Hindi News »Rajasthan »Nawa» शहीद सम्मान यात्रा: सौभाग्यशाली है वो भूमि जहां के सपूताें ने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया

शहीद सम्मान यात्रा: सौभाग्यशाली है वो भूमि जहां के सपूताें ने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया

ग्रामदानी गांव चावण्डिया के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का नामकरण गांव के ही वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 09, 2018, 05:35 AM IST

शहीद सम्मान यात्रा: सौभाग्यशाली है वो भूमि जहां के सपूताें ने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया
ग्रामदानी गांव चावण्डिया के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का नामकरण गांव के ही वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए राइफलमैन जगदीश सिंह के नाम पर किया गया। इस दौरान सैनिक कल्याण बोर्ड अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर ने समारोह में कहा कि देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों तक का बलिदान देने वाले शहीदों का सम्मान करना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि वो धरती धन्य है जिसके बेटों ने देश के लिए प्राणों काे बलिदान कर दिया हो। उन्होंने बताया कि 1999 के कारगिल युद्ध से पहले शहीद हुए सैनिक को उतना सम्मान तथा उसके परिजनों को सरकार की तरफ से सहयोग नहीं मिला है, इसलिए राज्य सरकार ने तय किया है कि 1999 से पहले शहीद हुए सैनिक के परिजनों में से किसी एक को सरकारी सेवा में नौकरी देने का कार्य किया जाए। इस अवसर पर उन्होंने स्वयं के खर्च से गांव में शहीद जगदीश सिंह की मूर्ति लगवाने की बात कही। समारोह में चावण्डिया के ही 1962 के युद्ध में शहीद हुए लादूसिंह तथा जगदीश सिंह के परिजनों को सम्मानित किया गया। इस दौरान विधायक श्रीराम भींचर तथा कर्नल जगदीश सिंह ने भी समारोह को संबोधित किया। इससे पूर्व उन्होंने बोरावड़ में शहीद मुनीर खां, सबलपुर में शहीद ओंकार सिंह, कालवा में शहीद किशन सिंह, नारायण राम तथा किशन सिंह, दाबड़िया में मांगूराम के परिजनों को भी सम्मानित किया। इस दौरान भाजपा नेता नारायण सिंह, ग्रामदानी अध्यक्ष सज्जन सिंह, संपत सिंह राठौड़, जाखली सरपंच छत्रपाल सिंह, पूर्व डीईओ छोटूसिंह जाखली, ईश्वर सिंह, मुख्यमंत्री सैनिक कल्याण समिति सदस्य कर्नल जगदेव सिंह, जिला सैनिक कल्याण बोर्ड के कर्नल मदन सिंह जोधा, कर्नल मनोहर सिंह, ईश्वर सिंह, लादूसिंह, विक्रम सिंह, हेमराज, मुक्तिराम, केशरसिंह सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे। वहीं इससे पूर्व ग्रामदानी अध्यक्ष सज्जन सिंह राठौड़ ने बोर्ड अध्यक्ष को ज्ञापन देते हुए बताया कि चावण्डिया में मकराना, बोरावड़ तथा भींचावा से सीधा सड़क मार्ग है। अगर सैनिक कल्याण बोर्ड मकराना उपखंड क्षेत्र के लिए चावण्डिया भूतपूर्व सैनिकों के लिए कार्यालय, कैंटीन बनाता है तो ग्रामदानी गांव में उन्हें आवश्यकतानुसार निशुल्क भूमि उपलब्ध करवा दी जाएगी।

