नावां

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Nawa News
  • 27 अवैध नलकूपों पर लगे सौर ऊर्जा सेट संचालकों ने हटाए, 4 घंटे में टीम को झील से कुछ नहीं मिला
--Advertisement--

27 अवैध नलकूपों पर लगे सौर ऊर्जा सेट संचालकों ने हटाए, 4 घंटे में टीम को झील से कुछ नहीं मिला

भास्कर संवाददाता | नागौर / नावां सिटी सांभर झील में सौर ऊर्जा और डीजल पंप सेट लगाकर नलकूप से खारा पानी (ब्राइन)...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:25 PM IST
भास्कर संवाददाता | नागौर / नावां सिटी

सांभर झील में सौर ऊर्जा और डीजल पंप सेट लगाकर नलकूप से खारा पानी (ब्राइन) चोरी करने वालों पर कार्रवाई करने अधिकारी बुधवार को पहुंचे। लेकिन अवैध नलकूलों पर लगे डीजल पंप सेट और सौर ऊर्जा के सेट नमक इकाई संचालकों ने पहले ही हटा लिए। ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस के भारी भरकम जाब्ते को मौके पर कुछ नहीं मिला। कार्रवाई करने गई टीम बैरंग लौट गई। अब एडीएम बलवंत सिंह लिग्री का कहना है कि ऐसे नमक इकाई संचालकों को नोटिस दिए जाएंगे। इसमें उन्हें अवैध नलकूपों से पानी चोरी नहीं करने की हिदायत दी जाएगी। फिर भी नहीं मानने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले अधिकारियों की टीम ने चार घंटे तक झील क्षेत्र में स्थित अलग-अलग इलाकों में पहुंचकर निरीक्षण किया।

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) भोपाल के आदेश की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए कलेक्टर ने मंगलवार को अधिकारियों की बैठक ली थी। इसमें सख्त हिदायत दी थी कि झील क्षेत्र में अवैध नलकूपों पर सौर ऊर्जा सेट और डीजल सेट लगा ब्राइन चोरी करने वाले इकाई संचालकों पर सख्त कार्रवाई की जाए। उपकरण चोरी कर प्राथमिकी दर्ज करवाया जाए। इसके तहत बुधवार को डीडवाना एडीएम बलवंत सिंह लिग्री के नेतृत्व में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की टीम सांभर झील क्षेत्र में कार्रवाई करने के लिए पहुंची।

नावां. सांभर झील क्षेत्र में एक नलकूप पर जांच करते एडीएम व अन्य अधिकारी।

पांच गांवों में पहुंचे प्रशासनिक अधिकारी, पुलिस और आरएसी भी रही मौजूद

एडीएम बलवंत सिंह लिग्री के नेतृत्व में प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने सांभर साल्ट लिमिटेड के क्यार के साथ ही मोहनपुरा, उलाणा, गुढ़ा, बनगढ़ और जाब्दीनगर इलाके में स्थित नमक उद्योग इकाइयों की जांच की। इस दौरान टीम ने कई ट्यूबवैलों की भी जांच की। लेकिन एक भी ट्यूबवैल पर सौर ऊर्जा सेट, डीजल सेट और बिजली कनेक्शन से खारे पानी की चोरी करने का मामला नहीं पाया गया। जानकारों का कहना है कि अवैध नलकूपों से पानी का दोहन करने वाले नमक उद्योग इकाई संचालकों को कार्रवाई की पहले ही भनक लग गई थी। इसलिए उन्होंने मौके से सारे उपकरण हटा लिए थे। इस मौके पर तहसीलदार महावीर प्रसाद शर्मा, डिस्कॉम के सहायक अभियंता अजय सिंह, नावां थाने के सहायक उप निरीक्षक सीताराम मीणा भी मौजूद थे। इस मौके पर पुलिस जाब्ते के साथ ही आरएसी के जवान भी तैनात किए गए।

एसडीएम लंबोरा पहले झील में पहुंचे, फिर तबीयत बिगड़ी

डीडवाना एडीएम लिग्री दोपहर बाद नावां पहुंचे। इसके बाद वे पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ सांभर झील क्षेत्र में पहुंचे। इससे पहले एसडीएम हरिसिंह लंबोरा ने सुबह ही झील क्षेत्र का निरीक्षण किया। लेकिन बाद में उनकी तबीयत बिगड़ गई। इससे वह एडीएम के साथ आगे की कार्रवाई में नहीं जा सके। एडीएम लिग्री का कहना है कि अब अवैध नलकूप से पानी की चोरी करने वालों को नोटिस दिए जाएंगे।

आवंटित खारड़ों का अब दुबारा होगा सीमांकन: कलेक्टर को शिकायत में बताया गया कि जिन नमक इकाइयों को खारड़े (जमीन) का आवंटन किया गया है। इनमें से कई ने आवंटित से अधिक जमीन पर कब्जा कर लिया है। ऐसे में कलेक्टर के आदेश पर अब सभी आवंटित खारड़ों का भी दुबारा सीमांकन किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों डिस्कॉम ने अवैध नलकूपों से बिजली के123 कनेक्शन काटे थे।

X
Click to listen..