Hindi News »Rajasthan »Nawa» कांग्रेस-भाजपा के नेता भी रैली में हुए शामिल, कहा- स्वाभिमान पर आंच आई तो सरकार के लिए बन जाएगी खतरे की घंटी

कांग्रेस-भाजपा के नेता भी रैली में हुए शामिल, कहा- स्वाभिमान पर आंच आई तो सरकार के लिए बन जाएगी खतरे की घंटी

भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी शहर में जाट महासभा के तत्वावधान में बुधवार को सर्वसमाज के साथ स्वाभिमान रैली का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 09, 2018, 06:25 AM IST

कांग्रेस-भाजपा के नेता भी रैली में हुए शामिल, कहा- स्वाभिमान पर आंच आई तो सरकार के लिए बन जाएगी खतरे की घंटी
भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी

शहर में जाट महासभा के तत्वावधान में बुधवार को सर्वसमाज के साथ स्वाभिमान रैली का आयोजन किया गया। आनंदपाल एनकाउंटर में मुख्य भूमिका में रहे कुचामनसिटी के पूर्व सीओ और गत दिवस आरपीए जयपुर में तैनात किए सीओ विद्याप्रकाश को गत दिनों एपीओ करने के सरकार के फैसले का विरोध किया। इस स्वाभिमान रैली के दौरान जाट समाज के नेताओं के साथ ही अन्य वक्ताओं ने भी भाजपा सरकार, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रतिपक्षी दलों के नेताओं के साथ ही अपने प्रतिद्वंद्वियों पर जमकर भड़ास निकाली। खास बात यह रही कि रैली के ऐन पहले मंगलवार को सरकार के निर्देश पर पुलिस मुख्यालय से 39 आरपीएस अधिकारियों की तबादला-पोस्टिंग सूची में आरपीएस अधिकारी विद्याप्रकाश को आरपीए जयपुर में पोस्टिंग दी गई थी।

वक्ताओं ने इसे भी सरकार की सोची-समझी रणनीति और रैली का दबाव बताते हुए कहा कि दबाव में उन्हें आरपीए में लगा दिया गया। जबकि ऐसे कर्त्तव्यनिष्ठ और ईमानदारी अधिकारी को फील्ड में पोस्टिंग दी जानी चाहिए। वक्ताओं ने आरपीएस अधिकारी विद्याप्रकाश को पहले एपीओ और फिर आरपीए में पोस्टिंग देने के नाम पर सरकार द्वारा प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए फील्ड में पोस्टिंग देने की मांग की। रैली के मंच पर मौजूद करीब 3 दर्जन नेताओं में से 90 फीसदी नेता जाट समाज से थे। सभी वक्ताओं ने अपने भाषण में कहा कि दबाव में आकर सरकार द्वारा गलत फैसला लेने और एपीओ करने को बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि ईमानदारी अधिकारी के साथ ऐसा व्यवहार किया जाना किसी भी सूरत में उचित नहीं है और न ही इसे बर्दाश्त किया जाएगा। इस दौरान रैली के आखिर में यह भी तय किया कि कोर कमेटी का जिला स्तर पर विस्तार किया जाएगा और विशेष बैठक बुलाकर मुख्यमंत्री की गौरव यात्रा का विरोध करने अथवा नहीं करने पर निर्णय लिया जाएगा। इस मौके पर जाट महासभा के अध्यक्ष दानाराम राठी, नागौर नगरपरिषद सभापति कृपाराम सोलंकी, पूर्व विधायक महेंद्र चौधरी, भाजपा नेता ज्ञानाराम रणवां, सरपंच संघ अध्यक्ष लालाराम अणदा, संदीप चौधरी, कांग्रेस नेता रामनिवास पोषक, विवेक कालेर, दीपक नेहरा, रामनिवास गावडिय़ा, राजू मूण्ड, परबतसर के कांग्रेस नेता लच्छाराम बडारड़ा, बन्नाराम रणवां, डीडवाना के रामकरण पायली, दलित नेता हेमराज चावला, ब्राह्मण महासभा के प्रदेश प्रवक्ता विजय महर्षि, सुभाष जैन समेत करीब 3 दर्जन नेताओं ने स्वाभिमान रैली को संबोधित किया।

