--Advertisement--

वन्यजीव गणना में चार पैंथर दिखे, 440 वन्यजीव बढ़े

भास्कर न्यूज |सीकर/नीमकाथाना वन्य जीव गणना 2018 की रिपोर्ट अच्छी खबर लेकर आई है। वन विभाग को इस बार जिले में चार...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 05:40 AM IST
भास्कर न्यूज |सीकर/नीमकाथाना

वन्य जीव गणना 2018 की रिपोर्ट अच्छी खबर लेकर आई है। वन विभाग को इस बार जिले में चार पैंथर मिले हैं। वन्यजीवों की गणना के दौरान पहली बार गणेश्वर इलाके में दो पैंथर दिखे। पाटन के कुड़ी धाम पर भी पैंथर दिखा। बालेश्वर के पास भी पैंथर की दहाड़ सुनी गई। सोमवार देर रात करीब साढ़े बारह बजे भीतरली गांवड़ी में कुल्डा वाले बालाजी मंदिर के रास्ते पहाड़ी पर पैंथर दिखा। दूसरा पैंथर लादाला गोशाला के पास रात करीब 2 बजे दिखाई दिया। नीमकाथाना रेंजर देवेंद्रसिंह राठौड़ ने बताया कि पूर्व की गणना में केवल पैंथर की दहाड़ ही सुनी थी। इस बार दो पैंथर दिखे हैं। डीएफओ राजेंद्र हुड्डा का कहना है कि पाटन में एक व बालेश्वर-गणेश्वर के वाटर पाइंटों पर दो पैंथर दिखाई दिए है। वर्ष 2014 में 5008 वन्यजीव होने की पुष्टि की थी। वर्ष 2015 में 5423 व वर्ष 2016 में 5934 वन्यजीव होने की पुष्टि की है। 2017 की गणना में 6691 वन्य जीव दिखाई दिए। इस साल गणना में 7131 वन्यजीव दिखाई दिए। 2018 में 440 जीवों की संख्या बढ़ी है।

ऐसे बढ़े रहे वन्यजीव

प्रजाति 2017 2018

बघेरा 3 4

गीदड़ 355 378

जरख 11 11

जंगली बिल्ली 72 83

मरु बिल्ली 21 21

लोमड़ी 54 57

मरु लोमड़ी 34 36

भेड़िया 14 17

बिजू छोटा 24 38

सांभर 17 18

नीलगाय 1984 2119

चिंकारा 848 871

सेही 86 88

मोर 3168 3390