बोरावड़. शिलालेख का अनावरण करते बोर्ड अध्यक्ष बाजौर तथा अन्य अतिथि।

भास्कर संवाददाता| बोरावड़

ग्रामदानी गांव चावण्डिया के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का नामकरण गांव के ही वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए राइफलमैन जगदीश सिंह के नाम पर किया गया। इस दौरान सैनिक कल्याण बोर्ड अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर ने समारोह में कहा कि देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों तक का बलिदान देने वाले शहीदों का सम्मान करना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि वो धरती धन्य है जिसके बेटों ने देश के लिए प्राणों काे बलिदान कर दिया हो। उन्होंने बताया कि 1999 के कारगिल युद्ध से पहले शहीद हुए सैनिक को उतना सम्मान तथा उसके परिजनों को सरकार की तरफ से सहयोग नहीं मिला है, इसलिए राज्य सरकार ने तय किया है कि 1999 से पहले शहीद हुए सैनिक के परिजनों में से किसी एक को सरकारी सेवा में नौकरी देने का कार्य किया जाए। इस अवसर पर उन्होंने स्वयं के खर्च से गांव में शहीद जगदीश सिंह की मूर्ति लगवाने की बात कही। समारोह में चावण्डिया के ही 1962 के युद्ध में शहीद हुए लादूसिंह तथा जगदीश सिंह के परिजनों को सम्मानित किया गया। इस दौरान विधायक श्रीराम भींचर तथा कर्नल जगदीश सिंह ने भी समारोह को संबोधित किया। इससे पूर्व उन्होंने बोरावड़ में शहीद मुनीर खां, सबलपुर में शहीद ओंकार सिंह, कालवा में शहीद किशन सिंह, नारायण राम तथा किशन सिंह, दाबड़िया में मांगूराम के परिजनों को भी सम्मानित किया। इस दौरान भाजपा नेता नारायण सिंह, ग्रामदानी अध्यक्ष सज्जन सिंह, संपत सिंह राठौड़, जाखली सरपंच छत्रपाल सिंह, पूर्व डीईओ छोटूसिंह जाखली, ईश्वर सिंह, मुख्यमंत्री सैनिक कल्याण समिति सदस्य कर्नल जगदेव सिंह, जिला सैनिक कल्याण बोर्ड के कर्नल मदन सिंह जोधा, कर्नल मनोहर सिंह, ईश्वर सिंह, लादूसिंह, विक्रम सिंह, हेमराज, मुक्तिराम, केशरसिंह सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे। वहीं इससे पूर्व ग्रामदानी अध्यक्ष सज्जन सिंह राठौड़ ने बोर्ड अध्यक्ष को ज्ञापन देते हुए बताया कि चावण्डिया में मकराना, बोरावड़ तथा भींचावा से सीधा सड़क मार्ग है। अगर सैनिक कल्याण बोर्ड मकराना उपखंड क्षेत्र के लिए चावण्डिया भूतपूर्व सैनिकों के लिए कार्यालय, कैंटीन बनाता है तो ग्रामदानी गांव में उन्हें आवश्यकतानुसार निशुल्क भूमि उपलब्ध करवा दी जाएगी।

हरनावां| देश के लिए अपनी जान देकर शहीद होने वाले भारत मां के अमर सपूतों का देवताओं की तरह सम्मान होना चाहिए। ये बात शुक्रवार को शहीद सम्मान यात्रा के दौरान ग्राम बनरेल में शहीद गोपालसिंह व शहीद किशोरसिंह के स्मारक पर सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर ने कही। कर्नल मदनसिंह जोधा ने कहा कि गांव बनरेल की धरती सौभाग्यशाली है जहां के दो-दो वीर सपूतों ने देश के लिए बलिदान दिया। परबतसर विधायक मानसिंह किनसरिया ने शहीद किशोर सिंह के स्मारक पर विधायक कोटे से चारदीवारी बनाने की घोषणा की। ग्राम बींठवालिया, जावला और ललाणा में भी शहीद विरांगनाओं का सम्मान किया। कार्यक्रम में कर्नल जयेन्द्र सिंह, नारायणसिंह आदि ने संबोधित किया व युवा प्रभारी पवनसिंह बनरेल द्वारा मंच का संचालन किया गया। इस अवसर पर उम्मेदसिंह राजावत, वीरांगना आनंद कंवर आदि मौजूद थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Nawa News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: शहीद सम्मान यात्रा: सौभाग्यशाली है वो भूमि जहां के सपूताें ने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Nawa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×