इस मौके पर भूराराम शेषमा, नवल मूण्ड, जयप्रकाश पूनिया, ओमप्रकाश बुरड़क, राजू मूण्ड, प्रकाश भाकर, जोगेंद्र ताखर, सुनील पोषक, धन्नाराम फौजी, नारायणराम दहिया, भंवराराम राठी, रिछपाल फोगाट, मनीष गावड़िया, मुकेश रणवां आदि उपस्थित थे।

कुचामन में बड़ी संख्या में जुटे जाट समाज और सर्व समाज के लोग, अब जिला स्तर पर किया जाएगा कोर कमेटी का गठन, गौरव यात्रा के विरोध का उसमें लेंगे निर्णय

1 किमी लंबा जुलूस, जेई व फावड़े लेकर पहुंचे लोग, रैली को बताया गैर राजनैतिक

स्वाभिमान रैली का उद्देश्य एक पुलिस अफसर को न्याय दिलाने का रहा। इस दौरान पार्षद और कांग्रेस नेता रामनिवास पोषक, भाजपा नेता ज्ञानाराम रणवां, लालाराम अणदा, कांग्रेस नेता दीपक नेहरा, रामनिवास गावड़िया, विवेक कालेर, डीडवाना से कांग्रेस नेता रामकरण पायली और परबतसर से लच्छाराम बडारड़ा व बन्नाराम रणवां ने भी सरकार को जमकर कोसा। इस दौरान कार्यक्रम में सभी वक्ताओं ने राज्य सरकार की ओर से गत दिनों कुचामन सीओ विद्याप्रकाश को एपीओ किए जाने काे मामले को अनुचित बताते हुए इस फैसले को गलत बताया। साथ ही ऐसे अधिकारियों की फील्ड में तैनाती की पैरवी की।

सरकार पर समाज को प्रताड़ित किए जाने का भी आरोप

पौने 5 साल में अपराध बढ़े, जाट अधिकारी हुए प्रताड़ित

नावां के पूर्व विधायक व पीसीसी महासचिव महेंद्र चौधरी ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने विधायक विजयसिंह चौधरी का नाम लिए बगैर कहा कि उनके करीब पौने 5 साल के कार्यकाल में अपराध परवान पर रहा। हालांकि पुलिस उप अधीक्षक के रूप में विद्याप्रकाश ने आकर यहां गलत काम बंद कराए। उन्होंने वर्तमान सरकार द्वारा जाट समाज के अधिकारियों को प्रताड़ित करते हुए लंबी सूची गिनवा डाली।

1. कांग्रेस

समाज के लिए कर सकते हैं टिकट का बलिदान

इधर, भाजपा नेता ज्ञानाराम रणवां ने भी अपने भाषण में पार्टी संगठन से ऊपर उठकर जाट समाज के स्वाभिमान के लिए ऐसी टिकट का बलिदान करने से पीछे नहीं हटने की बात कह डाली। रणवां ने कहा कि वे तो हर परिस्थितियों में समाज के साथ है और रहेंगे। इस दौरान उन्होंने कहा कि वे हमेशा समाज के हित और विकास के लिए सदैव समाज के साथ है और अागे भी हमेशा समाज के साथ ही खड़े नजर आएंगे।

2. भाजपा

वक्ता बोले- मैडल देने की बजाए किया एपीओ

रैली में डिप्टी एसपी विद्याप्रकाश के एपीओ करने के मुद्दे पर सभी वक्ताओं ने कहा कि पूरे प्रदेश को गैंगवार से आजाद कराने वाले अफसर को मैडल देने की बजाय सरकार ने एपीओ कर प्रताड़ित कर दिया। वक्ताओं ने कहा कि किसान अन्नदाता है और अगर उसके उसके स्वाभिमान को चोट पहुंचाई जाएगी तो सरकार के लिए खतरे की घंटी है। युवा नेताओं ने कहा कि अभी तो सिर्फ कुचामन में रैली हुई है। यदि मान-सम्मान पर आंच आई तो जयपुर और दिल्ली तक को हिला दिया जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nawa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×