरे दिन प्रधानपीठ श्रीनाथजी, द्वितीय पीठ श्रीविठ्ठलनाथजी और श्रीनवनीत प्रियाजी में आलौकिक मनोरथ हुए। पुरुषोत्तम मास के तहत बालस्वरूपों को अनूठा शृंगार धरा राग भोग सेवा के लाड़ लड़ाए। सुबह राजभोग झांकी और शाम को भोग आरती झांकी के मनोरथ हुए।

राजभोग और भोग आरती के दर्शन में श्रद्धा का जनसैलाब उमड़ा। सुबह मंगला से लेकर सायंकालीन आरती की झांकी में देश के कोने-कोने से आए वैष्णवों ने विशेष मनोरथ के दर्शन किए। श्रृंगार की झांकी में मुखिया बावा ने श्रीचरणों में मोती के तोड़ा धराए। श्रीअंग पर धवल रूपहरि धोरा का पिछौड़ा अंगीकार कराया। श्रीमस्तक पर धवल कुल्हें, मोर पंख का जोड और शीशफूल सुशोभित किया। श्रीकर्ण में मयूराकृत कुंडल धराए। प्रभु को वनमाला विभूषित मोती के आभरण धराए गए। कंदरा खंड में चित्राम की पिछवाई, इसमें एक ओर श्रीकृष्ण और दूसरी ओर बलदाऊ रथ में विराजे दर्शाए। राजभोग की झांकी में श्रीजी में रथयात्रा का मनोरथ हुआ। बालस्वरूप मदन मोहनजी को मणी कोठा के रथ में विराजित किया। शाम को भोग आरती दर्शन के दौरान कमल चौक में चंदन की लकड़ी के हिंडोलना में मदन मोहनजी को बिराजित कर राग भोग सेवा के लाड़ लड़ाए। मुखिया बावा ने बाल स्वरूपों को अनूठा शृंगार अंगीकार करा आरती उतारी, वही कीर्तनकारों ने विविध राग में पदों का गान किया। राजभोग के दर्शन के बाद सेवा वालों ने खस के परदों पर शीतल जल का छिड़काव किया। वैष्णवों ने मंदिर में फल-फूल, सब्जी, सूखा मेवा, पान की सेवा पधराई। श्री नवनीत प्रियाजी के श्रीमस्तक पर गुलाबी फेंटा और मोर शिखा सुशोभित किया। श्रीअंग पर मोती के आभरण धराए। राजभोग की झांकी में श्री नवनीतप्रियाजी को गोखड़ा वाली गुलाब की मंडली में बिराजित किया। भोग आरती में श्रीनवनीतप्रियाजी को चबूतरे पर चंदन की लकड़ी के बंगले में बिराजित किया। श्रीविठ्ठलानाथजी मंदिर में राजभोग और भोग आरती झांकी में अनूठे मनोरथ हुए।

राजसमंद. द्वारकाधीश मंदिर में अधिकमास को लेकर गुरुवार शाम को शयन दर्शन में कॉच के बंगले का मनोरथ धराया गया।

पुरुषोत्तम मास में आज होंगे यह मनोरथ

श्रीनाथद्वारा में पुरुषोत्तम मास के तीसरे दिन शुक्रवार को प्रधानपीठ श्रीनाथजी मंदिर और द्वितीयपीठ विठ्ठलनाथजी मंदिर और श्रीनवनीत प्रियाजी में मनोरथ होंगे। मंदिर से जारी सूची के अनुसार श्रीजी मंदिर में राजभोग झांकी में खस का बंगला और आरती झांकी में कली का शृंगार धराया जाएगा। द्वितीयपीठ विठ्ठलनाथजी को राजभोग की झांकी में मोती साज का पलना और आरती झांकी में मोती साज का बंगला में बिराजित किया जाएगा।

Click to listen..