Hindi News »Rajasthan »Nawa» पीलवा व पीह में शहीद के परिजनों का सम्मान, कड़वासडा की ढाणी में शहीद की बेटी बोली- पापा की शहादत पर गर्व है

पीलवा व पीह में शहीद के परिजनों का सम्मान, कड़वासडा की ढाणी में शहीद की बेटी बोली- पापा की शहादत पर गर्व है

भास्कर संवाददाता| हरनावां/पीह शहीदों की वजह से ही आज हम और हमारा देश सुरक्षित है। इसलिए देश के प्रत्येक नागरिक...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 05:40 AM IST

पीलवा व पीह में शहीद के परिजनों का सम्मान, कड़वासडा की ढाणी में शहीद की बेटी बोली- पापा की शहादत पर गर्व है
भास्कर संवाददाता| हरनावां/पीह

शहीदों की वजह से ही आज हम और हमारा देश सुरक्षित है। इसलिए देश के प्रत्येक नागरिक के मन में शहीदों के प्रति सम्मान होना चाहिए। यह बात शुक्रवार को सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर ने कही। बाजौर पीलवा स्थित एक ढाणी में शहीद हनुमान सिंह के परिवार के सम्मान में आयोजित समारोह में बतौर मुख्य वक्ता के रूप में बोल रहे थे। उनका कहना था कि शहीद किसी जाति, धर्म, संप्रदाय अथवा गांव-शहर व किसी राज्य के नहीं होते, वह देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करते हैं। जिसके कारण उनके त्याग को देशवासियों द्वारा युगों -युगों तक याद किया जाता हैं। यही शहीदों के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होती हैं।

परबतसर विधायक मानसिंह किनसरिया ने कहा कि शहीद देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों तक का बलिदान दे देते है। उन्होंने कहा कि सरकार के नियमों में शहीदों की मूर्ति बनाना न होने के चलते यह बात सैनिक बोर्ड अध्यक्ष बाजौर को अखरी और उन्होंने अपनी जेब से 25 करोड़ रुपए लगा कर शहीदों की प्रतिमा लगाने की जिम्मेदारी उठाई है। जो क्षेत्र में करीब 1100 शहीदों की प्रतिमाएं आगामी दिनों में जल्द लगा दी जाएगी। इस दौरान गांव चारणवास, मुण्डोता, खोखरिया व पीह में शहीद पांचूराम माली की वीरांगना का सम्मान किया गया। अध्यक्ष बाजौर ने शहीद की वीरांगना सरोज देवी और शहीद के पुत्र पवन कुमार को सम्मानित किया। इस दौरान सैनिक कल्याण बोर्ड अध्यक्ष बाजौर के साथ आए ब्रिगेडियर फतेह सिंह, कर्नल मदन सिंह जोधा ने भी विचार व्यक्त किए। समारोह में बाबूलाल बोहरा, पूर्व सरपंच भंवरलाल, पूर्व पंचायत समिति सदस्य गोविंद सिंह, कमल किशोर भूतड़ा, उत्तम सिंह, जालमसिंह व पीह में हुए कार्यक्रम में सरपंच ओम प्रकाश , भाजपा नेता कर्णवीर सिंह, आनंद सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

गोटन| ग्राम पंचायत कड़वासड़ों की ढाणी स्थित शहीद भागीरथ कड़वासरा की पुण्यतिथि पर शहीद स्मारक पर पांचाला धाम के महंत योगेश्वर सूरजनाथ महाराज के सान्निध्य में शहीद भागीरथ कड़वासड़ा को श्रद्धांजलि दी। महाराज ने कहा कि शहीद की शहादत को भुलाया नहीं जा सकता है। संत पांचाराम महाराज, रामदास श्यामदास महाराज समाधि स्थल के महंत गरीबबन्धुदास महाराज, सरपंच किस्तुरराम कड़वासड़ा, हरसोलाव सरपंच सुरेश गुर्जर, रामनिवास ताडा, जिला सैनिक कल्याण बोर्ड अधिकारी नागौर कर्नल पीएस राठौड़ व शंकरसिंह राठौड़, हप्पाराम कड़वासड़ा, रामचन्द्र कड़वासड़ा सहित ग्रामीणों ने श्रद्धांजलि दी। शहीद की पुत्री सुष्मिता ने अपने शहीद पिता की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते हुए कहा कि मेरे पापा देश की सेवा करते हुए शहीद होने पर हमें गर्व है।

बोर्ड अध्यक्ष बाजौर को दिया ज्ञापन

शहीद सम्मान यात्रा के साथ पीह पहुंचे राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजौर को शहीद पांचूराम के परिजनों व ग्रामीणों ने विभिन्न समस्याओं को लेकर ज्ञापन दिया। जिसमें उन्होंने राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पीह का नामकरण शहीद पांचूराम के नाम से कराने, राज्य सरकार द्वारा शहीद पैकेज के अनुसार 25 बीघा जमीन का आवंटन कराने, विधायक मानसिंह किनसरिया द्वारा ग्राम पंचायत पीह के शहीद स्मारक की चारदीवारी की घोषणा को जल्द पूरा कराने, पीडब्ल्यूडी मंत्री यूनुस खान द्वारा गांव पीह में एक किलोमीटर डामरीकरण सड़क की घोषणा को जल्द पूरा कराने की मांग की। गौरतलब है कि शहीद सम्मान यात्रा पूरे प्रदेश में जाकर शहीदों के परिजनों का सम्मान कर उनकी समस्याओं का निस्तारण करने का काम कर रही है।

इस दौरान कर्नल जगदेवसिंह, कर्नल मदन सिंह जोधा, कर्नल मनोहर सिंह आदि भी अध्यक्ष बाजौर के साथ मौजूद थे।

पीह

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Nawa News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: पीलवा व पीह में शहीद के परिजनों का सम्मान, कड़वासडा की ढाणी में शहीद की बेटी बोली- पापा की शहादत पर गर्व है
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Nawa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×